जिसके समर्थन में मांग रहे थे वोट उसी प्रत्याशी का नाम भूले राजब्बर 

FirstIndia Correspondent Published Date 2018/11/29 09:12

कुराबड़(उदयपुर)। उदयपुर ग्रामीण विधानसभा क्षेत्र में कांग्रेस प्रत्याशी के समर्थन में जनसभा में राजब्बर प्रत्याशी का नाम तक भूल गए और विवेक कटारा की जगह विनय के पक्ष में वोट मांगे। हालांकि सभा समाप्त होने पर खुद विवेक ने अपना नाम विनय नहीं विवेक बताया तो गलती का एहसास हुआ और पासा बदल दिया। 

स्टार प्रचारक राजब्बर ने उदयपुर ग्रामीण ओर वल्लभनगर नगर विधानसभा क्षेत्र में कांग्रेस के प्रत्यासियों के समर्थन में वोट मांगे। जावर माइंस क्षेत्र के जावर माता और कुराबड़ क्षेत्र के बम्बोरा में अपने सम्बोधन में जमकर हमला बोला। राज बब्बर ने नाम लिए बगैर प्रधानमंत्री और भाजपा अध्यक्ष पर जमकर हमला बोला और कहा देश को लूटने वाले दो बड़े लुटेरे इस देश मे आ गए है। जो जनता और देश को खोखला कर रहे हैं। आज देश मे छोटा लुटेरा ओर बड़ा लुटेरा नाम से जाना जाने लगा है। 

राजब्बर ने कहा की कांग्रेस की सरकार आएगी तो दस दिन में हम वो कर दिखायेंगे जो कभी नहीं हुआ। हमने कर्नाटक की जनता से वादा किया था और वो वादा दस दिन में ही पूरा किया। सुबह 11 बजे की सभा होने वाली शाम को 4 बजे हुई। राज बब्बर ठीक 3.40 पर आए और 4 बजे सभा के दौरान मात्र 10 मिनिट के भाषण में केंद्र सरकार पर जनकर हमला बोला और कहा ऐसी किसान विरोधी सरकार को उखाड़ फेंक देने का वक्त आ गया है। आप हाथ के पक्ष में मतदान करके एक नया राजस्थान बनाये। आज आदिवासी अंचल में बाहर के लोग आकर मजदूरी कर कमा खा रहे है और बेचारे यहाँ के आदिवासी मजदूर मजदूरी करते करते कमर टूट जाती  है और उनको मूल मेहनताना भी नही मिल पाता। आज क्षेत्र में जावर माइंस जैसे विश्व पटल पर माइंस है लेकिन वर्तमान सरकार की बेरुखी के कारण यहां रोजगार का अभाव है। 

विवेक को भूल विनय के लिए मांगा वोट

उत्तरप्रदेश कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष राजब्बर ने उदयपुर ग्रामीण विधानसभा क्षेत्र के प्रत्याशी विवेक कटारा का नाम भूल गए और मंच से विनय के नाम पर वोट मांगे। 10 मिनिट के भाषण में 3 बार विनय विनय नाम लेके समर्थन मांगा। जब विवेक ने खुद अपना नाम विनय नही बल्कि विवेक बताया तो राज बब्बर ने तत्काल हरकत में आकर मंच से बोले कि ये प्रत्यासी युवा, शुशील, नेक और विनय से भरा हुआ विवेक है। इसीलिए हमने विवेक को विनय बनाया है और इसे जितना है। इस दौरान विवेक के भाषण के दौरान एक नेताजी ने कहा कि जल्द खत्म करो भाषण, तो विवेक उन पर झल्लाहट से बोल पड़े मैं दूंगा भाषण और देने दो, क्यों बार बार टोक रहे हो। 

...कुराबड़ (उदयपुर) संवाददाता नारायण मेघवाल की रिपोर्ट 

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in