Rajasthan: कोरोना महामारी के दौरान सरकारी स्कूलों में बढ़े दाखिले, विद्यार्थियों की संख्या पहुंची करीब 90 लाख तक

Rajasthan: कोरोना महामारी के दौरान सरकारी स्कूलों में बढ़े दाखिले, विद्यार्थियों की संख्या पहुंची करीब 90 लाख तक

जयपुर: पिछले 18 महीनों से कोरोना की चुनौतियों के बाद भी सरकारी स्कूलों में विद्यार्थियों के आंकड़े राहत देने वाले हैं. कोरोना काल में हर क्षेत्र में आर्थिक संकट देखने को मिला. चाहे वो आम जनता का हो या फिर छोटे-मोटे उद्योग धंधे, लेकिन इस बीच इस साल सरकारी स्कूलों में नामांकन का ग्राफ काफी बढ़ा है. सत्र 2020-21 में जहां सरकारी स्कूलों में विद्यार्थियों की संख्या करीब 87 लाख थी जो अब 90 लाख के पास पहुंच चुकी है. 

कोरोना के बीच सरकारी स्कूलों में बढ़ता हुआ नामांकन शिक्षा विभाग के लिए राहत देने वाला रहा है. शिक्षा के क्षेत्र में राजस्थान का बढ़ता हुआ ग्राफ और देश में शिक्षा के क्षेत्र में प्राप्त राजस्थान का दूसरा स्थान कहीं ना कहीं शिक्षा के क्षेत्र में किए जा रहे कार्यों की विश्वास जताने वाला नजर आ रहा है. सत्र 2020-21 में जहां सरकारी स्कूलों में नामांकन 6 लाख 85 हजार तक बढ़ा था, तो वहीं इस साल अब तक करीब 3 लाख नामांकन की बढ़ोतरी हो चुकी है. इसके साथ ही आने वाले समय में करीब 2 से 3 लाख नामांकन और बढ़ोतरी की उम्मीद शिक्षा विभाग द्वारा की जा रही है. 

- प्रदेश में सरकारी स्कूलों में बढ़ता नामांकन राहत देने वाला
- इस साल अब तक करीब 3 लाख विद्यार्थियों का बढ़ा नामांकन
- सत्र 2020-21 में सरकारी स्कूलों में विद्यार्थियों की संख्या थी 87 लाख
- जो अब तक बढ़कर पहुंच चुकी करीब 90 लाख तक
- पिछले साल 6 लाख 50 हजार नये नामांकन बढ़े थे सरकारी स्कूलों में
- इस साल करीब 6 लाख नये नामांकन होने का शिक्षा विभाग का अनुमान
- अस्थाई प्रवेश और ऑनलाइन टीसी के लिए आवेदन से नामांकन और बढ़ने की उम्मीद

कोरोना के चलते प्रदेश के छोटे निजी स्कूलों के सामने आर्थिक संकट खड़ा हुआ और शिक्षा विभाग के रिकॉर्ड के अनुसार प्रदेश के करीब 7 हजार से ज्यादा छोटे निजी स्कूल बंद हो चुके हैं. जिसके चलते करीब 2 लाख से ज्यादा विद्यार्थियों ने सरकारी स्कूलों का रुख किया है, तो वहीं नौकरी जाने और छोटे-मोटे उद्योग धंधे बंद होने के चलते लोगों ने अपने बच्चों का प्रवेश सरकारी स्कूलों में करवाया है जिनका आंकड़ा करीब 1 लाख से पार दर्ज किया जा रहा है. 

 

शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह डोटासरा खुशी जताई: 
सरकारी स्कूलों में लगातार बढ़ रहे नामांकन को लेकर शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह डोटासरा खुशी जताते हुए कहते हैं कि "कोरोना काल में भी शिक्षा विभाग की ओर से शिक्षण कार्य के चलते लोगों का विश्वास अब सरकारी स्कूलों की ओर बढ़ा है. इसके साथ ही शिक्षा के क्षेत्र में राजस्थान का दूसरे पायदान पर काबिज होना भी गर्व की बात है. प्रदेश में खोले जा रहे अंग्रेजी माध्यम स्कूल भी एक मील का पत्थर साबित हो रहे हैं. जिसके चलते नामांकन में बढ़ोतरी दर्ज की जा रही है. 

कक्षा 9वीं से 12वीं तक प्रवेश की अंतिम तिथि 15 सितम्बर तय:
बहरहाल, प्रदेश की सरकारी स्कूलों में कक्षा 1 से लेकर 8वीं तक जहां पूरे साल प्रवेश प्रक्रिया जारी रहेगी तो वहीं कक्षा 9वीं से 12वीं तक प्रवेश की अंतिम तिथि 15 सितम्बर तय है. लेकिन प्रवेश को लेकर पिछली तीन बार तिथियों में बढ़ोतरी की गई. ऐसे में उम्मीद की जा रही है कि ऑनलाइन टीसी प्रक्रिया की नई कवायद के बाद प्रवेश की अंतिम तिथि 30 सितम्बर तक और बढ़ाई जा सकती है. 

और पढ़ें