VIDEO: विधायकों की चिट्ठी के मुद्दे पर कटारिया का बयान, कहा- मैंने तो मीडिया के माध्यम से जाना था चिट्ठी के बारे में

VIDEO: विधायकों की चिट्ठी के मुद्दे पर कटारिया का बयान, कहा- मैंने तो मीडिया के माध्यम से जाना था चिट्ठी के बारे में

जयपुर: राजस्थान बीजेपी में विधानसभा की कार्यवाही में बोलने का अवसर देने में भेदभाव करने को लेकर लिखि गई चिट्ठी से मची हलचल अभी थमने का नाम ही नहीं ले रही है. नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया ने विधायकों की चिट्ठी के मुद्दे पर फर्स्ट इंडिया से खास बातचीत करते हुए कहा कि चिट्ठी के बारे में मैंने तो मीडिया के माध्यम से जाना था. 

कटारिया ने पूरे मामले पर कहा कि मैंने राज्यपाल के अभिभाषण पर बुला बुलाकर विधायकों की व्यवस्था की थी. इस दौरान अधिकांश विधायक बोले हैं. सदन द्वारा स्थगन पर पर्ची सिस्टम को खत्म किया गया है. इस पर मैंने कहा कि स्थगन प्रस्ताव को बढ़ाओ, स्थगन तो केवल विपक्ष लगाएगा तो हम फायदे में है. आवश्यक विषय को हमारे MLA को प्राथमिकता दिलाते. स्पीकर खुद ग्रेविटी वाले मुद्दे पर ध्यान देते. ऐसे में इस पत्र को लेकर किसी न किसी का तो षड्यंत्र होगा ही.  

 

बजट बहस में ओपनिंग करवाने का आग्रह ही मैं कैलाश मेघवल से करूंगा: 
उन्होंने फर्स्ट इंडिया से बातचीत करने हुए कहा कि बजट पेश होगा तो बजट बहस में ओपनिंग करवाने का आग्रह ही मैं कैलाश मेघवल से करूंगा. हमने 'राज्यपाल अभिभाषण पर फ्रंट लाइन के लोगों को पहले मौका दिया और हमारा यह प्रयोग सफल भी रहा. जिसने इच्छा जाहिर की उसे मौका दिया गया. ऐसे में पूछूंगा किस भावना से विधायकों ने पत्र लिखा है. मैं न किसी को बड़ा मानता हूं न छोटा मानता हूं. हालांकि पूछताछ के बाद पता चलेगा पत्र का कारण क्या है? बाकी बेमौसम बारिश हुई है तो अब पता चलेगा कि BJP संगठन कार्यकर्ताओ के भरोसे चलता है. 

और पढ़ें