69 दिन के इंतजार के बाद खुले टाइगर पार्क, बाघों की शरणस्थली सरिस्का में खिले चेहरों से पहुंचे पर्यटक

69 दिन के इंतजार के बाद खुले टाइगर पार्क, बाघों की शरणस्थली सरिस्का में खिले चेहरों से पहुंचे पर्यटक

69 दिन के इंतजार के बाद खुले टाइगर पार्क, बाघों की शरणस्थली सरिस्का में खिले चेहरों से पहुंचे पर्यटक

जयपुर: कोरोना के चलते 69 दिन पहले बंद हुए सरिस्का टाइगर पार्क, बायोलॉजिकल पार्क और चिड़ियाघर आज लंबे इंतजार के बाद पर्यटकों के लिए खोल दिए गए. रणथंभौर में आज दोपहर या कल सुबह से सफारी शुरू हो सकेगी. इससे पहले आज जैसे ही सुबह सरिस्का टाइगर सफारी के दरवाजे खोले गए पर्यटकों के चेहरे पर खुशी साफ झलक रही थी. 

Image

वाइल्डलाइफ टूरिज्म के लिए आए पर्यटकों में भारी उत्साह था. उन्हें सरिस्का की रानी बाघिन एसटी 9 ने निराश भी नहीं किया. पर्यटकों के सफारी पहुंचने पर सबसे पहले आज एसटी 9 की साइटिंग हुई. फील्ड डायरेक्टर आरएन मीणा और डीएफओ सुदर्शन शर्मा मौके पर मौजूद रहे. सफारी से पहले पर्यटक वाहनों को सेनिटाइज किया गया. पर्यटकों को भी मास्क और सोशियल डिस्टेंसिंग के साथ ही प्रवेश दिया गया. 

Image

टाइगर पार्क मानसून सीजन में पर्यटकों के लिए बंद कर दिए जाएंगे:
इधर राजधानी जयपुर में नाहरगढ़ बायोलजिकल पार्क और चिड़ियाघर पर्यटकों के लिए खोल दिए गए. कोरोना के चलते लंबा समय अपने घरों पर बताने वाले पर्यटक जैसे ही वाइल्ड लाइफ के बीच पहुंचे उनके चेहरे पर खुशी साफ दिखाई दे रही थी. रणथंभौर को भी आज दोपहर बाद या कल सुबह पर्यटकों के लिए खोला जाएगा. हालांकि दोनों टाइगर पार्क एक बार फिर 1 जुलाई से 30 सितंबर के लिए मानसून सीजन में पर्यटकों के लिए बंद कर दिए जाएंगे. रणथंभौर में जरूर इन 3 महीनों में जोन 6 से 10 में पर्यटन गतिविधि जारी रहेंगी.

Image

और पढ़ें