close ads


कोरोना वैक्सीन को लेकर अमेरिकी वैज्ञानिकों की तरफ से आई अच्छी खबर, पहले परीक्षण में मिली सफलता

कोरोना वैक्सीन को लेकर अमेरिकी वैज्ञानिकों की तरफ से आई अच्छी खबर, पहले परीक्षण में मिली सफलता

वॉशिंगटन: इस समय पूरी दुनिया में कोरोना वायरस के खिलाफ जंग चल रही है. अब तक 50 हजार से ज्यादा लोग इस इस बीमारी से मारे जा चुके हैं तो वहीं 10 लाख से ज्यादा लोग इससे संक्रमित हो गए हैं. दुनिया के कई देश इस विकट परिस्थिती में लॉकडाउन का सहारा ले रहे हैं. ऐसे में अमेरिकी वैज्ञानिकों की तरफ से सुखद खबर आई है. कोरोना वायरस से मुकाबले के लिए तैयार की जा रही एक संभावित वैक्सीन अपने पहले परीक्षण में चूहों पर सफल पाई है. 

 Coronavirus: 465 साल पहले हो गई थी कोरोना वायरस को लेकर भविष्यवाणी! बताया था खतरा 

वैक्सीन से कोरोनावायरस के संक्रमण को मजबूती से रोका जा सकता है:
जानकारी के अनुसार यह वैक्सीन इतनी मात्रा में प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया की उत्पत्ति करने में सफल पाई गई, जिससे इस खतरनाक वायरस को बेअसर किया जा सकता है. अमेरिका में यूनिवर्सिटी ऑफ पीट्सबर्ग के स्कूल ऑफ मेडिसिन के सह-वरिष्ठ लेखक आंद्रिया गैम्बोटो ने दावा किया है कि हमारे पास 2003 में सार्स-2 और 2014 में एमईआरएस का अनुभव है. इसी के आधार पर हमने जो खोज की है उस वैक्सीन से कोरोनावायरस के संक्रमण को मजबूती से रोका जा सकता है. 

राज्यपाल कलराज मिश्र ने की प्रदेशवासियों से अपील, सभी धर्मों के लोगों को दिखानी है एकजुटता 

परीक्षण के अगले चरण में यह वैक्सीन इंसानों पर आजमाई जाएगी:
ईबायोमेडिसिन पत्रिका में इस पर हुए अध्ययन की पूरी जानकारी प्रकाशित हुई है. शोधकर्ताओं के अनुसार यह वैक्सीन इंजेक्ट करने के दो सप्ताह में ही वायरस को बेअसर करने में सक्षम होगी. शोधकर्ताओं का कहना है कि यह वैक्सीन एनिमल टेस्ट में सफल पाई गई है. परीक्षण के अगले चरण में यह वैक्सीन इंसानों पर आजमाई जाएगी. शोधकर्ताओं ने बताया कि इस वैक्सीन को बड़े पैमाने पर बनाया जा सकता है. 


 

और पढ़ें