Live News »

9 दिन से लगातार शेयर बाजार में गिरावट जारी, मचा हाहाकार

9 दिन से लगातार शेयर बाजार में गिरावट जारी, मचा हाहाकार

नई दिल्ली: शेयर मार्केट में लगातार गिरावट जारी है इसके चलते बाजार में हाहाकार मचा हुआ है. अगर आज 10वें दिन भी गिरावट नजर आई तो फिर यह चिंता का विषय होगा. आखिरी दौर की बिकवाली से बंबई शेयर बाजार का सेंसेक्स 372 अंक और नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी 130 अंक टूटा. इसलिए मंगलवार का दिन खास रहने वाला है, क्योंकि खुदरा महंगाई दर का भी असर बाजार पर दिखने वाला है.

बतादें, सोमवार को कारोबार में टाटा स्टील, यस बैंक, आयशर मोटर्स, जेएसडब्ल्यू स्टील, इंडसइंड बैंक और सन फार्मा सबसे ज्यादा गिरने वाले शेयरों में शामिल रहें. यस बैंक, टाटा स्टील और इंडसइंड बैंक प्रमुख रहे जिनके शेयरों में 5.58 प्रतिशत तक की गिरावट रही.

वहीं 8 साल में पहली बार बाजार लागातार 9वें दिन तक गिरा. आखिरी घंटे में बाजार में भारी बिकवाली देखने को मिली. जिस वजह से सोमवार को सेंसेक्स 37000 के नीचे तक फिसल गया, और निफ्टी ने 11,150 तक का निचला स्तर टच कर लिया. कारोबार के अंतिम समय में आईटीसी, रिलायंस इंडस्ट्रीज और ICICI बैंक जैसे अधिक वजन रखने वाले शेयरों में बिकवाली बढ़ने से सेंसेक्स तेजी से नीचे आ गया.

और पढ़ें

Most Related Stories

जयपुर एयरपोर्ट पर बढ़ा फ्लाइट संचालन, कोलकाता, आगरा, गुवाहाटी के लिए फ्लाइट शुरू

जयपुर एयरपोर्ट पर बढ़ा फ्लाइट संचालन, कोलकाता, आगरा, गुवाहाटी के लिए फ्लाइट शुरू

जयपुर: जयपुर एयरपोर्ट से सोमवार से फ्लाइट संचालन में बढ़ोतरी देखी जा रही है. सोमवार से तीन नए शहरों के लिए फ्लाइट्स शुरू हुई हैं. जयपुर से कोलकाता, आगरा और गुवाहाटी के लिए फ्लाइट्स शुरू हो गई हैं. हालांकि फ्लाइट्स के संचालन की शुरुआत 25 मई से हुई थी, लेकिन अभी तक इन तीनों शहरों के लिए एक भी फ्लाइट संचालित नहीं हो सकी थी. सोमवार से इंडिगो ने कोलकाता के लिए, स्पाइसजेट ने गुवाहाटी के लिए और एयर इंडिया ने आगरा के लिए फ्लाइट शुरू कर दी हैं.

स्पाइसजेट ने बढ़ाई फ्लाइट्स की संख्या:
स्पाइसजेट ने आज से मुम्बई के लिए भी फ्लाइट शुरू कर दी है. देश में कई एयरपोर्ट से गो एयर ने आज से फ्लाइट शुरू कर दी हैं, लेकिन जयपुर एयरपोर्ट से गो एयर ने अभी फ्लाइट संचालन शुरू नहीं किया है. आपको बता दें कि चार एयरलाइंस ने जयपुर एयरपोर्ट से कुल 20 फ्लाइट्स का शेड्यूल दिया हुआ है, इनमें से आज 7 फ्लाइट रद्द हैं, जबकि 13 फ्लाइट संचालित हो रही हैं.

निजी अस्पतालों के लिए एडवाइजरी जारी, कोरोना मरीजों का फ्री इलाज, अन्यथा होगी सख्त कार्रवाई 

जयपुर एयरपोर्ट से 7 फ्लाइट रद्द
- स्पाइसजेट की सुबह 5:40 बजे सूरत जाने वाली फ्लाइट SG-2763 हुई रद्द
- इंडिगो की सुबह 6:10 बजे बेंगलूरु जाने वाली फ्लाइट 6E-839 हुई रद्द
- स्पाइसजेट की सुबह 7:20 बजे जालंधर जाने वाली फ्लाइट SG-2750 हुई रद्द
- एयर एशिया की सुबह 9:15 बजे बेंगलूरु जाने वाली फ्लाइट I5-1721 हुई रद्द
- स्पाइसजेट की सुबह 10 बजे उदयपुर जाने वाली फ्लाइट SG-6632 हुई रद्द
- इंडिगो की दोपहर 12:40 बजे बेंगलूरु जाने वाली फ्लाइट 6E-498 हुई रद्द
- एयर इंडिया की शाम 5 बजे दिल्ली जाने वाली फ्लाइट AI-492 हुई रद्द

...फर्स्ट इंडिया के लिए काशीराम चौधरी की रिपोर्ट 

राजस्थान में राज्यसभा चुनाव की बिछी चौसर, तीन सीटों पर चार उम्मीदवार मैदान में 

VIDEO: आज से खुलेंगे प्रदेश के टाइगर रिजर्व और सफारी, टूरिज्म इंडस्ट्री में एक बार फिर बूम आने की उम्मीद

जयपुर: ढाई महीने लॉक डाउन में रहने के बाद आखिर जंगलात को पर्यटकों के लिए खोल दिया गया है. रणथंभौर, सरिस्का के अलावा सभी वाइल्डलाइफ सफारी, बायोलॉजिकल पार्क और चिड़ियाघर में पर्यटक अब पहले की तरह आ जा सकेंगे. राजधानी जयपुर में भी तीनों सफारी आज से शुरू हो जाएंगी. माना जा रहा है कि सरकार का यह कदम कोरोना पर आखिर पर्यटन की एक मजबूत जीत साबित होगा. 

 Lockdown 5.0: Unlock 1 होने का आगाज, राजस्थान में मिलेंगी कई तरह की छूट, ये अब भी बंद रहेंगे  

- आज से खुलेंगे प्रदेश के टाइगर रिजर्व और सफारी
- वाइल्डलाइफ सफारी टाइगर रिजर्व और अन्य संरक्षित क्षेत्र के लिए  एसओपी
- वाइल्डलाइफ क्षेत्र में प्रवेश से पहले होगी थर्मल स्क्रीनिंग
- वर्ल्ड लाइव क्षेत्र में प्रवेश के लिए मांस व दस्ताने पहनना अनिवार्य
- पर्यटक वाहनों में भी सोशल डिस्टेंसिंग जरूरी 
- सभी सफारी वाहनों का लगातार किया जाएगा सैनिटाइजेशन
- रोटेशन के आधार पर लगाई जाएगी स्टाफ की ड्यूटी
- एक फार्म बी भरना होगा जो गाइड और चालकों द्वारा भरा जाएगा 
- फार्म गाइड, ड्राइवर और पर्यटक का पूरा होगा ट्रैक रिकॉर्ड
- चिड़ियाघर बायोलॉजिकल पार्क और हाथी गांव के लिए एसओपी
- सभी वन कर्मियों की टूरिज्म लोकेशन पर होगी थर्मल स्क्रीनिंग 
- मास्क, दस्ताने और सैनिटाइजर का किया जाएगा उपयोग
- थोड़े-थोड़े अंतराल पर सोडियम हाइपोक्लोराइट का होगा छिड़काव 
- वॉशरूम और पेयजल पॉइंट पर रखा जाएगा खास ध्यान 
- रिसेप्शन क्षेत्र बैठने का क्षेत्र पर एक से डेढ़ मीटर की रखी जाएगी दूरी 
- ज्यादा भीड़ होने पर पर्यटन गतिविधि को रोका जाएगा 
- विजिटर बुक का संधारण होगा पता और मोबाइल नंबर लिखा जाएगा 
- कोविड-19 संदिग्ध के प्रवेश पर रहेगा प्रतिबंध
- ऑनलाइन टिकटिंग का अधिक उपयोग सुनिश्चित किया जाए 
- प्रवेश द्वार पर सैनिटाइजर की होगी व्यवस्था 
- सेल काउंटर पर सैनिटाइजर, सेफ्टी किट, मास्क, दस्ताने  की होगी व्यवस्था 
- रेस्टोरेंट व अन्य दुकानों के लिए भी सोशल डिस्टेंसिंग जरूरी 
- पर्यटक के पास आरोग्य सेतु एप होना जरूरी 
- 4 घंटे से ज्यादा पर्यटक नहीं रह पाएगा अंदर 
- चिड़ियाघर, बायोलॉजिकल पार्क और हाथी गांव के धार्मिक स्थल रहेंगे बंद

जंगलात में स्वच्छंद घूमते बाघ-बाघिन, भालू, पैंथर सहित अन्य वन्यजीवों की आकर्षित करती खेलें एक बार फिर पर्यटकों का मनोरंजन करने को तैयार हैं. कोविड-19 संक्रमण के चलते 18 मार्च को बंद किए गए प्रदेश के सभी टाइगर पार्क, सफारी, नेशनल पार्क, बायोलॉजिकल पार्क, चिड़ियाघर कल से खुल रहे हैं. राजधानी जयपुर में भी तीनों सफारी एक बार फिर शुरू हो रही हैं. हाथी गांव में हाथी सफारी, नाहरगढ़ में लॉयन सफारी और झालाना की विश्व प्रसिद्ध लेपर्ड सफारी पूरी तरह तैयार हैं. चीफ वाइल्ड लाइफ वार्डन अरिंदम तोमर ने केंद्र व राज्य सरकार की अनुमति मिलने के बाद प्रदेश के जंगलात को कल से पर्यटकों के लिए खोलने के आदेश जारी कर दिए हैं. केंद्र द्वारा जारी एसओपी के मुताबिक पर्यटक एक सख्त गाइडलाइन को फॉलो करते हुए नेशनल पार्क टाइगर पार्क और सफारी में प्रवेश कर सकते हैं.

टिकट दर में कोई बदलाव नहीं किया: 
रणथंभौर और सरिस्का सहित तमाम राष्ट्रीय उद्यान, टाइगर प्रोजेक्ट, बायोलॉजिकल पार्क और चिड़ियाघर में टिकट दर में कोई बदलाव नहीं किया है. पर्यटक अधिकतम 4 घंटे ही अंदर रह सकते हैं. इसके लिए भी मास्क लगाना जरूरी होगा, दस्ताने पहनने होंगे. एक ट्रैकिंग रजिस्टर भी मेंटेन किया जाएगा जिसमें सफारी संचालक गाइड और पर्यटक की तमाम डिटेल होगी. सैनिटाइजेशन और अन्य व्यवस्था भी पूरी तरह से चाक चौबंद रहेंगी. नेशनल पार्क को दोबारा शुरू किया जाने को लेकर सरिस्का फाउंडेशन के सचिव दिनेश दुर्रानी ने खुशी जाहिर की है और पर्यटकों से अपील की है कि वे गाइडलाइन को फॉलो करें ताकि पर्यटन तेजी से मुख्यधारा में आए. वहीं जयपुर चिड़ियाघर के डीसीएफ सुदर्शन शर्मा ने भी आज तमाम व्यवस्थाओं का जायजा लिया.

टूरिज्म इंडस्ट्री में एक बार फिर बूम आने की उम्मीद: 
करीब ढाई महीने बाद टाइगर रिजर्व नेशनल पार्क और तमाम जंगलात में होने वाली गतिविधियां शुरू होने से पर्यटन क्षेत्र को मजबूती मिलेगी. 1 जून से खुल रहे जंगलात को लेकर तमाम स्टेकहोल्डर्स में खुशी की लहर दौड़ गई है. दरअसल लॉक डाउन के चलते इस इंडस्ट्री को तकरीबन 10 करोड रूपए रोजाना का नुकसान उठाना पड़ रहा था. बहुत सारे जिप्सी संचालक, गाइड और होकर वेंडर अपनी रोजी-रोटी के लिए संघर्ष कर रहे थे. अब 8 जून से होटल रेस्टोरेंट खोलने को भी मंजूरी दे दी है. ऐसे में जंगलात से जुड़ी टूरिज्म इंडस्ट्री में एक बार फिर बूम आने की उम्मीद की जा रही है. हालांकि ऑफ सीजन के चलते अभी पर्यटकों की संख्या कम ही रहेगी. वैसे भी कोरोना संक्रमण में कोई उल्लेखनीय कमी नहीं आई है ऐसे में विदेशी पर्यटकों का आना तो अभी संभव नहीं ऐसे में पर्यटन उद्योग की नजरें घरेलू सैलानियों की तरफ है. दूसरी ओर वन्यजीव विशेषज्ञ टाइगर रिजर्व और जंगलात से जुड़ी पर्यटन गतिविधियां शुरू होने को लेकर उत्साहित हैं वन्यजीव विशेषज्ञ अनिल रोजर्स का कहना है कि पर्यटकों को सख्त गाइडलाइन का पालन करना होगा. इसके दो फायदे होंगे एक तो टाइगर रिजर्व सफारी और अन्य गतिविधियों में पर्यटकों का प्रवेश सीमित रहेगा. इससे ना तो वन्यजीवों को परेशानी होगी और ना ही महकमे को उनको नियंत्रित करने में मशक्कत करनी पड़ेगी. दूसरा सरकार को भी राजस्व मिलेगा इससे पर्यटन तेजी से मुख्यधारा में आएगा. झालाना लेपर्ड सफारी के रेंजर जनेश्वर सिंह का कहना है कि तमाम व्यवस्थाएं कर ली गई है पर्यटन शुरू होने से एक बार फिर हालात सामान्य होंगे इसका फायदा वन्य जीव और पर्यटन दोनों को होगा. 

UNLOCK-1: राजस्थान में होगी सार्वजनिक बस सेवा शुरू, कंटेनमेंट जोन को छोड़कर चलाई जाएगी बसें

देश में पर्यटन को शुरू करना निश्चित तौर पर स्वागत योग्य कदम:
कुल मिलाकर कहा जा सकता है कि सामान्य जनजीवन की ओर बढ़ रहे देश में पर्यटन को शुरू करना निश्चित तौर पर स्वागत योग्य कदम है. कोरोना पर जीत के लिए जरूरी है कि गाइडलाइन को फॉलो करते हुए तेजी से मुख्यधारा की ओर बढ़ा जाए. इससे न केवल इस क्षेत्र से जुड़े लोगों का रोजगार बचेगा वरन सरकार को भी राजस्व मिलेगा. 

जयपुर एयरपोर्ट से फ्लाइट संचालन का सातवां दिन, कुल 8 फ्लाइट हुई संचालित, 12 रही रद्द

जयपुर एयरपोर्ट से फ्लाइट संचालन का सातवां दिन, कुल 8 फ्लाइट हुई संचालित, 12 रही रद्द

जयपुर: जयपुर एयरपोर्ट से फ्लाइट्स का संचालन शुरू हुए रविवार को 7 दिन हो चुके हैं. हालांकि फ्लाइट के संचालन की संख्या नहीं बढ़ पा रही है. रविवार को भी एयरपोर्ट से 20 फ्लाइट में से मात्र 8 फ्लाइट संचालित हुई. जबकि 12 फ्लाइट का संचालन निरस्त करना पड़ा. सर्वाधिक 6 फ्लाइट स्पाइसजेट एयरलाइन की रद्द हुई. इसके अलावा दूसरी सबसे ज्यादा फ्लाइट इंडिगो की रद्द रही.

फ्लाइट्स कम संख्या में संचालित: 
इंडिगो की कुल 6 फ्लाइट में से केवल 2 फ्लाइट संचालित हुई और 4 का संचालन रद्द करना पड़ा. यात्रीभार की कमी की वजह से फ्लाइट्स कम संख्या में संचालित हो रही हैं. रविवार को एयर इंडिया ने भी आगरा और दिल्ली की अपनी दो फ्लाइट रद्द कर दी. हालांकि सोमवार से फ्लाइट के संचालन में सुधार होने के संकेत हैं. सोमवार से कोलकाता की एकमात्र फ्लाइट भी नियमित रूप से संचालित होगी.

UNLOCK-1: राजस्थान में होगी सार्वजनिक बस सेवा शुरू, कंटेनमेंट जोन को छोड़कर चलाई जाएगी बसें

-जयपुर एयरपोर्ट से आज 12 फ्लाइट रद्द, मात्र 8 चल रहीं
-स्पाइसजेट की सुबह 5:45 बजे सूरत की फ्लाइट SG-2763 रद्द
-स्पाइसजेट की सुबह 7:20 बजे जालंधर की फ्लाइट SG-2750 रद्द
-इंडिगो की सुबह 6:40 बजे मुंबई की फ्लाइट 6E-218 हुई रद्द
-इंडिगो की सुबह 6:10 बजे बेंगलुरु की फ्लाइट 6E-839 रद्द
-एयर इंडिया की सुबह 7:35 बजे आगरा की फ्लाइट 9I-687 रद्द
-एयर इंडिया की सुबह 10:45 बजे दिल्ली की फ्लाइट 9I-844 रद्द
-इंडिगो की शाम 4:45 बजे कोलकाता की फ्लाइट 6E-6156 रद्द
-स्पाइसजेट की सुबह 8 बजे मुंबई की फ्लाइट SG-279 हुई रद्द
-स्पाइसजेट की सुबह 9:45 बजे उदयपुर की फ्लाइट SG-6632 रद्द
-स्पाइसजेट की दोपहर 2:15 बजे गुवाहाटी की फ्लाइट SG-448 रद्द
-इंडिगो की शाम 8:05 बजे हैदराबाद की फ्लाइट 6E-471 रद्द
-स्पाइसजेट की दोपहर 3:30 बजे की फ्लाइट SG-6636 रद्द

UNLOCK-1: यूपी सरकार की गाइडलाइंस जारी, 8 जून से सभी शॉपिंग मॉल और धार्मिक स्थलों को खोलने की मंजूरी

UNLOCK-1: राजस्थान में होगी सार्वजनिक बस सेवा शुरू, कंटेनमेंट जोन को छोड़कर चलाई जाएगी बसें

जयपुर: अनलॉक-1 को लेकर राजस्थान सरकार की ओर से ACS होम राजीव स्वरूप ने की गाइडलाइंस जारी की. गाइडलाइंस के मुताबिक कंटेनमेंट जोन में किसी भी प्रकार की छूट नहीं दी जाएगी. ACS होम राजीव स्वरूप ने कहा कि प्रदेश में सार्वजनिक बस सेवा होगी की जाएगी. कंटेनमेंट जोन को छोड़कर बस सेवा शुरू होगी. अपने-अपने तय रूट पर सभी बसें चलेंगी. फिलहाल सिटी बसों का नहीं संचालन होगा. इससे पहले राजस्थान के मुख्यमंत्री गहलोत ने नई गाइडलाइन पर मुहर लगाई. ACS राजीव स्वरूप ने CM गहलोत से अप्रूवल ली. रविवार को सीएम गहलोत के पास राजीव स्वरूप ड्राफ्ट लेकर गए थे. मुख्यमंत्री गहलोत के साथ विभिन्न मुद्दों पर लंबा डिस्कशन चला. जिसके बाद राजीव स्वरूप ने गाइडलाइन जारी की. 

रात 9 बजे से सुबह 5 बजे तक जारी रहेगा नाइट कर्फ्यू:
अनलॉक-1 को लेकर राजस्थान सरकार की ओर से गाइडलाइंस जारी की गई, जिसमें बताया गया कि कंटेनमेंट जोन में किसी भी प्रकार की छूट नहीं मिलेगी. बफर जोन में जिला प्रशासन नियम तय करेगा. प्रदेश में रात 9 बजे से सुबह 5 बजे तक नाइट कर्फ्यू जारी रहेगा. स्कूल,कॉलेज,30 जून तक बंद रहेंगे. मेट्रो सेवा,मॉल,स्वीमिंग पूल, जिम, सिनेमा बंद रहेंगे. 

चिकित्सा मंत्री डॉ.रघु शर्मा ने प्रदेशवासियों से की अपील, तंबाकू,पान मसाला,अन्य व्यसनकारी पदार्थों को छोड़ने की अपील

सामाजिक एवं राजनीतिक कार्यक्रम नहीं होंगे:
गाइडलाइन के मुताबिक सामाजिक एवं राजनीतिक कार्यक्रम आयोजित नहीं होंगे. सार्वजनिक स्थल पर शराब,पान,धूम्रपान करना वर्जित रहेगा. सार्वजनिक स्थल पर थूकने पर जुर्माना लगेगा. धार्मिक स्थल,मॉल बंद रहेंगे. बुजुर्ग,गर्भवती महिला,बच्चों को घर में रहने की सलाह दी गई. छोटी दुकानों के अंदर 2, बड़ी दुकानों में 5 व्यक्ति एक साथ आ सकते है. 

सोशल डिस्टेंसिंग की पालना नहीं करने पर लगेगा जुर्माना:
गाइडलाइंस के मुताबिक सोशल डिस्टेंसिंग की पालना नहीं करने पर जुर्माना लगेगा. विवाह समारोह की SDM को सूचना देनी होगी. विवाह समारोह में 50 से ज्यादा मेहमानों पर पाबंदी रहेगी. अंतिम संस्कार में 20 से ज्यादा लोग शामिल नहीं हो सकते है. सरकारी कार्यालय पूर्ण क्षमता के साथ खुलेंगे. प्रत्येक व्यक्ति को अपनी जिम्मेदारी निभानी होगी. घर से बाहर निकलने पर मास्क लगाना अनिवार्य होगा. 

अब जयपुर के प्रतापनगर RUHS और सांगानेरी गेट महिला अस्पताल में मिलेगा कोरोना का उपचार

जयपुर जंक्शन पर 1 जून से चलेंगी 7 स्पेशल ट्रेनें, प्लेटफार्म नंबर 1 से ही होगा यात्रियों का प्रवेश और निकास

जयपुर: देश में अभी तक केवल 30 स्पेशल ट्रेनें और श्रमिक स्पेशल ट्रेनें चलाई जा रही हैं. लेकिन 1 जून से रेलवे की गति बढ़ जाएगी. देशभर में 1 जून से 200 स्पेशल एक्सप्रेस ट्रेनों का संचालन शुरू किया जाएगा. जयपुर जंक्शन से भी 7 स्पेशल ट्रेनों का संचालन शुरू हो जाएगा. इस दौरान किस तरह से यात्रियों को करनी होगी नए नियमों की पालना और कैसी स्टेशन पर व्यवस्था रहेगी. 1 जून से जयपुर जंक्शन पर आते-जाते वक्त 14 स्पेशल ट्रेनें रुकेंगी. दरअसल इन 200 स्पेशल ट्रेनों में 7 ट्रेनें ऐसी हैं जो कि जयपुर जंक्शन से होकर संचालित होंगी. यानी 14 स्पेशल ट्रेनें आते-जाते वक्त जयपुर जंक्शन पर रुकेंगी. ट्रेन में यात्रियों को अलग-अलग गेट से उतरना और चढ़ाना होगा.

मनरेगा श्रमिकों का कार्य समय कम किया जाये, डिप्टी CM सचिन पायलट ने लिखा केन्द्र को पत्र

स्टेशन पर एंट्री के लिए रहेगा एक ही गेट:
प्लेटफॉर्म पर यात्रियों को सोशल डिस्टेंसिंग के साथ लाइन में लगकर स्टेशन के अंदर और बाहर आना-जाना होगा. सोशल डिस्टेंसिंग के लिए एंट्री गेट से लेकर प्लेटफॉर्म तक पीले व सफेद रंग के पेंट से गोले बनाए गए हैं. अधिकांश ट्रेनों का संचालन प्लेटफॉर्म संख्या 1 से ही किया जाएगा. विशेष परिस्थिति में ही ट्रेनों को प्लेटफॉर्म संख्या 3 पर लिया जाएगा. यानी आठ प्लेटफॉर्म वाले स्टेशन पर सिर्फ दो प्लेटफॉर्म से ही ट्रेनों का संचालन किया जाएगा. स्टेशन पर एंट्री के लिए एक ही गेट रहेगा. जबकि एग्जिट के लिए दो गेट होंगे. आने-जाने वाले सभी यात्रियों की थर्मल स्क्रीनिंग की जाएगी और सोशल डिस्टेंसिंग के साथ एंट्री और एग्जिट कराया जाएगा. सभी यात्रियों को दो घंटे पहले स्टेशन पहुंचना होगा. यात्री में कोरोना के लक्षण दिखने पर यात्रा करने से रोक दिया जाएगा. बाहर निकलने वाले यात्रियों की स्क्रीनिंग प्लेटफॉर्म-1 के मजिस्ट्रेट गेट के सामने वाले और कॉनकोर्स हॉल वाले एग्जिट गेट पर बने काउंटर्स पर होगी.

जयपुर जंक्शन से ये 7 ट्रेनें चलेंगी
- 02477-78, जयपुर-जोधपुर-जयपुर रोजाना चलेगी
- 02916-15, दिल्ली-अहमदाबाद-दिल्ली आश्रम एक्सप्रेस रोजाना चलेगी
- 02955-56, मुंबई सेंट्रल-जयपुर-मुंबई रोजाना चलेगी
- 09167-68, अहमदाबाद-वाराणसी-अहमदाबाद साबरमती एक्सप्रेस, सप्ताह में 4 दिन चलेगी
- 02307-08, हावड़ा-जोधपुर-हावड़ा एक्सप्रेस, रोजाना चलेगी
- 02065-66, अजमेर-दिल्ली सराय-अजमेर जनशताब्दी, सप्ताह में 5 दिन चलेगी
- 02463-64, जोधपुर-दिल्ली सराय रोहिल्ला-जोधपुर संपर्क क्रांति, सप्ताह में 3 दिन चलेगी

8 जून से धार्मिक स्थलों को शर्तों के साथ खोलने की मंजूरी, गृह मंत्रालय की गाइडलाइन जारी

यात्रियों की गतिविधियों पर सीसीटीवी कैमरों से रखी जाएगी नजर:
1 जून से ट्रेनों का संचालन शुरू होने पर यात्रियों को प्लेटफार्म और वेटिंग हॉल में लगी कुर्सियों पर दूर-दूर बैठना पड़ेगा. इसकी निगरानी आरपीएफ व जीआरपी के जवान करेंगे. साथ ही यात्रियों की गतिविधियों पर सीसीटीवी कैमरों से नजर रखी जाएगी. वेटिंग हॉल में भी सीसीटीवी से मॉनिटरिंग की जाएगी. हसनपुरा की तरफ स्थित द्वितीय प्रवेश द्वार से यात्रियों का आवागमन पूरी तरह प्रतिबंधित रहेगा. स्टेशन पर केवल यात्री आ-जा सकेंगे. यात्रियों को लेने और छोड़ने आने वालों को प्रवेश नहीं दिया जाएगा. इसके अलावा एक महत्वपूर्ण बदलाव श्रमिक स्पेशल ट्रेनों को लेकर किया जा सकता है. श्रमिक स्पेशल ट्रेनों को शहर के सैटेलाइट स्टेशनों से चलाया जा सकता है. इन स्टेशनों में कनकपुरा, दुर्गापुरा, गांधीनगर, जगतपुरा, खातीपुरा स्टेशन शामिल हैं. हालांकि अगर दूसरी ट्रेनों के आने में समय का अंतराल होगा और प्लेटफॉर्म एक की उपलब्धता रहेगी, तो श्रमिक स्पेशल ट्रेनों को भी जयपुर जंक्शन से चलाया जाएगा. 

...फर्स्ट इंडिया के लिए काशीराम चौधरी की रिपोर्ट

पर्यटन क्षेत्र को मिलेगी संजीवनी,1 जून से खुलेंगे पर्यटन स्थल, शुरू में स्मारकों में प्रवेश रहेगा फ्री

जयपुर: राजस्थान की अर्थव्यवस्था की रीढ़ माने जाने वाले पर्यटन उद्योग के लिए लंबे इंतजार के बाद आज अच्छी खबर आई है. 1 जून से पर्यटन शुरू किया जा रहा है. जिसके तहत प्रदेश के सभी स्मारक, संग्रहालय, नेशनल पार्क, टाइगर प्रोजेक्ट और सफारी तथा बायो लॉजिकल पार्क पर्यटकों के लिए खोल दिए जाएंगे. हालांकि इस समय पर्यटन के लिहाज से ऑफ सीजन चल रहा है लेकिन सरकार के प्रयास है कि हैं कि ऑफ सीजन के दौरान इस तरह की गतिविधियां शुरू की जाएं कि पर्यटन आने वाले दिनों में दोबारा मुख्यधारा में लौट सके. ध्यान रहे पर्यटन उद्योग को हो रहे नुकसान को लेकर फर्स्ट इंडिया न्यूज़ लगातार खबर प्रसारित करता रहा है. फर्स्ट इंडिया न्यूज़ में ही सबसे पहले जून में पर्यटन शुरू होने के संकेत भी दे दिए थे.

पर्यटन उद्योग को प्रतिदिन 10 करोड़ से ज्यादा का हुआ नुकसान:
दरअसल कोरोना संक्रमण के चलते प्रदेश में पर्यटन उद्योग को 18 मार्च को लॉक डाउन कर दिया गया था. 31 मई को प्रदेश में पर्यटन को बंद हुए ढाई महीने हो जाएंगे. इस दौरान पर्यटन उद्योग को प्रतिदिन 10 करोड़ से ज्यादा का नुकसान हुआ है. 75 दिन के नुकसान का आकलन करें तो यह राशि 3500 करोड रुपए से ज्यादा की होती है. पर्यटन व्यवसाय से जुड़े तमाम स्टेक होल्डर जिनमें होटल, क्लब, बार, गाइड, ट्रांसपोर्ट, हस्तशिल्प, ज्वेलरी, इवेंट मैनेजमेंट के अलावा छोटे-छोटे वेंडर हॉकर सभी हाशिए पर आ गए हैं. विदेशी पर्यटकों की बात करें तो वर्ष 2021 तक की तमाम बुकिंग रद्द हो चुकी हैं. ट्रैवल ट्रेड से जुड़ी 10 हजार से ज्यादा छोटी बड़ी एजेंसी बंद हो चुकी हैं.

70 फ़ीसदी लोग प्रत्यक्ष और परोक्ष रूप से हुए बेरोजगार:
टूरिज्म ट्रेड से जुड़े 70 फ़ीसदी लोग प्रत्यक्ष और परोक्ष रूप से बेरोजगार हुए हैं. प्रदेश के पांच सितारा होटल से लेकर तमाम बजट होटल तक भारी घाटे में चले गए हैं. स्टाफ को या तो लंबी छुट्टी पर भेज दिया गया है या उनके वेतन में भारी कटौती की गई है. अब उम्मीद है तो सरकार से कि वह इस इंडस्ट्री को दोबारा से खड़ा करने के लिए न केवल रियायतें दे वरन आर्थिक पैकेज भी प्रदान करें. इस स्थिति को ध्यान में रखते हुए राज्य के पर्यटन मंत्री विश्वेंद्र सिंह, पर्यटन विभाग की प्रमुख सचिव श्रेया गुहा, निदेशक डॉ भंवरलाल सहित तमाम अफसरों के साथ बैठकर एक रिवाइवल प्लान तैयार किया है. रिवाइवल प्लान केेे तहत ही शुरुआत में स्मारकों में पर्यटकों का प्रवेश निशुल्क रहेगा. इस मामले में स्टेट वाइल्डलाइफ बोर्ड के सदस्य और ट्री हाउस रिसॉर्ट के मालिक सुनील मेहता साफ कहते हैं कि लॉक डाउन के इंडस्ट्री पर दो तरह के प्रभाव पड़ेंगे. इंडस्ट्री को अरबों खरबों का नुकसान हुआ है लेकिन लॉक डाउन हटने के बाद भारत से बाहर जाने वाले पर्यटक नए पर्यटन स्थलों की ओर मुड़ेंगे, इससे राजस्थान सहित पूरे देश को फायदा भी होगा.

जयपुर एयरपोर्ट से हवाई यात्रा का पांचवां दिन, 20 में से मात्र 9 फ्लाइट का हुआ संचालन

विदेशी पर्यटकों का अगले डेढ़ दो साल तक भारत आना संभव नहीं:
दरअसल भारत से करीब सवा करोड़ लोग हर साल विदेश भ्रमण के लिए जाते हैं. इसी तरह करीब 65 लाख विदेशी हर साल भारत घूमने आते हैं. कोविड-19 के चलते विदेशी पर्यटकों का अगले डेढ़ दो साल भारत आना संभव नहीं लगता. ऐसे में हालात सामान्य होने पर अगले एक-दो महीने में भारत से बाहर जाने वाले पर्यटकों को देश में ही सुरक्षित और प्राकृतिक नजारों से लबरेज नए पर्यटन स्थलों की तलाश रहेगी. पर्यटन उद्योग को इस स्थिति का ही लाभ उठाना है. घरेलू पर्यटकों को बेहतर और सुरक्षित सुविधाओं के साथ ऐसे पर्यटन स्थलों पर स्टे कराना चाहिए जो अभी मुख्यधारा में नहीं रहे. इसके लिए प्रदेश का पर्यटन महकमा पिछले 2 वर्ष से काफी मेहनत भी कर रहा है विभाग की प्रमुख सचिव श्रेया गुहा और उनकी टीम ने प्रदेश में नए पर्यटन स्थलों की तलाश की है और वहां आधारभूत सुविधाओं के विकास के भी प्रयास किए जा रहे हैं.

लॉकडाउन के बाद दोबारा से मुख्यधारा में लाना बड़ी चुनौती:
पर्यटन मंत्री विश्वेंद्र सिंह ने भी साफ तौर पर कहा है कि पर्यटन को लॉक डाउन के बाद दोबारा से मुख्यधारा में लाना बड़ी चुनौती तो है लेकिन इसे एक अवसर के तौर पर देखना चाहिए। विश्वेंद्र सिंह ने सरकार से भी मांग की है कि इंडस्ट्री को दोबारा मजबूती से खड़ा करने के लिए सरकार जितने पैकेज, रियायत व अन्य तरह से मदद कर सकती है वह जल्दी से जल्दी करनी चाहिए. सूत्रों की मानें तो राज्य सरकार ने जो टूरिज्म इंडस्ट्री के लिए रिवाइवल प्लान तैयार किया है उसके तहत होटल इंडस्ट्री को टैक्स में छूट दी जा सकती है. पर्यटन स्थलों पर सोशल डिस्टेंसिंग ध्यान रखते हुए उन्हें शुरू किया जा रहा है. पर्यटन स्थलों पर प्रवेश शुल्क में कमी की गई है. विभिन्न सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स के जरिए प्रदेश के पर्यटन उत्पादों का प्रचार-प्रसार भी तेजी से शुरू किया जाएगा. बहरहाल लॉक डाउन से नुकसान को लेकर टूर ऑपरेटर हो या फिर फॉरेन एक्सचेंजर सभी में भारी निराशा के भाव हैं.

प्रदेश की अर्थव्यवस्था के सबसे मजबूत स्तंभ:
कुल मिलाकर कहा जा सकता है कि प्रदेश की अर्थव्यवस्था के सबसे मजबूत स्तंभ समझे जाने वाले पर्यटन उद्योग को जिस सरकारी संजीवनी की जरूरत कि वह मिल गई है. हालांकि अभी पैकेज की घोषणा नहीं हुई है लेकिन जिस तरह से 1 जून से प्रदेश में पर्यटन शुरू होने जा रहा है उससे उम्मीद की जा सकती है कि कोरोना से संघर्ष में टूरिज्म इंडस्ट्री ने जो दमखम दिखाया है निश्चित तौर पर राजस्थान उसमें सबसे आगे खड़ा दिखाई देगा.  

प्रवासियों के मूमेंट से बढ़ रहे कोरोना केस जल्द होंगे कम, राजस्थान में कोरोना के हालात को लेकर स्वास्थ्य भवन में समीक्षा

टूरिज्म ट्रेड के लिए इस वक्त की सबसे बड़ी खबर, 1 जून से प्रदेश में खोल दिए जाएंगे स्मारक और नेशनल पार्क

टूरिज्म ट्रेड के लिए इस वक्त की सबसे बड़ी खबर, 1 जून से प्रदेश में खोल दिए जाएंगे स्मारक और नेशनल पार्क

जयपुर: कोरोना रोकथाम के लिए लगाए लॉकडाउन की वजह से बंद पडे टूरिज्म ट्रेड के लिए इस वक्त की सबसे बड़ी खबर मिल रही है. 1 जून से राजस्थान में स्मारक और नेशनल पार्क खोल दिए जाएंगे. 

कुछ दिनों के लिए पर्यटकों का प्रवेश रहेगा निशुल्क: 
स्मारकों में कुछ दिनों के लिए पर्यटकों का प्रवेश निशुल्क रहेगा. नेशनल पार्क में सफारी की दरों में भी कमी की जाएगी. प्रदेश में 18 मार्च से स्मारक और नेशनल पार्क बंद थे. टूरिज्म ट्रेड को अभी तक करीब 4000 करोड़ का नुकसान हो चुका है. होटल, रिजॉर्ट्स भी 1 जून से शुरू किए जा सकते हैं. 

जयपुर सचिवालय में कोरोना की दस्तक, 1 चतुर्थ श्रेणी कर्मी की मां की हुई थी मौत, रिपोर्ट आई थी कोरोना पॉजिटिव 

स्मारक और नेशनल पार्क खोलने का निर्णय:
आपको बता दें कि कोरोना बचाव के लिए लगाये गए लॉकडाउन की वजह से राजस्थान में इमरजेंसी सेवाओं को छोडकर सभी बंद थे. लेकिन लॉकडाउन के चौथे चरण में अधिकांश सभी जगह छूट दी गई है. ऐस में लॉकडाउन का चौथा चरण 31 मई को समाप्त होने जा रहा है. ऐसे में प्रदेश सरकार ने पर्यटन प्रेमियों के लिए स्मारक और नेशनल पार्क खोलने का निर्णय लिया.

राजगढ़ SHO आत्महत्या प्रकरण: राजेंद्र राठौड़ समेत 150 लोगों के विरुद्ध मुकदमा दर्ज !

नहीं बढ़ रहा फ्लाइट्स का संचालन, कोलकाता के लिए एयर कनेक्टिविटी शुरू होने का इंतजार

जयपुर: घरेलू फ्लाइट्स का संचालन शुरू हुए गुरुवार को चौथा दिन है, लेकिन जयपुर इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर अभी भी फ्लाइट्स का संचालन नहीं बढ़ पा रहा है. हालांकि आज अपेक्षाकृत रूप से यात्रीभार अधिक देखा जा रहा है. लेकिन इसके बावजूद गुरुवार को 20 में से 11 फ्लाइट रद्द रही हैं. फ्लाइट संचालन के चौथे दिन भी पश्चिम बंगाल के लिए एयर कनेक्टिविटी शुरू नहीं हो सकी है. जयपुर से पश्चिम बंगाल के कोलकाता के लिए इंडिगो एयरलाइन ने एक फ्लाइट शुरू करने का शेड्यूल दिया है, लेकिन पश्चिम बंगाल की राज्य सरकार के विरोध के कारण अभी तक इस फ्लाइट को उड़ान भरने की मंजूरी नहीं मिल सकी. एयरपोर्ट प्रशासन से जुड़े सूत्रों का कहना है कि शुक्रवार से कोलकाता के लिए फ्लाइट शुरू हो सकती है.

मुम्बई के लिए फिर रद्द हुई इंडिगो की फ्लाइट:
हालांकि गुरुवार को भी कुल फ्लाइट्स की संख्या में कमी देखी गई है. बुधवार को जहां जयपुर एयरपोर्ट से 10 फ्लाइट संचालित हुई थीं, वहीं आज 9 फ्लाइट ही संचालित हो रही हैं. दरअसल चार एयरलाइंस ने जयपुर एयरपोर्ट से कुल 20 फ्लाइट संचालित करने के लिए शेड्यूल दिया था. इनमें सर्वाधिक 8 फ्लाइट का शेड्यूल स्पाइसजेट एयरलाइन ने दिया था. इंडिगो ने 6 फ्लाइट, एयर इंडिया और एयर एशिया ने तीन-तीन फ्लाइट संचालित करने की बात कही थी, लेकिन पिछले चार दिनों में अभी तक एक भी दिन सभी 20 फ्लाइट संचालित नहीं हो सकी हैं. गुरुवार को 11 फ्लाइट्स जयपुर एयरपोर्ट से रद्द की गई हैं. स्पाइसजेट की 6, इंडिगो की 2, एयर एशिया की 2 और एयर इंडिया की 1 फ्लाइट रद्द हुई है.

धौलपुर के सैपऊ में तूफान से गिरा मकान, मलबे में दबने से 3 लोगों की मौत 

ये 11 फ्लाइट आज रद्द
- स्पाइसजेट की सुबह 5:45 बजे सूरत जाने वाली फ्लाइट SG-2763 हुई रद्द
- स्पाइसजेट की सुबह 7:20 बजे जालंधर जाने वाली फ्लाइट SG-2750 हुई रद्द
- इंडिगो की सुबह 6:40 बजे मुंबई जाने वाली फ्लाइट 6E-218 हुई रद्द
- एयर इंडिया की सुबह 7:35 बजे आगरा जाने वाली फ्लाइट 9I-687 हुई रद्द
- इंडिगो की शाम 4:45 बजे कोलकाता जाने वाली फ्लाइट 6E-6156 हुई रद्द
- स्पाइसजेट की सुबह 8 बजे मुंबई जाने वाली फ्लाइट SG-279 हुई रद्द
- स्पाइसजेट की सुबह 9:45 बजे उदयपुर जाने वाली फ्लाइट SG-6632 हुई रद्द
- स्पाइसजेट की सुबह 11:15 बजे अमृतसर जाने वाली फ्लाइट SG-3522 हुई रद्द
- स्पाइसजेट की दोपहर 2:15 बजे गुवाहाटी जाने वाली फ्लाइट SG-448 हुई रद्द
- एयर एशिया की सुबह 9:15 बजे बेंगलूरु जाने वाली फ्लाइट I5-1721 हुई रद्द
- एयर एशिया की शाम 5:15 बजे पुणे जाने वाली फ्लाइट I5-1427 हुई रद्द

हालांकि यात्रीभार में दिख रही अपेक्षाकृत बढ़ोतरी:
जिस तरह से एयरलाइंस अपने शेड्यूल के मुताबिक फ्लाइट संचालित नहीं कर रही हैं, उससे यात्रियों के लिए परेशानी बढ़ गई है. दरअसल जिन यात्रियों ने फ्लाइट में पहले से बुकिंग कर ली है, उनके टिकट को रद्द किया जा रहा है. इसके एवज में यात्रियों को उनकी राशि भी नहीं लौटाई जा रही है, बल्कि उनकी राशि को क्रेडिट शेल के रूप में एयरलाइन अपने पास ही रख रही हैं. ऐसे में यदि यात्रियों का दुबारा कोई शेड्यूल नहीं बैठता है तो उन्हें इसका रिफंड कभी नहीं मिल सकेगा. हालांकि एयरलाइंस का कहना है कि यात्री अगले एक साल की अवधि में इस क्रेडिट शेल की राशि से टिकट बुक करवा सकते हैं. आपको बता दें कि इस कारण जिन यात्रियों ने मुम्बई, जालंधर, सूरत आदि शहरों से आने या जाने के लिए टिकट बुक करवा रखे थे, उन्हें इसका नुकसान झेलना पड़ रहा है. अब देखना होगा कि फ्लाइट्स के रद्द होने का यह सिलसिला कितने दिनों तक जारी रहेगा.

COVID-19 की वैक्सीन बनाने में 30 ग्रुप कर रहे है काम, अक्टूबर तक मिल सकती है सफलता:  डॉ. राघवन

...फर्स्ट इंडिया के लिए काशीराम चौधरी की रिपोर्ट

Open Covid-19