Live News »

हिमालय में दिखे हिममानव के पैरों के निशान, भारतीय सेना ने दिखाए सबूत

हिमालय में दिखे हिममानव के पैरों के निशान, भारतीय सेना ने दिखाए सबूत

जयपुर। हिमालयी इलाकों में बर्फ के मानव के होने की जो कहानियां सैंकड़ों सालों से सुनाई जाती है, अब उन कहानियों के सच होने के दावे सामने आ रहे हैं। जी हां भारतीय सेना ने इसी महीने की शुरुआत में मकाउ बेस कैंप के पास हिममानव यानि येति को देखने का दावा किया है। भारतीय सेना की ओर से खास तौर पर इस येती के पैरों के निशान की फोटोग्राफ भी अपनी ट्विटर हैंडल पर पोस्ट की गई है। सेना के मुताबिक उनकी माउंटेरियंग एक्पीडिशन टीम ने पहाड़ों की बर्फ में विशाल मानव येति के पैरों के निशान देखे हैं। हालांकि हिमालय के इलाकों में पहले भी कई बार हिम मानव येति को देखे जाने का दावा किया गया है।

भारतीय सेना की ओर से ट्वीट में बताया गया है कि उनकी माउंटेरियंग टीम ने करीब 35x15 इंच के साइज वाले पैरों के निशान बर्फ में देखे हैं। सेना ने कहा है कि ये घटना 9 अप्रैल की है और मकालू बारून नेशनल पार्क में येति के पैरों के निशाने देखे गए हैं। अपने ट्वीट के सपोर्ट में सेना ने कुछ फोटोग्राफ्स भी पोस्ट की  हैं। आपको बता दें कि मकालू बारून नेशनल पार्क नेपाल में है और इसकी स्थापना 1992 में हुई थी। ये दुनिया का इकलौता ऐसा प्रोटेक्टेड क्षेत्र है जो 8 हजार मीटर की उचाई पर है। 

हालांकि इस बात का फैसला अभी तक दुनिया में कहीं नहीं हो सका है कि येति वाकई दुनिया में होते हैं या ये सिर्फ कहानियों का हिस्सा हैं। कुछ लोगों का दावा है कि उन्होने हिम मानव को देखा है तो वहीं कुछ लोग इसे सिर्फ कल्पनाओं का हिस्सा मानते हैं।

आइए आपको बताते हैं कि आखिर कौन हैं येति?
- दुनिया के सबसे बड़े और रहस्यमय प्राणियों में से एक है
- कुछ रिसर्चर इस ध्रुवीय भालू की नस्ल का मानते हैं
- येति की प्रजाति 40 हजार साल पुरानी मानी जाती है
- दावा है कि येति की शक्ल बंदर जैसी होती है
- इंसानों की तरह दो पैरों पर चलने का भी दावा किया जाता है
- कई बार येति को देखे जाने की बात सामने आई
- लद्दाख के कुछ बौद्ध मठ भी येति को देखने का दावा कर चुके हैं
- नेपाल और तिब्बत के हिमालय क्षेत्र में येति का निवास माना जाता है

जाहिर है येति या हिममानव दुनिया के सबसे रहस्यमयी प्राणियों में से एक है जिसकी कहानियां करीब 100 साल से भी ज्यादा पुरानी है। पहले भी कुछ पर्वतारोहियों, वैज्ञानिकों और बौद्ध मठों की ओर से हिम मानव को देखे जाने का दावा किया जा चुका है। बताया जाता है कि 1950 के दशक में हिममानव येति को पहली बार देखा गया था हालांकि उस वक्त भी इसको साबित करने के लिए सबूत नहीं दिए जा सके थे। देखना है कि इस बार भारतीय सेना के दावों के बाद येति की तलाश में दुनिया कितना आगे बढ़ पाएगी। 

....ब्यूरो रिपोर्ट फर्स्ट इंडिया न्यूज
 

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें
और पढ़ें

Stories You May be Interested in