आखिर कैसे हुआ ये सब?...सचिन पायलट की रैली में पहुंचा गहलोत कैम्प का एक विधायक

जयपुर: जिले के कोटखावदा में शुक्रवार को सचिन पायलट ने अपने समर्थक विधायकों के साथ किसान महापंचायत का आयोजन किया. इस दौरान गहलोत कैम्प का एक विधायक भी पायलट की रैली में पहुंचा. टोंक के निवाई से विधायक प्रशांत बैरवा कोटखावदा पहुंचे और मंच पर सचिन पायलट के धोक लगाई. हालांकि शुरूआती दौर में बैरवा पायलट के साथ ही थे लेकिन बाड़ाबंदी के समय पाला बदलकर गहलोत कैम्प में आ गए थे. आखिर ये सब कैसे हुआ इस बारे में कुछ नहीं कहा जा सकता? 

इससे पहले जुलाई में पायलट का साथ छोड़ने वाले विधायक प्रशांत बैरवा के  महापंचायत के मंच पर पहुंचते ही उनके समर्थकों ने हूटिंग शुरू कर दी. हालांकि बाद में उनको शांत करवाकर बैरवा को मंच पर जगह दी गई. प्रशांत बैरवा 7 महीने बाद पायलट के किसी कार्यक्रम में पहुंचे हैं. ऐसे में सबसे बड़ा सवाल यह है कि क्या प्रशांत बैरवा गहलोत खेमा छोड़कर वापस पायलट के साथ आ गए हैं?    

पायलट ने कहा- हम जाति से ऊपर उठकर संघर्ष करेंगे
बता दें कि शुक्रवार को आयोजित किसान महापंचायत में सचिन पायलट ने किसानों के आंदोलन को लेकर केंद्र सरकार पर जमकर निशाना साधा. अपने 15 समर्थक विधायकों के साथ पायलट ने कहा कि किसान को सहानुभूति नहीं सहयोग चाहिए. केंद्र की तानाशाही के खिलाफ मजबूती से लड़ेंगे. किसान और नौजवान एक साथ खड़े हैं. इसके साथ ही पायलट ने कहा कि किसान सबका है. हम जाति से ऊपर उठकर संघर्ष करेंगे.  जाति के नाम पर किसानों को बांटने की साजिश चल रही है. दिल्ली में बैरीकेड लगा दिए, कीलें लगा दीं. हम भी मानने वाले नहीं हैं. केंद्र को तीनों कानून वापस लेने ही पड़ेंगे.


 

और पढ़ें