चंडीगढ़ मध्यप्रदेश के बाद हरियाणा कांग्रेस में भी बढ़ी मुश्किलें, हुड्डा ने किया कुमारी सैलजा का विरोध

मध्यप्रदेश के बाद हरियाणा कांग्रेस में भी बढ़ी मुश्किलें, हुड्डा ने किया कुमारी सैलजा का विरोध

मध्यप्रदेश के बाद हरियाणा कांग्रेस में भी बढ़ी मुश्किलें, हुड्डा ने किया कुमारी सैलजा का विरोध

चंडीगढ़: मध्यप्रदेश के बाद हरियाणा कांग्रेस में पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने बगावती तेवर दिखाए है. राज्यसभा टिकट को लेकर हुड्डा ने कुमारी सैलजा को टिकट देने का कड़ा विरोध करते हुए कहा कि एक शख्स को दोनों चीजें नहीं मिल सकतीं. 

कोरोनावायरस विश्वव्यापी महामारी घोषित, भारत में 15 अप्रैल तक सभी देशों के टूरिस्ट वीजा निलंबित 

पार्टी में राजनीतिक संकट खड़े होने के आसार: 
बता दें कि राज्यसभा सांसद कुमारी सैलजा फिर से अपनी दावेदारी 9 अप्रैल को खाली हो रही राज्यसभा की सीट पर जता रही हैं. इसे लेकर ही नेता प्रतिपक्ष भूपेंद्र हुड्डा ने इसका विरोध किया है. ऐसे में सर्व सम्मति से टिकट तय न होने पर पार्टी में राजनीतिक संकट खड़े होने के आसार नजर आ रहे हैं. सैलजा हरियाणा कांग्रेस की अध्यक्ष भी हैं, इसलिए हुड्डा नहीं चाहते कि एक व्यक्ति को दो पद दिए जांए. वह अपने बेटे पूर्व सांसद दीपेंद्र हुड्डा के लिए टिकट चाह रहे हैं. इसी के चलते उन्होंने सैलजा की दावेदारी का खुला विरोध किया है. 

एक बार फिर सियासी भंवर में फंसी कांग्रेस के लिए संकटमोचक बने गहलोत, तारणहार की भूमिका में दे रहे दिखाई 

क्रॉस वोटिंग होने के भी आसार:
वहीं इसको लेकर हुड्डा ने बुधवार को दिल्ली में 31 में से 24 विधायकों के साथ बैठक कर शक्ति प्रदर्शन भी किया था. सैलजा के साथ तीन विधायक माने जा रहे हैं. इनके अलावा रणदीप सुरजेवाला भी राज्यसभा में एंट्री के लिए जोर लगाए हुए हैं. ऐसे में अगर हुड्डा की पसंद के नेता को कांग्रेस हाईकमान टिकट नहीं देता है तो क्रॉस वोटिंग होने के भी आसार जताए जा रहे हैं. 2016 में भी ऐसा देखने को मिला था. स्याही कांड के चलते सुभाष चंद्रा जीत गए थे. उस समय भी कांग्रेस विधायकों पर क्रॉस वोटिंग के आरोप लगे थे. 
 

और पढ़ें