Live News »

स्कूल व्याख्याता परीक्षा स्थगित, जल्द होगी नई तिथियों की घोषणा

स्कूल व्याख्याता परीक्षा स्थगित, जल्द होगी नई तिथियों की घोषणा

जयपुर। राजस्थान लोक सेवा आयोग द्वारा 15 से 23 जनवरी तक होने वाली स्कूल व्याख्याता परीक्षा को स्थगित कर दिया गया है। शिक्षा राज्यमंत्री गोविन्द सिंह डोटासरा ने ट्वीट कर इसकी जानकारी दी है। उन्होंने बताया है कि परीक्षा स्थगित किए जाने के बाद अब जल्द ही राजस्थान लोक सेवा आयोग द्वारा नई तिथि की घोषणा की जाएगी। बता दें कि लंबे समय से आंदोलन कर रहे अभ्यार्थियों ने परीक्षा को स्थगित किए जाने की मांग की थी।

स्कूल व्याख्याता परीक्षा को स्थगित किए जाने की मांग पर लंबे समय से आंदोलन कर रहे अभ्यार्थियों की मांग को मानते हुए इसे फिलहाल स्थगित कर दिया गया है। शिक्षा राज्यमंत्री गोविन्द सिंह डोटासरा ने माइक्रो-ब्लॉगिंग साइट ट्वीटर पर एक ट्वीट पोस्ट कर जानकारी दी है कि 15 से 23 जनवरी तक होने वाली स्कूल व्याख्याता परीक्षा को स्थगित कर दिया गया है। नई तिथियों की घोषणा जल्द ही राजस्थान लोक सेवा आयोग द्वारा की जाएगी।

डोटासरा ने अपनी पोस्ट में लिखा है कि, 'कल एक उच्चस्तरीय बैठक करके अभ्यर्थियों की मांग पर सहानुभूतिपूर्वक व्यापक चर्चा करके 15 से 23 जनवरी को प्रस्तावित स्कूल व्याख्याता परीक्षा को स्थगित करने का फैसला लिया गया है। बहुत जल्द राजस्थान लोक सेवा आयोग नई तिथि घोषित करेगा।'

और पढ़ें

Most Related Stories

VIDEO: RHUS में बैड क्षमता होगी दोगुनी! SMS मेडिकल कॉलेज प्राचार्य डॉ सुधीर भण्डारी से खास बातचीत

जयपुर: प्रदेश के सबसे बड़े कोरोना डेडिकेटेड अस्पताल आरयूएचएस में जल्द ही बैड की क्षमता दोगुना तक बढ़ाई जाएगी.मरीजों की बढ़ती तादाता को देखते हुए गहलोत सरकार ने इस दिशा में काम करना शुरू कर दिया है.एक तरफ जहां आरयूएचएस में बैड क्षमता 800 से 900 करने के लिए प्रयास जारी है, वहीं दूसरी ओर कोरोना डेडिकेटेड जयपुरिया और ESI हॉस्पिटल  में भी सुविधाओं में विस्तार किया जा रहा है.एसएमएस मेडिकल कॉलेज को RUHS-जयपुरिया-ESI की सभी प्रशासनिक जिम्मेदारी मिलने के बाद प्राचार्य डॉ सुधीर भण्डारी से खास बातचीत की फर्स्ट इंडिया संवाददाता विकास शर्मा ने...

RHUS में हर मरीज को मिले ऑक्सीजन बैड और बेहतर इलाज
-SMS मेडिकल कॉलेज प्राचार्य डॉ सुधीर भण्डारी से खास बातचीत
-भण्डारी ने कहा, SMS ने टेकओवर किए है तीनों कोविड अस्पताल
-अनुभवी फैकल्टी मैम्बर्स की टीम को दी गई है वहां की जिम्मेदारी
-हमारी कोशिश रहेगी कि सभी मरीजों को अच्छे वातावरण में ट्रीटमेंट दें
-रिसेप्शन पर हर समस्या का समाधान हो, ये रहेगा हमारा फोकस
-यदि अस्पताल में नहीं होगा बैड तो दूसरी जगह करेंगे शिफ्ट
-लेकिन किसी भी मरीजों को उपचार के लिए नहीं किया जाएगा इनकार

{related}

पैटर्न ऑफ कोविड में आया बड़ा बदलाव
-SMS मेडिकल कॉलेज प्राचार्य डॉ सुधीर भण्डारी से खास बातचीत
-मार्च अप्रेल मई में कोरोना मरीजों में जो लक्षण आ रहे थे
-उनमें अब काफी बदलाव सामने आ रहा है
-कई मरीजों में क्लासिकल कोविड निमोनिया की स्थित बन रही है
-एक्सरे-सीटी में तो पेंच दिखते है,लेकिन कोविड रिपोर्ट नेगेटिव आती है
-ऐसे मरीजों में शॉट ड्यूरेशन में भी लंग इफेक्ट हो रहे है
-भण्डारी ने आमजन से की अपील, लोग कोविड को गंभीरता से लें
जरा भी लक्षण दिखे तो जांच कराए, आईसोलेशन की पालना करें

राज्यपाल कलराज मिश्र बोले, स्मार्ट वर्कर होता है उद्यमी, युवाओं को स्वरोजगार के लिए करें प्रेरित

राज्यपाल कलराज मिश्र बोले, स्मार्ट वर्कर होता है उद्यमी, युवाओं को स्वरोजगार के लिए करें प्रेरित

जयपुर: राजस्थान तकनीकी विश्वविद्यालय कोटा और शंकरा इंस्टीट्यूट के संयुक्त तत्वाधान में उद्यमिता विकास विषय पर दो दिवसीय फैकल्टी डवलपमेंट कार्यक्रम शुरू हुआ. कार्यक्रम के मुख्य अतिथि राज्यपाल कलराज मिश्र रहे. राज्यपाल ने कार्यक्रम को वीडियो कांफ्रेंस के जरिए संबोधित किया. राज्यपाल ने कहा कि एक सफल उद्यमी हार्ड वर्क के साथ स्मार्ट वर्क करता है. वह नई सोच पर काम कर उसे सफल व्यवसाय में बदल देता है.

युवाओं को स्वरोजगार के लिए करें प्रेरित:
राज्यपाल ने विश्वविद्यालयों से आह्वान किया कि वे युवाओं को स्वरोजगार के लिए प्रेरित करें. युवाओं को आत्मनिर्भर भारत में भागीदार बनने के लिए उनमें आत्मविश्वास पैदा करें. आत्मनिर्भर भारत के लिए राज्य के तकनीकी विश्वविद्यालयों को बदली हुई परिस्थितियों में भविष्य की जरूरतों को ध्यान में रखते हुए उद्योग धंधों के विकास की रूपरेखा तैयार करनी होगी. राज्यपाल ने इस मौके पर संविधान की प्रस्तावना और कर्तव्यों का वाचन भी कराया. राज्यपाल ने कहा कि सफल उद्यमी में रिस्क लेने की क्षमता और दूर की सोच जैसे कई गुण होते हैं.

कोरोना महामारी के इस दौर में हमें देनी होगी लोकल को प्राथमिकता:
विश्वविद्यालय युवाओं के स्वरोजगार शुरू करने में उनके संशयों को दूर करें. बैंकों से लोन दिलाने और स्टार्टअप शुरू करने में विश्वविद्यालय सहयोग करें. कोरोना महामारी के इस दौर में हमें लोकल को प्राथमिकता देनी होगी. विश्वविद्यालयों द्वारा गोद लिए गए गांवों में सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्योगों की शुरुआत कराने के लिए विश्वविद्यालयों को प्रयास करने होंगे. 

{related}

इससे मिल सकेगा गांवों में ही युवाओं को रोजगार:
इससे गांवों में ही युवाओं को रोजगार मिल सकेगा. युवाओं को नौकरी के लिए भटकना नहीं पड़ेगा. हमें युवाओं को नौकरी देने वाला बनाना होगा. इस तरह की चर्चा आज पूरे विश्व में हो रही है. भारत में भी ऐसे वातावरण का निर्माण करने की रणनीति प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बना दी है. हम सभी को इस रणनीति में भागीदार बनना होगा. समारोह को विश्वविद्यालय के कुलपति आरए गुप्ता ने भी संबोधित किया.

...फर्स्ट इंडिया के लिए काशीराम चौधरी की रिपोर्ट

बीकानेर ACB टीम की नोहर में कार्रवाई, सहायक लेखाधिकारी सुरेन्द्र दायमा 5 हजार रुपए की रिश्वत लेते ट्रैप

बीकानेर ACB टीम की नोहर में कार्रवाई, सहायक लेखाधिकारी सुरेन्द्र दायमा 5 हजार रुपए की रिश्वत लेते ट्रैप

नोहर: गलत कटे चालान की राशि रिफंड करने की एवज में 5 हजार रुपए मांगने वाले नोहर जिला परिवहन अधिकारी कार्यालय के रिश्वतखोर बाबू को आज एसीबी ने धर दबोचा. इस रिश्वतखोर बाबू के दलाल को भी एसीबी की टीम ने पकड़ा है. तलाशी के दौरान रिश्वत की राशि 5 हजार रुपए दलाल की जेब से बरामद कर ली गई है.

कार्रवाई के बाद डीटीओ दफ्तर में मचा हड़कंप: 
आपको बता दें कि नोहर डीटीओ कार्यालय में लंबे समय से भ्रष्टाचार होने की शिकायत मिल रही थी. एसीबी के अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक रजनीश पूनिया व निरीक्षक आनंद प्रकाश के नेतृत्व में हुई इस कार्रवाई के बाद डीटीओ दफ्तर में हड़कंप मच गया. एसीबी के एएसपी रजनीश पूनिया ने फर्स्ट इंडिया को बताया कि नोहर डीटीओ दफ्तर के बाहर ईमित्र संचालन करने वाले परिवादी से ट्रेक्टर के ऑन लाइन चालान की राशि 19 हजार 850 दो बार भर दी गई.

{related}

आरोपी ने की थी 5 हजार रुपए की मांग:
उक्त राशि को रिफंड करने की एवज में सहायक लेखाधिकारी सुरेंद्र दायमा 5 हजार की रिश्वत मांग रहा था. इस संबंध में परिवादी ने एसीबी को शिकायत की. इस पर एसीबी ने जाल बिछाते हुए बाबू सुरेन्द्र दायमा और दलाल रामकुमार को रंगे हाथों गिरफ्तार किया गया. करवाई के दौरान आरोपी बाबू के नोहर स्थित घर की तलाशी भी ली गई. 

राजसमंद में तालाब में डूबने से 3 की मौत, नहाने के दौरान गहरे पानी में जाने से हुआ हादसा

राजसमंद: प्रदेश के राजसमंद जिले में तालाब में डूबने पर एक बालिका और 2 बालकों के डूबने पर मौत हो गई है. यह हादसा नहाने के दौरान गहरे पानी में जाने से घटित हुआ है. मृतकों में एक बालिका और दो बालक शामिल है. कपड़ों के आधार पर हादसे का पता लगा. 

{related}

आमेट थाना सर्कल के भादला गांव की घटना:
घटना की सूचना मिलने पर ग्रामीण एकत्रित हो गए है. ग्रामीणों ने तीनों शवों को बाहर निकालकर चिकित्सालय पहुंचाया. घटना की सूचना मिलने पर पुलिस मौके पर पहुंची. यह घटना आमेट थाना सर्कल के भादला गांव की बताई जा रही है. 

भीड़भाड़ वाले रेलवे स्टेशनों से वसूला जाएगा यूजर चार्ज, अब थोड़े महंगे हो सकते है ट्रेन टिकट!

भीड़भाड़ वाले रेलवे स्टेशनों से वसूला जाएगा यूजर चार्ज, अब थोड़े महंगे हो सकते है ट्रेन टिकट!

नई दिल्ली: अगर आप भी ट्रेन में सफर करते है, तो यह खबर आपके लिए भी है. जी हां भीड़भाड़ वाले रेलवे स्टेशनों से ट्रेन पकडने वाले यात्रियों की जेब पर भार पड़ने वाला है. क्योंकि भारतीय रेलवे अब आपसे यूजर चार्ज के तौर पर वसूली करेगा. भारतीय रेलवे ने विमानों के किराए की तर्ज पर एक फैसला लिया है, जिसमें वह जल्द ही पुनर्विकसित और अत्यधिक व्यस्त स्टेशनों पर यात्रियों से किराए में यूजर चार्ज वसूलना शुरू करेगा. इससे ट्रेन​ टिकट थोडे महंगे हो सकता है. रेलवे ने यह फैसला ऐसे समय में लिया है जब देश में पहले से ही रेल किराए में संभावित वृद्धि और रेल क्षेत्र में निजी कंपनियों को लाए जाने पर चिंता व्यक्त की जा रही है.

यात्रियों को बेहतर सुविधाएं होगी उपलब्ध: 
रेलवे बोर्ड के अध्यक्ष वीके यादव ने बताया कि यात्रियों को बेहतर सुविधाएं उपलब्ध कराने के क्रम में राजस्व जुटाने के लिए यह फैसला हुआ है. इसके प्रभाव में आने के बाद यह पहली बार होगा, जब रेल यात्रियों से इस तरह का शुल्क वसूला जाएगा. वीके यादव ने कहा कि शुल्क मामूली होगा और यह देश के 7 हजार रेलवे स्टेशनों में से लगभग 10-15 फीसदी स्टेशनों पर ही लागू किया जाएगा. 

{related}

यूजर चार्ज संबंधी अधिसूचना होगी जारी:
मीडिया रिपोर्टस के मुताबिक सभी स्टेशनों जो पुनर्विकसित हो रहे हैं या नहीं, दोनों के लिए यूजर चार्ज संबंधी अधिसूचना जारी होगी. वीके यादव ने कहा कि यूजर चार्ज सभी 7 हजार स्टेशनों पर नहीं, बल्कि केवल उन्हीं स्टेशनों पर वसूल किया जाएगा, जहां अगले 5 वर्ष में यात्रियों की संख्या में बढ़ोत्तरी होगी. यह लगभग 10-15 फीसदी रेलवे स्टेशनों पर ही लागू किया जाएगा. उधर, नीति आयोग के सीईओ अमिताभ कांत ने कहा कि मेरा मानना है कि पात्रता सुनिश्चित करेगी कि आगे चलकर यात्री किराए और माल भाड़े दोनों में कमी आएगी.

रूस की कोरोना वैक्सीन Sputnik V फिर आई सवालों के घेरे में, हर 7 में से एक शख्स में दिखे साइड इफेक्ट

रूस की कोरोना वैक्सीन Sputnik V फिर आई सवालों के घेरे में, हर 7 में से एक शख्स में दिखे साइड इफेक्ट

नई दिल्ली: कोरोना वायरस के खिलाफ पूरी दुनिया अभी जंग लड़ रही है. सभी देश कोरोना वैक्सीन का बेसब्री से इंतजार कर रहे हैं. इस दौर में रूस सबसे आगे है और उसकी कोरोना वैक्सीन Sputnik V पर सबकी नजरें टिकी हैं, लेकिन इसके ट्रायल पर लगातार सवाल खड़े हो रहे हैं. दरअसल, इस वैक्सीन को जिन लोगों को लगाया जा रहा है, उनमें से सात में से एक स्वयंसेवक पर इसके दुष्प्रभाव देखे जा रहे हैं. इस बारे में रूस के स्वास्थ्य मंत्री मिखाइल मुराशको ने जानकारी दी है. 

300 से अधिक को अब तक स्पुतनिक वी वैक्सीन लगाई गई:
राज्य द्वारा संचालित ताश समाचार एजेंसी के मुताबिक, मुराशको ने कहा कि 40,000 घोषित स्वयंसेवकों में से 300 से अधिक को अब तक स्पुतनिक वी वैक्सीन लगाई गई है. ताश ने मुराशको के हवाले से लिखा, लगभग 14 फीसदी स्वयंसेवकों ने 24 घंटे कमजोरी, मांसपेशियों में दर्द और शरीर के तापमान में कभी-कभी वृद्धि की शिकायतें कीं. हालांकि इन लक्षणों को हल्का बताते हुए उन्होंने कहा कि ये अगले ही दिन गायब भी हो गए.

{related}

Sputnik V वैक्सीन को लेकर मिल रहीं ये शिकायतें अनुमानित: 
टीएएसएस के अनुसार, Sputnik V वैक्सीन को लेकर मिल रहीं ये शिकायतें अनुमानित हैं और इसे पहले ही बता दिया गया था. उम्मीद की जा रही है कि वॉलंटियर्स को पहले डोज के 21 दिन के भीतर ही दूसरी खुराक भी दी जाएगी.

Sputnik V के तीसरे चरण का क्लिनिकल ट्रायल चल रहा:  
बता दें कि अभी Sputnik V के तीसरे चरण का क्लिनिकल ट्रायल चल रहा है और भारत में भी इसके ट्रायल और वितरण के लिए डॉ. रेड्डी लेबोरेटरिज से समझौता हुआ है और इसी महीने की शुरुआत में मास्को में इस वैक्सीन के फाइनल स्टेज का क्लिनिकलल ट्रायल शुरू होना है.

हरसिमरत कौर के इस्तीफे से दुष्यंत चौटाला पर बढ़ा दबाव, कांग्रेस ने कहा - किसानों से ज्यादा अपनी कुर्सी प्यारी

हरसिमरत कौर के इस्तीफे से दुष्यंत चौटाला पर बढ़ा दबाव, कांग्रेस ने कहा - किसानों से ज्यादा अपनी कुर्सी प्यारी

चंडीगढ़: कृषि विधेयकों को लेकर नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाले एनडीए में मतभेद साफ तौर पर उभरकर सामने आ गया है. कृषि विधेयक के खिलाफ हरियाणा और पंजाब के किसान आंदोलित हैं. इसी के चलते NDA में बीजेपी के सबसे पुराने सहयोगी शिरोमणि अकाली दल के कोटे से मंत्री हरसिमरत कौर बादल ने गुरुवार को इस्तीफा दे दिया. जिसके बाद हरियाणा में बीजेपी की सहयोगी जननायक जनता पार्टी (JJP) पर साथ छोड़ने का दबाव बढ़ रहा है. ऐसे में जेजेपी प्रमुख डिप्टी सीएम दुष्यंत चौटाला कशमकश में फंसे हुए हैं. 

{related}

दुष्यंत जी आपको भी डिप्टी सीएम से इस्तीफा दे देना चाहिए: 
वहीं इसी बीच कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने भी एक ट्वीट करते हुए कहा कि दुष्यंत जी हरसिमरत कौर बादल की तरह आपको भी कम से कम डिप्टी सीएम की पोस्ट से इस्तीफा दे देना चाहिए. आपको किसानों से ज्यादा अपनी कुर्सी प्यारी है. 

BJP, JJP नेता किसान से विश्वासघात करने में लगे हुए: 
कांग्रेस नेता व राज्यसभा सांसद दीपेंद्र हुड्डा ने भी ट्वीट करते हुए कहा कि पंजाब के अकाली दल, AAP ने संसद में कांग्रेस के साथ किसान विरोधी 3 अध्यादेशों का विरोध करने का साहस दिखाया, पर दुर्भाग्य कि हरियाणा के BJP, JJP नेता सत्ता-सुख के लिए किसान से विश्वासघात करने में लगे हुए हैं. जब पंजाब के सब दल किसान के पक्ष में एक हो सकते हैं तो हरियाणा BJP-JJP क्यूँ नहीं? अकाली हरसिमरत जी के इस्तीफे के बाद इस प्रश्न को और बल मिलता है- जब पंजाब के सारे दल किसान के पक्ष में एक होकर केंद्र के इन किसान-घातक अध्यादेशों के विरोध में आ सकते हैं तो हरियाणा के सत्तासीन BJP-JJP नेता क्यूँ किसान से विश्वासघात कर रहे हैं? किसान-हित से ऊपर सत्ता-लोभ.

खट्टर के नेतृत्व वाली सरकार जेजेपी के सहयोग से चल रही: 
बता दें कि हरियाणा में मनोहर लाल खट्टर के नेतृत्व वाली सरकार जेजेपी के सहयोग से चल रही है. जेजेपी का राजनीतिक आधार ग्रामीण इलाके और किसानों पर टिका हुआ है, क्योंकि चौधरी  देवीलाल किसान नेता के तौर पर देश भर जाने जाते थे. किसानों की नाराजगी और राजनैतिक नुकसान को देखते हुए जेजेपी ने लाठीचार्ज को लेकर किसानों से माफी मांगी है. दुष्यंत चौटाला के छोटे भाई दिग्विजय चौटाला ने कहा, 'किसानों पर हुए लाठीचार्ज को लेकर जेजेपी माफी मांगती है. जेजेपी हमेशा किसानों के साथ है और किसानों के हित की बात पार्टी के लिए सबसे ऊपर है. 

सीएम दुष्यंत चौटाला कृषि संबंधी विधेयक के समर्थन में:
जेजेपी प्रमुख और डिप्टी सीएम दुष्यंत चौटाला कृषि संबंधी विधेयक के समर्थन में हैं और कांग्रेस पर किसानों को बहकाने का आरोप लगा रहे हैं. दुष्यंत चौटाला ने अभी तक इस किसान विधेयक का विरोध नहीं किया है, लेकिन यह जरूर कहा है कि इसमें एमएसपी का जिक्र होना चाहिए.
 

Corona Vaccine: भारत में सबसे ज्यादा उम्मीदें जगा रहीं ये तीन वैक्सीन

Corona Vaccine: भारत में सबसे ज्यादा उम्मीदें जगा रहीं ये तीन वैक्सीन

नई दिल्ली: केंद्र सरकार ने कोविड-19 वैक्‍सीन को लेकर ताजा जानकारी दी है. स्‍वास्‍थ्‍य एवं परिवार कल्‍याण मंत्री डॉ हर्षवर्धन के मुताबिक, देश में जो वैक्सीन कैंडिडेट्स हैं, उनमें से तीन ऐसी हैं जो फेज 1, 2 और 3 में पहुंच गई हैं. गुरुवार को उन्होंने राज्यसभा में बताया कि पीएम मोदी की गाइडेंस में एक्सपर्ट्स का एक ग्रुप भी बना है जो जो वैक्सीन से जुड़ी जानकारियों पर नजर रख रहा है. 

डॉ हर्षवर्धन ने उम्मीद जताते हुए बताया कि अगले साल की शुरुआत में भारत के भीतर कोविड-19 वैक्‍सीन उपब्लध हो जाना चाहिए. हालांकि इस दौरान उन्होंने यह भी कहा कि जब वैक्सीन आ जाएगी तो जादू की तरह एक मिनट में 135 करोड़ लोगों को लगाकर इम्‍युनिटी नहीं दे पाएगी, वैक्‍सीन तैयार होने में वक्‍त लगेगा. हषवर्धन ने यह तो नहीं बताया कि कौन सी तीन वैक्‍सीन कैंडिडेट्स हैं जो डेवलपमेंट में हैं, लेकिन भारत में फिलहाल कोविड-19 की कई वैक्‍सीन डेवलप हो रही हैं. ऐसे में हम आपको टॉप-3 वैक्सीन के बारे में बता रहे हैं...

{related}

सीरम इंस्टिट्यूट कर रहा 'कोविशील्‍ड' का ट्रायल: 
ICMR के महानिदेशक बलराम भार्गव के मुताबिक, सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ इंडिया (SII) वैक्‍सीन का फेज 3 ट्रायल कर रहा है. इस वैक्सीन को यूनवर्सिटी और फार्मा कंपनी अस्‍त्राजेनेका मिलकर तैयार कर रही है. यह दुनिया की सबसे ऐडवांस्‍ड वैक्‍सीन कैंडिडेट्स में से एक है. सीरम इंस्टिट्यूट देशभर में 14 जगहों पर डेढ़ हजार लोगों पर इस वैक्‍सीन का ट्रायल करेगा. 

Covaxin वैक्सीन का फेज 2 ट्रायल जारी:
Covaxin वैक्‍सीन को इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (ICMR) और भारत बायोटेक ने मिलकर तैयार किया है. पुणे के नैशनल इंस्टिट्यूट ऑफ वायरलॉजी (NIV) में कोरोना के एक स्‍ट्रेन को आइसोलेट कर Covaxin बनी है. यह एक 'इनऐक्टिवेटेड' वैक्‍सीन है. पिछले दिनों भारत बायोटेक ने बताया कि जानवरों पर यह वैक्‍सीन पूरी तरह से असरदार रही है. देश में फिलहाल इस वैक्सीन का फेज 2 ट्रायल चल रहा है. 

वैक्‍सीन ZyCov-D का इंसानों पर फेज 1 क्लिनिकल ट्रायल किया जा रहा:
जायडस कैडिला हेल्‍थकेयर की वैक्‍सीन ZyCov-D का इंसानों पर फेज 1 क्लिनिकल ट्रायल किया जा रहा है. देश में बनी इस वैक्‍सीन के ह्यूमन ट्रायल की परमिशन ड्रग्‍स कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (DGCI) ने जुलाई में दी थी. ये वैक्‍सीन पहले चूहों और खरगोश पर टेस्‍ट की गई है और उसका डेटा DGCI को सबमिट किया गया था.  
 

Open Covid-19