जयपुर VIDEO: कैसे होगा गहलोत मंत्रिपरिषद फेरबदल और विस्तार! बाकायदा इसके लिए तय किया जा रहा फॉर्मूला

VIDEO: कैसे होगा गहलोत मंत्रिपरिषद फेरबदल और विस्तार! बाकायदा इसके लिए तय किया जा रहा फॉर्मूला

जयपुर: गहलोत मंत्रिपरिषद फेरबदल और विस्तार कैसे होगा ? बाकायदा इसके लिए फॉर्मूला तय किया जा रहा है. 12 से लेकर 15 मंत्री बदले जाने की बात सामने आ रही है. 12 में तीन वो हैं जिनके पास दोहरी जिम्मेदारी है. ऐसे में एक व्यक्ति एक पद सिद्धांत के तहत कुल 15 मंत्री बदले जा सकते है. हालांकि इस पर अंतिम फैसला  गहलोत की राहुल और प्रियंका से चर्चा के बाद ही होगा. SC,ST, माइनोरिटी,जाट, ब्राह्मण पर फोकस रहेगा.

एक जमाने में कांग्रेस का परंपरागत वोट बैंक ये ही था. बदलती सियासत में राजपूत, मूल ओबीसी,गुर्जर को साधने की बात, जिस जाति का मंत्री हटेगा संभव है उसी वर्ग से 'रिप्लेस' किया जाएगा. युवा और महिला वर्ग को प्रमुखता से लेने की बात सामने आ रही है. जो मंत्री हटेंगे उन्हें संगठन में जिम्मेदारी दी जाएगी. 

कुछ AICC में  और कुछ पीसीसी में शिफ्ट होंगे. पहली बार बने विधायक को मंत्री नहीं बनाया जाएगा, लेकिन जो पहले सांसद रह चुका,वो मंत्री बन सकता है. पहली बार बने विधायक को संसदीय सचिव बनाने की बात सामने आ रही है. पायलट कैंप से करीब तीन या चार मंत्री होंगे. सीपी जोशी कैंप से भी दो मंत्री बनाए जा सकते है. 

सीएम गहलोत को पूरी कवायद में फ्री हैंड मिलेगा. फॉर्मूले के तहत गृह ,वित्त महकमों में मंत्री बनाए जा सकते है. फिलहाल इन दोनों मंत्रालयों का चार्ज  गहलोत के पास है. निर्दलीय विधायकों में संयम लोढ़ा ,महादेव सिंह खंडेला, बाबू लाल नागर को मंत्री बनाया जा सकता है. BSP से कांग्रेस में आए विधायकों में राजेंद्र गुढ़ा का नंबर लग सकता है. अन्य विधायकों को संसदीय सचिव बनाया जाएगा. सीएम गहलोत सभी निर्दलीय और बसपा से कांग्रेस में आए विधायकों को साथ लेकर चलेंगे.

और पढ़ें