VIDEO : जेल में 'पैसे का खेल', कैदियों से मुलाकात के लिए बनी कैटेगिरी

FirstIndia Correspondent Published Date 2019/03/07 01:22

चित्तौडगढ़। प्रदेशभर की जेलों में आए दिन कैदियों को वीआईपी सुविधा मुहैया कराने और उसके बदले में राशि वसूल करने के मामले सामने आते रहते हैं। लेकिन कार्यवाही के नाम पर नतीजा ढ़ाक के तीन पात ही होता नज़र आता है। ऐसा ही एक मामला चित्तौडगढ़ जिला जेल का सामने आया है, जहां सामान्य मुलाकात कराने, वीआईपी मुलाकात कराने और जेल में कैदियों को विशेष सुविधाएं दिलाने के नाम पर राशि वसूली जा रही है।

दरअसल, चित्तौड़गढ़ जिला जेल का एक वीडियो सामने आया है, जिसमें जेल प्रबंधन द्वारा कैदियों को उपलब्ध करवाए जाने वाली विशेष सुविधाओं का पूरा उल्लेख है। बड़े पैमाने पर जिला कारागृह में बंदियों के परिजनों से वसूली का ये खेल चल रहा है। यहां हर काम की अलग रेट है। फर्स्ट इंडिया के हाथ लगे इस वीडियो में मिलने वाली वीआईपी सुविधाओं की रेटलिस्ट खुलकर सामने आ गई है।

कैदियों की मुलाकात के लिए बनाए गए विशेष जाली के कक्ष में अधिक समय देने के लिए 300 रुपए, वीआईपी मुलाकात कराने के लिए 2500 रुपए और मामले में सहयोग करने और अन्य सुविधाएं देने के लिए 10 हजार रूपए की रेट तय की गई है। मुलाकात के लिए बनाए गए जालीदार कमरे में एक ओर कैदी रहते हैं। दूसरी ओर, उनसे मुलाकात करने वाले लोग मौजूद रहते हैं। अतिरिक्त समय देने के लिए 200 रूपये से 300 रुपये  वसूल किए जाते हैं।

मुलाकात करने जाने वाले लोग जाली से राशि अंदर फैंकते हैं और बाद में ये राशि सफाई करने वाले वाईपर के माध्यम से जेल के अंदर की ओर इकठ्ठा की जा रही है। इसका पूरा वीडियो फर्स्ट इंडिया न्यूज़ के पास मौजूद है। हालांकि फर्स्ट इंडिया न्यूज़ इस वीडियो—ऑडियो की पुष्टि नहीं करता है। यह वीडियो 2 मार्च 2019 का बताया जा रहा है। मामले को लेकर जेलर दुल्हेसिंह कुछ भी कहने से इंकार कर रहे हैं और इस वीडियो को नकार रहे हैं।

खुलेआम जेल में चलता खेल :
कैदी को किस बैरक में रखना है और कितनी सुविधाएं देनी है, ये इस बात पर निर्भर करता है कि उसने कितने रुपए खर्च किए हैं। जो जितना ज्यादा रूपया खर्च करता है, उसे उतनी ही वीआईपी सुविधाएं मिल जाती है। वीडियो से कई बातें खुलकर सामने आई है। अब देखना यह है कि जेल में मौजूद जेलर और प्रहरियों के खिलाफ क्या कार्रवाई होती है।

चित्तौड़गढ़ से पीके अग्रवाल की रिपोर्ट

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in