Live News »

छेड़छाड़ से परेशान विवाहिता ने कलक्टर से लगाई न्याय की गुहार

छेड़छाड़ से परेशान विवाहिता ने कलक्टर से लगाई न्याय की गुहार

डूंगरपुर: जिले के आसपुर थाना क्षेत्र के गोल गांव निवासी छेड़छाड़ व दुष्कर्म के प्रयास के मामले पीड़ित एक महिला पिछले 10 दिन से न्याय के लिए दर-दर भटकने को मजबूर है. मामले के अनुसार आसपुर थाना क्षेत्र के गोल गांव निवासी एक महिला 19 अगस्त को आसपुर में एक दुकान पर कुछ सामान खरीदने गई थी इस दौरान दुकान मालिक भंवरलाल गर्ग ने महिला से छेड़छाड़ करते हुए दुष्कर्म का प्रयास किया. जिस पर महिला चिल्लाई और जैसे-तैसे दूकान मालिक से चंगुल से बचकर अपने घर पहुंची और अपने पति को आप-बीती सुनाई. 

पीड़िता ने कलक्टर से लगाई न्याय की गुहार: 
इसके बाद पीडिता ने अपने पति के साथ आसपुर थाने पहुंचकर आरोपी दुकान मालिक के खिलाफ मामला दर्ज करवाया, लेकिन अभी तक पुलिस ने आरोपी की गिरफ़्तारी नहीं किया है. इधर घटना के इतने दिन बाद भी पुलिस की ओर से कोई कार्रवाई नहीं होने पर पीडिता शुक्रवार को अपने पति के साथ कलेक्ट्रेट पहुंची और कलक्टर को ज्ञापन देते हुए न्याय की गुहार लगाई है.  
 

और पढ़ें

Most Related Stories

डूंगरपुर: कलयुगी बेटे ने की पीट-पीट कर की बुजुर्ग मां की हत्या, बीवी से हुआ था झगड़ा

डूंगरपुर: कलयुगी बेटे ने की पीट-पीट कर की बुजुर्ग मां की हत्या, बीवी से हुआ था झगड़ा

डूंगरपुर: जिले के दोवड़ा थाना क्षेत्र के देवसोमनाथ गांव में एक कलयुगी बेटे द्वारा अपनी बुजुर्ग मां की पीट-पीट कर हत्या कर देने का मामला सामने आया है. इधर घटना के बाद पुलिस ने आरोपी बेटे को हिरासत में ले लिया है. 

बड़ी बेहरमी से अपनी मां की पीट-पीट कर हत्या कर दी:  
पुलिस के अनुसार दोवड़ा थाना क्षेत्र निवासी 32 वर्षीय देवीलाल का अपनी पत्नी से किसी बात को लेकर विवाद हुआ था विवाद के बाद देवीलाल अपनी पत्नी के साथ मारपीट कर रहा था. इस दौरान देवीलाल की मां ने अपने बेटे देवीलाल को रोकने का प्रयास किया तो देवीलाल ने अपनी मां के साथ भी मारपीट की. वहीं मां से मारपीट करने पर देवीलाल की पत्नी अपने बच्चों के साथ अपने पीहर चली गई. इसके बाद देवीलाल ने बड़ी बेहरमी से अपनी मां की पीट-पीट कर हत्या कर दी और फरार हो गया. 

{related}

मृतका के पति ने मामले की जानकारी पुलिस को दी:
इधर जब मृतका का पति अपने घर लौटा था देखा की उसकी पत्नी लहूलुहान हालत में घर में पड़ी है जिस पर मृतका के पति ने मामले की जानकारी पुलिस को दी. सूचना पर पुलिस मौके पर पहुंची और महिला के शव को जिला अस्पताल की मोर्चरी में रखवाया. वहीं आरोपी बेटे को पुलिस ने हिरासत में लिया तो उसने पूरी कहानी पुलिस को बया की. पुलिस ने जिला अस्पताल में पोस्टमार्टम के बाद शव परिजनों के सुपुर्द किया. वहीं हत्या का मामला दर्ज कर लिया है. पुलिस हिरासत में लिए आरोपी बेटे से पूछताछ कर रही है. 

राज्यसभा सांसद डॉ. किरोड़ीलाल मीणा का डूंगरपुर दौरा, बीटीपी के दो विधायकों से बंद कमरे में की चर्चा

राज्यसभा सांसद डॉ. किरोड़ीलाल मीणा का डूंगरपुर दौरा, बीटीपी के दो विधायकों से बंद कमरे में की चर्चा

डूंगरपुर: भाजपा नेता व राज्यसभा सांसद डॉ किरोड़ीलाल मीणा मंगलवार को डूंगरपुर जिले के दौरे पर रहे. अपने दौरे के दौरान डूंगरपुर सर्किट हाउस पहुंचने पर बीटीपी विधायकों व अन्य एसटी नेताओं ने डॉ किरोड़ीलाल मीणा का स्वागत किया. सर्किट हाउस में डॉ किरोड़ी लाल मीणा ने डूंगरपुर हिंसा से जुड़े मामले में जनसुनवाई की.

निर्दोष लोगो को फंसाने और बर्बरता बरतने के आरोप लगाए: 
वहीं बंद कमरे में बीटीपी के विधायक राजकुमार रोत व रामप्रसाद डिन्डोर से हिंसा से जुड़े मामले में चर्चा की. इधर इसके बाद राज्यसभा सांसद डॉ किरोड़ीलाल मीणा मीडिया से मुखातिब हुए. इस दौरान उन्होंने डूंगरपुर हिंसा मामले में पुलिस पर निर्दोष लोगो को फंसाने और बर्बरता बरतने के आरोप लगाए. उन्होंने कहा की पुलिस ने जो लोग हिंसा में शामिल नहीं थे उनके नाम भी मुकदमों में डाले है और उन्हें प्रताड़ित किया जा रहा है. वहीं उन्होंने हिंसा प्रभावित लोगों के नुकसान की भरपाई की मांग भी राज्य सरकार से की है.

{related}

6 फीसदी आरक्षण आदिवासियों को मिलना चाहिए: 
इस दौरान टीएसपी क्षेत्र में आदिवासी संगठनों द्वारा स्टेट में एसटी वर्ग के 12 फीसदी आरक्षण में से 6 फीसदी आरक्षण प्रशासनिक सेवाओं में टीएसपी क्षेत्र के आदिवासियों को दिए जाने की मांग के सवाल पर डॉ किरोड़ी लाल मीणा ने उनकी मांग का समर्थन किया और कहा 12 फीसदी में 6 फीसदी आरक्षण आदिवासियों को मिलना चाहिए और वे खुद इसकी पैरवी करेंगे. 
 

डूंगरपुर: महिला ने तीन लोगों पर लगाया दुष्कर्म का आरोप, मामला दर्ज

डूंगरपुर: महिला ने तीन लोगों पर लगाया दुष्कर्म का आरोप, मामला दर्ज

डूंगरपुर: जिले के कोतवाली थाना क्षेत्र निवासी एक महिला ने तीन लोगों पर दुष्कर्म करने का आरोप लगाया है. पीडिता ने कोतवाली थाने में पहुंचकर मामले की रिपोर्ट दी है. कोतवाली थाने के सीआई दिलीप दान ने बताया की कोतवाली थाना क्षेत्र निवासी एक महिला ने तीन जनो पर दुष्कर्म का आरोप लगाया है और मामला 3 सितम्बर का बताया जा रहा है.

{related} 

पीड़िता ने अपनी रिपोर्ट में बताया 3 सितम्बर को वह शहर के पुराना बस स्टैंड पर खड़ी थी इस दौरान बोरी निवासी नाथू ओटो लेकर आया उसके साथ दो जने और थे.  तीनो लोगों ने जबरदस्ती ओटों में बैठाकर उसे आसेला मोड़ पर ले गए और तीनों ने झाड़ियो में ले जाकर उसके साथ दुष्कर्म किया. इधर कोतवाली पुलिस ने मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है. 

डूंगरपुर में NH-8 पर हिंसा मामले में आज 16 आरोपी गिफ्तार, अब तक 114 की हो चुकी गिरफ्तारी

डूंगरपुर में NH-8 पर हिंसा मामले में आज 16 आरोपी गिफ्तार, अब तक 114 की हो चुकी गिरफ्तारी

डूंगरपुर: जिले में एनएच 8 पर हिंसा मामले में पुलिस आरोपियों की गिरफ़्तारी को लेकर लगातार दबिश दे रही है. इसी के तहत डूंगरपुर सदर थाना पुलिस ने आज 16 और आरोपियों को गिरफ्तार किया है. पुलिस ने इन 16 आरोपियों को डूंगरपुर, बांसवाडा व प्रतापगढ़ जिलों से गिरफ्तार किया है. वहीं इसके साथ ही हिंसा मामले में अब तक 114 आरोपियों की गिरफ्तारी हो चुकी है.

बीटीपी के विधानसभा उम्मीदवार रहे उमेश डामोर भी हिरासत में: 
डूंगरपुर सदर थाने के सीआई चांदमल सिंगारिया ने बताया की डूंगरपुर एनएच 8 हिंसा मामले में सदर थाना पुलिस अब तक 65 आरोपियों को गिरफ्तार कर चुकी है. वहीं इसके अलावा बिछीवाडा पुलिस ने 29 और दोवड़ा थाना पुलिस ने 20 आरोपियों को गिरफ्तार किया है. वहीं सदर थाना पुलिस ने हिंसा भड़काने के मामले में आसपुर विधानसभा क्षेत्र के बीटीपी के विधानसभा उम्मीदवार रहे उमेश डामोर को हिरासत में लिया है जिससे पुलिस पूछताछ कर रही है.

{related}

षड्यंत्रकारियों के ठिकानों पर लगातार छापेमारी की जा रही:
इधर एनएच 8 पर हिंसा मामले में कई नामचीन और राजनितिक दलों के नेताओं के षड्यंत्र रचने और हिंसा में शामिल होने के पुख्ता प्रमाण मिले हैं. ऐसे षड्यंत्रकारियों के ठिकानों पर लगातार छापेमारी की जा रही है. वहीं जयपुर में सरकार से संपर्क करने में जुटे कई बीटीपी नेताओ को लेकर स्थानीय पुलिस जयपुर पुलिस के भी संपर्क में हैं. 

डूंगरपुर: एनएच 8 पर हिंसा मामले में अब तक 35 मुकदमे दर्ज, 55 उपद्रवियों की हो चुकी गिरफ्तारी

डूंगरपुर: एनएच 8 पर हिंसा मामले में अब तक 35 मुकदमे दर्ज, 55 उपद्रवियों की हो चुकी गिरफ्तारी

डूंगरपुर: जिले में एनएच 8 पर उपद्रव के बाद अब स्थितियां सामान्य होने लगी है तो वहीं उपद्रव मामले को लेकर पुलिस ने भी कार्रवाई शुरू कर दी है. पुलिस ने अब तक मामले में 35 एफआईआर दर्ज की है, जिसमें करीब 3 हजार लोगों के खिलाफ उपद्रव फैलाने का केस दर्ज किया है. पुलिस ने मामले में अब तक 55 उपद्रवियों को गिरफ्तार कर लिया है. वहीं अन्य उपद्रवियों की गिरफ्तारी के लिए पुलिस टीमें दबिश दे रही है. 

पुलिस की ओर से लगातार हाइवे पर गश्त की जा रही: 
जिला पुलिस अधीक्षक जय ने बताया कि नेशनल हाइवे 8 पर मोतली मोड़, भुवाली, शिशोद में स्थितियां सामान्य हो चुकी है और पुलिस की ओर से लगातार हाइवे पर गश्त की जा रही है. हाइवे सुचारू रूप से चालू है. उन्होंने बताया कि एनएच 8 पर उपद्रव मामले में अब तक ज़िले के बिछीवाड़ा व सदर थाने में अलग-अलग 35 मुकदमे दर्ज किए गए है, जिसमें 3 हजार से ज्यादा लोगो के खिलाफ हाइवे जाम करने, पथराव, लूटपाट, आगजनी, सरकारी संपत्ति को नुकसान पंहुचाने, पुलिस के साथ मारपीट के केस दर्ज किए है. इस मामले में 55 उपद्रवियों को गिरफ्तार किया जा चुका है.

{related}

अन्य उपद्रवियों को गिरफ्तार करने के प्रयास किये जा रहे:
एसपी ने बताया कि उपद्रव मामले को लेकर अब पुलिस की ओर से अलग-अलग टीमें गठित की गई है जो दबिश दे रही है और अन्य उपद्रवियों को गिरफ्तार करने के प्रयास किये जा रहे हैं. वहीं लूटपाट का माल बरामदगी के भी प्रयास किए जा रहे हैं. 

Dungarpur Violence: खेरवाड़ा कस्बे में चौथे दिन भी बवाल जारी, सीएम गहलोत ने केन्द्र से मांगी रैपिड एक्शन फोर्स

Dungarpur Violence:  खेरवाड़ा कस्बे में चौथे दिन भी बवाल जारी, सीएम गहलोत ने केन्द्र से मांगी रैपिड एक्शन फोर्स

डूंगरपुर: प्रदेश के डूंगरपुर जिले की कांकरी डूंगरी से शुरू हुए आदिवासियों के प्रदर्शन की आग चौथे दिन भी थमने का नाम ही नहीं ले रही है. खेरवाड़ा कस्बे  में उपद्रव के दौरान शनिवार रात झड़प में 2 लोग मारे गए. झड़प में मारे गए 2 लोगों के शव उदयपुर मोर्चरी में शिफ्ट कराए गए. 2 अन्य घायलों का भी अस्पताल में इलाज चल रहा है. पूरे खेरवाड़ा को उपद्रवियों ने घेर रखा है. उपद्रवियों ने होटल और मकान फूंक दिए है. उदयपुर-अहमदाबाद हाईवे 60 घंटे से ज्यादा समय से बंद पडा है. हाईवे पर उपद्रवियों ने 20 किलोमीटर क्षेत्र में पत्थर बिछाए हुए है. 

खेरवाड़ा कस्बे में फिलहाल तनावपूर्ण शांति:
डूंगरपुर के खेरवाड़ा कस्बे में फिलहाल तनावपूर्ण शांति है. पुलिस के आलाधिकारियों के जयपुर से आने के बाद रणनीति बनाई जा रही है. डीजी एमएल लाठर,आनंद श्रीवास्तव और दिनेश एममन अधिकारियों से चर्चा कर रहे है.जयपुर से आए तीनों ही अधिकारियों ने अपने पुराने कॉन्टैक्ट्स को एक्टिव किया है. महापड़ाव स्थल कांकरी डूंगरी तक पुलिस का भारी जाब्ता तैनात किया गया है. प्रदेश के विभिन्न जिलों से SDRF और अन्य जाब्ता तैनात किया गया है.

{related}

सीएम गहलोत ने केन्द्र से मांगी रैपिड एक्शन फोर्स:
प्रदेश के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने केंद्र से रैपिड एक्शन फोर्स मांगी है. स्थिति संभालने के लिए सरकार ने वरिष्ठ IPS एमएल लाठर, दिनेश एमएन और आनंद श्रीवास्तव को जयपुर से डूंगरपुर भेज दिया है. डूंगरपुर-बांसवाड़ा के बाद उदयपुर जिले में भी इंटरनेट सेवा बंद कर दी गई है. झारखंड से आए विशेष विचारधारा के गुट पर हिंसा भड़काने का आरोप लगा है.

उदयपुर जिले में पहले चरण के पंचायत चुनाव स्थगित:
उदयपुर जिले में पहले चरण के पंचायत चुनाव स्थगित कर दिए गए है. कानून व्यवस्था की स्थिति को देखते हुए राज्य निर्वाचन आयोग ने फैसला लिया है. 28 और 29 सितंबर को गोगुंदा,सराड़ा में पंचायत चुनाव होने थे. फील्ड में मौजूद सेक्टर ऑफिसर्स को मुख्यालय लौटने के निर्देश दिए गए हैं. 

यह है आंदोलनकारियों की मांग:
आंदोलनकारियों की मांग है कि जनजाति क्षेत्र में तृतीय श्रेणी शिक्षक भर्ती के रिक्त सामान्य वर्ग के 1167 पदों पर जनजाति अभ्यर्थियों से भरने की है. यह मुद्दा हाईकोर्ट में भी उठाया गया और हाईकोर्ट ने उनकी याचिका रद्द कर दी थी. 

Dungarpur Violence: खेरवाड़ा कस्बे में उपद्रवियों पर पुलिस ने की फायरिंग, एक गंभीर घायल किशोर को परिजन लेकर पहुंचे अस्पताल

Dungarpur Violence: खेरवाड़ा कस्बे में उपद्रवियों पर पुलिस ने की फायरिंग, एक गंभीर घायल किशोर को परिजन लेकर पहुंचे अस्पताल

डूंगरपुर: प्रदेश के डूंगरपुर जिले में 2018 शिक्षक भर्ती मामले को लेकर हुए उपद्रव से जुड़ी बड़ी खबर मिल रही है. उपद्रवियों पर पुलिस ने फायरिंग की है. जिसमें एक गंभीर घायल किशोर को परिजन अस्पताल लेकर पहुंचे. जिला अस्पताल में घायल का उपचार चल रहा है, और भी कई लोगों के घायल होने की खबर आ रही है. आपको बता दें कि डूंगरपुर जिले की कांकरी डूंगरी से शुरू हुए आदिवासियों के प्रदर्शन की आग तीसरे दिन भी थमने का नाम ही नहीं ले रही है. उदयपुर-अहमदाबाद हाइवे पर लगातार तनाव का माहौल बना हुआ है. अब उपद्रवियों ने खेरवाड़ा कस्बे की श्रीनाथ कॉलोनी में तांडव मचाया है. उपद्रवी यहां पर घरों में घुसकर लूटपाट और तोड़फोड़ की है. जानकारी के अनुसार उपद्रवियों ने यहां पर 100 से ज्यादा घरों में लूटपाट और तोड़फोड़ की है. इस पूरे मामले पर पुलिस और प्रशासन मूकदर्शक बना हुआ है. कस्बे के हालात नियंत्रण से बाहर नजर आ रहे है. कस्बे के वासी खौफजदा है. 

तीन वरिष्ठ पुलिस अधिकारी जा रहे है डूंगरपुर:
उपद्रव और हिंसा पर नियंत्रण के लिए प्रदेश के तीन वरिष्ठ पुलिस अधिकारी  डूंगरपुर जा रहे है. डीजी एमएल लाठर, एडीजी दिनेश एमएन और पुलिस कमिश्नर आनंद श्रीवास्तव डूंगरपुर जा रहे है. थोड़ी देर में राज्य सरकार के हैलीकॉप्टर से उदयपुर रवाना होंगे. 

{related}

खैरवाड़ा कस्बे में स्थिति बेहद तनावपूर्ण:
आपको बता दें कि आंदोलनकारी तीसरे दिन भी कस्बे के विभिन्न इलाकों में जमकर आगजनी और लूटपाट की. पुलिस-प्रशासन एक बार फिर से आंदोलनकारियों को पीछे धकेलने में जुटा है. पुलिस द्वारा फायरिंग किए जाने की सूचना मिली है. जिला कलेक्टर चेतन देवड़ा मौके पर पहुंचे है. फिलहाल खैरवाड़ा कस्बे में स्थिति बेहद तनावपूर्ण हो गई है. 

जनजाति अभ्यर्थियों और प्रशासन के बीच वार्ता:
वहीं आज जनजाति अभ्यर्थियों और प्रशासन के बीच वार्ता हुई. यह वार्ता में TAD मंत्री अर्जुन बामणिया की मौजूदगी में हुई. हालांकि यह वार्ता किसी निष्कर्ष पर नहीं पहुंच पाई, लेकिन सभी जनजाति नेताओं ने एक स्वर में शांति कायम करने की मांग की है. आंदोलनकारियों से शांति कायम करने की मांग की गई है. यह  बैठक में CWC मेंबर रघुवीर मीणा के निवास पर हुई. पूर्व सांसद ताराचंद भगोरा, BTP विधायक रामप्रसाद डिंडोर और विधायक राजकुमार रोत बैठक में मौजूद रहे.

डूंगरपुर में प्रदर्शन को लेकर बड़ा अपडेट, हिंसक प्रदर्शन को लेकर बाहरी लोगों के भी हाथ होने की खबर

यह है आंदोलनकारियों की मांग:
आंदोलनकारियों की मांग है कि जनजाति क्षेत्र में तृतीय श्रेणी शिक्षक भर्ती के रिक्त सामान्य वर्ग के 1167 पदों पर जनजाति अभ्यर्थियों से भरने की है. यह मुद्दा हाईकोर्ट में भी उठाया गया और हाईकोर्ट ने उनकी याचिका रद्द कर दी थी. 

Dungarpur Violence: खेरवाड़ा कस्बे में उपद्रवियों का तांडव, श्रीनाथ कॉलोनी के 100 से ज्यादा घरों में की लूटपाट और तोड़फोड़

Dungarpur Violence:  खेरवाड़ा कस्बे में उपद्रवियों का तांडव, श्रीनाथ कॉलोनी के 100 से ज्यादा घरों में की लूटपाट और तोड़फोड़

डूंगरपुर: प्रदेश के डूंगरपुर जिले की कांकरी डूंगरी से शुरू हुए आदिवासियों के प्रदर्शन की आग तीसरे दिन भी थमने का नाम ही नहीं ले रही है. उदयपुर-अहमदाबाद हाइवे पर लगातार तनाव का माहौल बना हुआ है. अब उपद्रवियों ने खेरवाड़ा कस्बे की श्रीनाथ कॉलोनी में तांडव मचाया है. उपद्रवी यहां पर घरों में घुसकर लूटपाट और तोड़फोड़ की है. जानकारी के अनुसार उपद्रवियों ने यहां पर 100 से ज्यादा घरों में लूटपाट और तोड़फोड़ की है. इस पूरे मामले पर पुलिस और प्रशासन मूकदर्शक बना हुआ है. कस्बे के हालात नियंत्रण से बाहर नजर आ रहे है. कस्बे के वासी खौफजदा है. 

Image

तीन वरिष्ठ पुलिस अधिकारी जा रहे है डूंगरपुर:
उपद्रव और हिंसा पर नियंत्रण के लिए प्रदेश के तीन वरिष्ठ पुलिस अधिकारी  डूंगरपुर जा रहे है. डीजी एमएल लाठर, एडीजी दिनेश एमएन और पुलिस कमिश्नर आनंद श्रीवास्तव डूंगरपुर जा रहे है. थोड़ी देर में राज्य सरकार के हैलीकॉप्टर से उदयपुर रवाना होंगे. 

डूंगरपुर में प्रदर्शन को लेकर बड़ा अपडेट, हिंसक प्रदर्शन को लेकर बाहरी लोगों के भी हाथ होने की खबर

खैरवाड़ा कस्बे में स्थिति बेहद तनावपूर्ण:
आपको बता दें कि आंदोलनकारी तीसरे दिन भी कस्बे के विभिन्न इलाकों में जमकर आगजनी और लूटपाट की. पुलिस-प्रशासन एक बार फिर से आंदोलनकारियों को पीछे धकेलने में जुटा है. पुलिस द्वारा फायरिंग किए जाने की सूचना मिली है. जिला कलेक्टर चेतन देवड़ा मौके पर पहुंचे है. फिलहाल खैरवाड़ा कस्बे में स्थिति बेहद तनावपूर्ण हो गई है. 

जनजाति अभ्यर्थियों और प्रशासन के बीच वार्ता:
वहीं आज जनजाति अभ्यर्थियों और प्रशासन के बीच वार्ता हुई. यह वार्ता में TAD मंत्री अर्जुन बामणिया की मौजूदगी में हुई. हालांकि यह वार्ता किसी निष्कर्ष पर नहीं पहुंच पाई, लेकिन सभी जनजाति नेताओं ने एक स्वर में शांति कायम करने की मांग की है. आंदोलनकारियों से शांति कायम करने की मांग की गई है. यह  बैठक में CWC मेंबर रघुवीर मीणा के निवास पर हुई. पूर्व सांसद ताराचंद भगोरा, BTP विधायक रामप्रसाद डिंडोर और विधायक राजकुमार रोत बैठक में मौजूद रहे.

Image
यह है आंदोलनकारियों की मांग:
आंदोलनकारियों की मांग है कि जनजाति क्षेत्र में तृतीय श्रेणी शिक्षक भर्ती के रिक्त सामान्य वर्ग के 1167 पदों पर जनजाति अभ्यर्थियों से भरने की है. यह मुद्दा हाईकोर्ट में भी उठाया गया और हाईकोर्ट ने उनकी याचिका रद्द कर दी थी. 

{related}