Rajasthan: महंगाई को लेकर कांग्रेस की महारैली, आज बैठक में रूपरेखा तय करने को लेकर होगी चर्चा; जयपुर पहली बार कांग्रेस की राष्ट्रीय महारैली का बनेगा साक्षी

Rajasthan: महंगाई को लेकर कांग्रेस की महारैली, आज बैठक में रूपरेखा तय करने को लेकर होगी चर्चा; जयपुर पहली बार कांग्रेस की राष्ट्रीय महारैली का बनेगा साक्षी

जयपुर: 12 दिसंबर को प्रस्तावित महंगाई हटाओ रैली (Congress Rally In Jaipur) को अब जयपुर शिफ्ट किए जाने के बाद रैली की तैयारियां और तेज हो गई हैं. इसके लिए कांग्रेस प्रदेश प्रभारी अजय माकन और एआईसीसी के संगठन महासचिव केसी वेणुगोपाल भी आज सुबह इंडिगो की फ्लाइट से दिल्ली से जयपुर पहुंच गए हैं. एयरपोर्ट पर दोनों वरिष्ठ कांग्रेसी नेताओं का जोरदार स्वागत किया गया. इस दौरान पीसीसी चीफ गोविंद डोटासरा, वरिष्ठ कांग्रेस नेता धर्मेंद्र राठौड़, PHED मंत्री महेश जोशी, रफीक खान, पुष्पेंद्र भारद्वाज सहित कई कांग्रेसी नेता मौजूद रहे. 

एयरपोर्ट पर पीएचईडी मंत्री महेश जोशी ने फर्स्ट इंडिया न्यूज से कहा कि रैली को सफल बनाने के लिए जोर-शोर से तैयारियां की जा रही है. महंगाई से आम जनता बुरी तरह त्रस्त है. रैली में 2 लाख से ज्यादा लोगों की भीड़ जुटाएंगे. इसके साथ ही उन्होंने कहा कि कोरोना नहीं बढ़े, इस बात का पूरा ध्यान रखा जाएगा. एयरपोर्ट से वेणुगोपाल और माकन होटल मैरियट पहुंचे. अब 11.30 बजे मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के साथ विद्याधर नगर स्टेडियम का निरीक्षण करेंगे. पीसीसी चीफ डोटासरा और मंत्री महेश जोशी भी निरीक्षण में मौजूद रहेंगे. 

रैली स्थल के निरीक्षण के बाद वेणुगोपाल और माकन CMR पहुंचेंगे. वहां मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के साथ बैठक करेंगे. इस दौरान पीसीसी चीफ गोविंद सिंह डोटासरा भी मौजूद रहेंगे. इसके साथ ही मंत्री परिषद के सदस्य भी बैठक में मौजूद रहेंगे. बैठक में रैली की रूपरेखा तय करने को लेकर चर्चा होगी. दोपहर 2.30 बजे भी पीसीसी में रैली को लेकर चर्चा होगी. 

जयपुर पहली बार कांग्रेस की राष्ट्रीय महारैली का साक्षी बनेगा:
आपको बता दें कि राजधानी जयपुर पहली बार कांग्रेस की राष्ट्रीय महारैली का साक्षी बनेगा. ऐसा पहली बार होगा जब देश के तमाम कांग्रेस कार्यकर्ता और नेता जयपुर की राष्ट्रव्यापी रैली में शिरकत करेंगे. तैयारियों की कमान खुद मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने अपने हाथों में ले रखी है. पार्टी सूत्रों की माने तो मंच पर पार्टी के तमाम प्रदेशाध्यक्षों, राष्ट्रीय सचिवों, प्रदेश प्रभारियों, 3 राज्यों के मुख्यमंत्रियों को मंच पर जगह दी जाएगी. एक से अधिक मंच बनाए जा सकते है इसके अलावा पार्टी के राष्ट्रीय सचिवों, अग्रिम संगठनों के प्रमुखों, सांसदों, और पूर्व मुख्यमंत्रियों के लिए अलग-अलग बॉक्स बनाए जाएंगे. 

और पढ़ें