भाजपा का अंदरूनी खेला अब चिट्ठी बम के रूप में आया बाहर, पूर्व विधानसभा अध्यक्ष कैलाश मेघवाल की चिट्ठी से बवाल

भाजपा का अंदरूनी खेला अब चिट्ठी बम के रूप में आया बाहर, पूर्व विधानसभा अध्यक्ष कैलाश मेघवाल की चिट्ठी से बवाल

जयपुर: राजस्थान भाजपा का अंदरूनी खेला अब चिट्ठी बम के रूप में बाहर आया है. पूर्व विधानसभा अध्यक्ष कैलाश मेघवाल की चिट्ठी से बवाल प्रदेश की सियासत में बवाल मच गया है. चिट्ठी में ऐसी बातें लिखी गई है जिससे सभी सन्न रह गए हैं. 

अब सोशल मीडिया में जब चिट्ठी वायरल हुई तो कैलाश मेघवाल चर्चाओं में है. भाजपा के सबसे वरिष्ठ नेताओं और विधायकों में शामिल कैलाश मेघवाल ने नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया के खिलाफ मोर्चा खोला है. उन्होंने भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा को लेटर भेजा है. 

कटारिया के बयानों की वजह से पार्टी को बहुत नुकसान हुआ:
चिट्ठी में उन्होंने गुलाबचंद कटारिया के लिए कहा कि इनके बयानों की वजह से पार्टी को बहुत नुकसान हुआ है. मेघवाल अब विधायक दल की बैठक से पूर्व कटारिया के खिलाफ निंदा प्रस्ताव लाएंगे. प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनिया को लिखी चिट्ठी में मेघवाल ने निंदा प्रस्ताव का जिक्र किया है. उन्होंने लिखा कि जब निंदा प्रस्ताव आए तो पार्टी के अध्यक्ष के नाते विधायक दल की अध्यक्षता करें. 

पद और टिकट बांटने के लिये पैसे जाते थे:
10 पेज की चिट्ठी में कटारिया पर संगीन आरोप लगाते हुए लिखा गया है कि पद और टिकट बांटने के लिये पैसे जाते थे. चिट्ठी में लिखा गया है कि 2008 में वसुंधरा राजे के खिलाफ कसम खाने वालों में घनश्याम तिवारी अरुण चतुर्वेदी ओंकार सिंह लखावत और गुलाबचंद कटारिया शामिल थे. गुलाब चंद कटारिया सबसे पहले समर्थन में जाने वालों में थे. पिछले सभी चुनावो में कटारिया की वजह से नुकसान हआ है. 

और पढ़ें