Rajasthan: विधानसभा में शून्य काल में जोरदार हंगामा, निंबाराम प्रकरण की गूंज सुनाई दी; वेद प्रकाश सोलंकी PC और पुलिस अधिकारी वीडियो प्रकरण उठा

Rajasthan: विधानसभा में शून्य काल में जोरदार हंगामा, निंबाराम प्रकरण की गूंज सुनाई दी; वेद प्रकाश सोलंकी PC और पुलिस अधिकारी वीडियो प्रकरण उठा

जयपुर: विधानसभा का शून्य काल खासा हंगामेदार रहा. मदन दिलावर और अभिनेष महर्षि ने अपने बयानों से सदन को गर्मा दिया. राज्य विधानसभा में आज निम्बाराम प्रकरण और सत्ताधारी पार्टी के विधायक वेदप्रकाश सोलंकी को हनीट्रैप मामले में फंसाने के आरोपों और हीरालाल सैनी वीडियो प्रकरण हुआ. पक्ष-विपक्ष के सदस्य निम्बाराम प्रकरण में लेकर आपस में उलझ गए. दोनों पक्षों में तीखी नोकझोंक भी हुई. व्यवधान की स्थिति को देखते हुए सदन की कार्रवाई को आधे घंटे के लिए स्थगित करना पड़ा. दिलावर को गोविंद सिंह डोटासरा पर की गई आपत्तिजनक टिप्पणी पर माफी मांगनी पड़ी.

मदन दिलावर ने कानून व्यवस्था के मुद्दों को आज उछाला तो हंगामा बरप गया. दिलावर ने सदन में कह दिया कि मेवात आज मिनी पाकिस्तान बनता जा रहा, हिंदू लड़कियां सुरक्षित नही, खाड़ी देशों में बेचा जा रहा, धर्म परिवर्तन के लिए मजबूर किया जा रहा, बृज क्षेत्र आज आतंकियों का अड्डा बन रहा हैं. 109 गांव हिंदू विहीन हो गए, एक षड्यंत्र चल रहा. दिलावर के बयानों पर शिक्षा राज्य मंत्री और पीसीसी चीफ गोविंद सिंह डोटासरा ने जताई आपत्ति और कहा कि हिंदू मुसलमानों को लड़ाने का काम नहीं करो. 

थानों तक में बलात्कार की घटनाएं हो रही:
शून्यकाल में भाजपा के अभिनेष महर्षि ने कानून-व्यवस्था पर सवाल उठाते हुए कहा कि थानों तक में बलात्कार की घटनाएं हो रही हैं. कानून नाम की कोई चीज नहीं रह गई हैं. एक पुलिस अफसर खुदका घिनौना विडियो बनाता है. दोषियों के खिलाफ मुकदमा तक दर्ज नहीं होता. कांग्रेस विधायक वेदप्रकाश सोलंकी के हनीट्रैप प्रकरण का जिक्र करते हुए कहा कि सत्ताधारी दल के विधायक को प्रेस कॉन्फ्रेंस करनी पड़ रही हैं. उसे जबरन कौन फंसा रहा हैं. ये जांच होनी चाहिए. 

राष्ट्रवादी संगठनों पर अंगूली उठाई जा रही:
महर्षि ने निम्बाराम प्रकरण को उठाते हुए कहा कि राष्ट्रवादी संगठनों पर अंगूली उठाई जा रही हैं. निम्बाराम बेदाग हैं और वे बरी होंगे, लेकिन सरकार की नियत उन्हें जबरन फंसाने की हैं. इस पर सत्तापक्ष के सदस्यों शिक्षामंत्री गोविंदसिंह डोटासरा, प्रतापसिंह खाचरियावास, शांति धारीवाल आदि ने प्रतिवाद करते हुए कहा कि अगर वे बेदाग है तो छिपते क्यों घूम रहे हैं, सामने क्यों नहीं आ रहे. दोनों पक्ष इस मसले को लेकर आपस में उलझ गए. दूसरी ओर मदन दिलावर ने गोविंद सिंह डोटासरा पर आपत्ति जनक टिप्पणी कर दी. इसको लेकर सदन में जोरदार हंगामा हुआ इसे देखते हुए सभापति राजेन्द्र पारीक ने सदन की कार्रवाई आधे घंटे के लिए स्थगित कर दी.

मदन दिलावर अपनी टिप्पणी पर क्षमा मांगे सदन में:
विधानसभा की कार्यवाही फिर से शुरू हुई तो सभापति राजेंद्र पारीक ने कहा कि आज माननीय विधायक मदन दिलावर ने जो टिप्पणी की उसे कभी ठीक नहीं कहा जा सकता, ये क्षम्य नही हैं. मदन दिलावर अपनी टिप्पणी पर क्षमा मांगे सदन में, नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया ने कहा कि में पार्टी की ओर से खेद प्रगट करता हूं.  सभापति ने फिर कहा माननीय सदस्य पूरे सदन से माफी मांगे दिलावर की टिप्पणी पर सभापति राजेंद्र पारीक ने कहा-जिस तरह की अमर्यादित टिप्पणी मदन दिलावर ने की यह कतई क्षम्य नहीं है. यह संसदीय परंपरा में उचित नहीं कही जा सकती. सदन आपसे अपेक्षा करता है. आप इसके लिए माफी मांगे. आपके माफी मांगने से गरिमा घटेगी नहीं बल्कि सदन की गरिमा बढ़ेगी. 

गुलाबचंद कटारिया कहा-शब्दों का चयन संयम के साथ करना चाहिए
नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया ने भी कहा कि मैं इसे लेकर दुखी हूं. शब्दों का चयन संयम के साथ करना चाहिए. इस पर मदन दिलावर ने कहा कि मेरी मंशा ऐसी टिप्पणी की नहीं थी, लेकिन निंबाराम जी के लिए जो शब्द कहे गए वे निंदनीय है. इस पर सभापति राजेंद्र पारीक ने टोका और कहा, सीधे-सीधे माफी मांगी जाए. दिलावर बोले-यदि मेरे शब्दों से सदन को ठेस पहुंची है तो मैं इसके लिए खेद प्रकट करता हूं. इसके बाद सभापति राजेंद्र पारीक ने निर्देश दिए कि सदन की कार्यवाही से शब्दों को निकाला जाए. यूट्यूब से भी इसे हटाया जाए. बहरहाल आज सदन का शून्य काल में जिस तरह हंगामा बरपा था तो एक बारगी ऐसा लगा कि सदन नहीं चलेगा लेकिन विपक्ष के विधायक मदन दिलावर की माफी ने माहौल को नियंत्रित किया. 

...फर्स्ट इंडिया के लिए नरेश शर्मा के लिए योगेश शर्मा की रिर्पोट

और पढ़ें