Live News »

ब्रेक्जिट समझौते को लेकर टेरीजा मे संसद में पेश करेंगी 'प्लान-बी'

ब्रेक्जिट समझौते को लेकर टेरीजा मे संसद में पेश करेंगी 'प्लान-बी'

लंदन। ब्रिटेन की प्रधानमंत्री टेरीजा मे आज ब्रेक्जिट के बारे में वैकल्पिक योजना प्लान-बी संसद में पेश करेंगी। ब्रिटेन के यूरोपीय संघ से बाहर निकलने के प्रधानमंत्री के समझौते के संसद में अस्वीकार होने के बाद प्लान-बी पेश करना आवश्यक हो गया है। टेरीजा मे सरकार बुधवार को विश्वासमत हासिल करने में सफल रही थी। उन्होंने विपक्षी दलों से बातचीत का प्रस्ताव किया था। 

गौरतलब है कि ब्रिटेन को 29 मार्च तक यूरोपीय संघ से अलग होना है। संसद में ब्रेक्जिट समझौते को सहमति न मिलने या मिलने में देर होने पर ब्रिटेन बिना समझौते के ही यूरोपीय संघ से अलग हो जाएगा। बता दें कि 28 देशों की सदस्यता वाले यूरोपीय संघ से ब्रिटेन के बाहर हो जाने को ब्रेक्जिट कहा जा रहा है। इसे दुनिया में ब्रेक्जिट का नाम दिया गया है। जो ब्रिटेन और एक्जिट दो शब्दों से मिलकर बना है। इस मुद्दे पर ब्रिटेन में पहला जनमत संग्रह 23 जून, 2016 को हुआ था। इसमें अधिकतर लोगों ने संघ से अलग होने के पक्ष में मतदान किया था। इसके बाद थेरेसा मे प्रधानमंत्री बनीं। अब ब्रिटेन 29 मार्च 2019 को यूरोपियन संघ से अलग होगा, लेकिन अगर संघ के सभी सदस्य इससे सहमत नहीं होते तो ये टल भी सकता है। 

और पढ़ें

Most Related Stories

जल्द बन सकता है कोरोना वायरस का टीका, डॉक्टरों का रिसर्च जारी !

जल्द बन सकता है कोरोना वायरस का टीका, डॉक्टरों का रिसर्च जारी !

नई दिल्ली: कोरोना वायरस ने पूरी ​दुनिया में हाहाकार मचा दिया है. इसकी चपेट में आने से दुनियाभर में हजारों की लोगों की मौत हो गई. वहीं लाखों इंसान इससे संक्रमित है. पहले ये चीन के वुहान शहर से फैलना शुरू हुआ था, जिसके बाद दुनिया के कई देशों में पैर पसार चुका है. कई देशों में लॉकडाउन है. इमरजेंसी सेवाओं को छोडकर सभी बंद है. फिर भी इनके मामले थमने का नाम नहीं ले रहे है. 

CORONA: घबराये नहीं, बस लक्षण दिखने पर तुरंत ले डॉक्टर से परामर्श, ले मेडिकल ट्रीटमेंट

जल्द बन सकता है इसका टीका:
कोरोना के कोहराम के बाद इससे बचाव के लिए तमाम प्रयास किए जा रहे है. वहीं कई देशों के वैज्ञानिक भी इसकी दवा बनाने की कोशिश कर रहे है. लेकिन अभी तक इस​का कोई टीका नहीं बन पाया है. इस वायरस के बारे में और इसके संक्रमण के तरीक़ों के बारे में जानकारी तो मिल जाती है, लेकिन अब तक इसका कोई उपचार नहीं मिला है. विश्व स्वास्थ्य संगठन सहित कई देशों में डॉक्टर इससे निपटने के लिए टीका तलाशने के काम में लगे हुए है, लेकिन क्या इसका टीका जल्द बन पाएगा?

कब बनेगी कोरोना वैक्सीन?
कोरोना वायरस पर शोध करने वाले चिकित्सकों का कहना ​है कि उन्होंने इसका टीका बना लिया है और इस टीके का टेस्ट पहले जानवरों पर किया जा रहा है. अगर सब कुछ सही रहा तो इसी वर्ष इंसानों में भी इसका परीक्षण शुरु होगा. अगर वैज्ञानिक इस बात से ख़ुश भी हैं कि कोरोना वायरस के लिए टीका मिल गया है तब भी बड़े पैमाने पर इसका उत्पादन शुरु होने में अभी समय लग सकता है. इसका मतलब यह हुआ कि असल में अभी भी ये नहीं कहा जा सकता कि अगले वर्ष से पहले ये टीका बाज़ार में उपलब्ध हो जाएगा.

राहत भरी भविष्यवाणी..! तो अप्रैल मध्य तक हो जाएगा कोरोना वायरस का खात्मा, ज्योतिषीय गणनाओं में हुआ खुलासा

कोरोना पर जीत के लिए तेजी से काम:
कोरोना वायरस से जीतने के लिए दुनियाभर के डॉक्टर तेजी से कार्य कर रहे है. इसके टीके बनाने के लिए तमाम प्रयास किए जो रहे है. लेकिन अभी तक कहा नहीं जा सकता कब तक टीका उपलब्ध हो पाएगा?

अब कोरोना की चपेट में जानवर, न्यूयॉर्क में बाघिन मिली पॉजिटिव, जू जनता के लिए बंद  

अब कोरोना की चपेट में जानवर, न्यूयॉर्क में बाघिन मिली पॉजिटिव, जू जनता के लिए बंद  

नई दिल्ली: दुनियाभर में इंसान पर कहर बरपाने के बाद कोरोना वायरस ने अब जानवरों पर कहर बरपाना शुरू कर दिया ​है. खबर अमेरिका के न्यूयॉर्क से है. यहां पर शहर के जू में एक टाइगर कोरोना संक्रमित पाया गया. द वाइल्‍ड लाइफ कंजर्वेशन सोसाइटी के ब्रोंक्स जू की और से बयान जारी किया गया. बयान के अनुसार न्यूयॉर्क शहर के एक बाघ को कोरोना टेस्‍ट में पॉजिटिव पाया गया है. जू में 4 वर्ष की नादिया नाम की मादा मलय बाघ में सूखी खांसी की शिकायत दर्ज की गई, जिसके बाद उसे संक्रमित पाकर निगरानी में रखा गया है. 

राहत भरी भविष्यवाणी..! तो अप्रैल मध्य तक हो जाएगा कोरोना वायरस का खात्मा, ज्योतिषीय गणनाओं में हुआ खुलासा

अन्य जानवरों में पाये गए लक्षण:
जानकारी के मुताबिक बाघिन को यह वायरस जू के ही किसी कर्मचारी से होने के बात सामने आई है. बाघिन के साथ ही 3 अन्य बाघ और 3 अफ्रीकी शेर में भी ऐसे ही लक्षण नजर आये. बाघिन के कोरोना से संक्रमित पाए जाने के बाद से ही जू को जनता के लिए बंद कर दिया गया है. मीडिया रिपोर्टस के मुताबिक किसी जानवर को कोरोना पॉजिटिव मिलने का यह पहला मामला उजागर हुआ है. 

BJP स्थापना दिवस : PM मोदी का संबोधन, कहा-हमने हर स्तर पर कोरोना के खिलाफ प्रयास किए, WHO ने भी भारत के प्रयासों को सराहा

खांसी और सांस लेने में परेशानी:
बाघिन को सूखी खांसी और सांस लेने में परेशानी हो रही थी,  जिसके बाद उसकी जांच की गई. जिसमें बाघिन कोरोना पॉजिटिव पाई गई. इसके बाद चिड़ियाघर के कई बाघ और शेर में इसी तरह के लक्षण नजर आये. मीडिया रिपोर्टस के मुताबिक विज्ञप्ति में बताया गया है कि बाघिन को यह वायरस उसकी देखभाल करते हुए किसी कर्मचारी के जरिए फैला है. वहीं अब जू के सभी जानवरों की अच्छे से देखभाल की जा रही है और सभी विशेष निगरानी में हैं. साथ ही इनके जल्द ही ठीक होने की उम्मीद की जा रही है. 

राहत भरी भविष्यवाणी..! तो अप्रैल मध्य तक हो जाएगा कोरोना वायरस का खात्मा, ज्योतिषीय गणनाओं में हुआ खुलासा

राहत भरी भविष्यवाणी..! तो अप्रैल मध्य तक हो जाएगा कोरोना वायरस का खात्मा, ज्योतिषीय गणनाओं में हुआ खुलासा

नई दिल्ली: आज पूरी दुनिया के सामने कोरोना वायरस एक चिंता का विषय बनकर सामने आया है. ना ही इसकी अभी तक कोई दवा बन पाई है. बस एक ही बचाव है वो है सोशल डिस्टेंसिंग. इस महामारी से दुनिया के कई देश जुझ रहे है. वहीं एक भविष्यवाणी की बात करे तो, उसमें बताया गया है कि कोरोना वायरस का खात्मा मध्य अप्रैल से शुरू हो जाएगा. कोरोना के खौफ के बीच यह राहत भरी भविष्यवाणी है. जिसमें बताया ​गया है कि भारतीय पंचांगों ने उन्हीं ज्योतिषीय गणनाओं के आधार पर की है, जिसके आधार पर उन्होंने सालभर पहले ही बता दिया था कि दुनिया का साल 2020 विषाणुजनित महामारी से जूझेगा. खबरों के मुताबिक महामारी का उल्लेख भारतीय पंचांगों ने साल भर पहले ही कर दिया था. भारतीय पंचांग चैत्र माह में हिंदू नववर्ष की शुरुआत पर उपलब्ध हो जाते हैं, जिनकी छपाई इससे भी पहले पूर्ण कर ली जाती है. गत वर्ष प्रकाशित श्री ऋषिकेष हिंदी पंचांग के पृष्ठ 3 पर दुनिया और भारत का फल शीर्षक के अंतर्गत किसी विषाणुजनित महामारी के संकेत बताएं गए थे. 

BJP स्थापना दिवस : PM मोदी का संबोधन, कहा-हमने हर स्तर पर कोरोना के खिलाफ प्रयास किए, WHO ने भी भारत के प्रयासों को सराहा

चीन में 2019 में शुरू हो गई थी महामारी:
भविष्यवाणी में यह भी बताया गया है कि चीन में कोरोना वायरस का प्रभाव दिसंबर 2019 से दिखना शुरू हो गया था, लेकिन फरवरी-मार्च 2019 में प्रकाशित हो चुके भारतीय पंचांगों को देखें तो इनमें वैश्विक महामारी के संकेत दे दिए गए थे. अब जब यही ज्योतिषशास्त्री कह रहे हैं कि 14 अप्रैल के बाद कोराना का प्रभाव कम होने लग जाएगा, तो इस पर विश्वास न करने का कोई तर्क नहीं है. 

बुरे प्रभाव में आने लगेगी कमी:
ज्योतिषीय गणनाओं के मुताबिक कोरोना की वजह से 14 अप्रैल तक वक्त ज्यादा खराब है. इसके बाद धीरे धीरे कोरोना वायरस का खात्मा होने लग जाएगा. यह बात भारत वर्ष की कुंडली के आधार पर सामने आई है. आपको बता दें कि भारतीय नववर्ष का प्रारंभ चैत्र शुक्ल प्रतिपदा 25 मार्च, 2020 दिन बुधवार से शुरू हुआ. यानी आनेवाले साल के राजा बुध है. उनके साथ मंत्री के रूप में चंद्र रहेंगे. इन दोनों के प्रभाव से इस रोग का खात्मा जून 2020 तक हो जाएगा. 13 अप्रैल को रात्रि 8.23 मिनट से सूर्य का संक्रमण मीन राशि से मेष राशि में होगा. उसके बाद कोरोना महामारी के बुरे प्रभाव में कमियां नजर आने लगेगी. इस वायरस के मरीज कम होने लगेंगे. 27 और 28 अप्रैल के बाद सूर्य का संक्रमण मेष में 15 डिग्री से आगे बढ़ने पृथ्वी स्थित वासी इसके बुरे प्रभाव से बचने लगेंगे. तो यह बात ज्योतिषीय गणनाओं के आधार पर सामने आई है. 

देशभर में मनाई जा रही है महावीर जयंती, घरों में ही हो रही है विशेष पूजा, सोशल डिस्टेंसिंग की पालना

Coronavirus Updates: राजस्थान में 266 हुई पॉजिटिव मरीजों की संख्या, देशभर में 3500 से ज्यादा पहुंचा आंकड़ा

Coronavirus Updates: राजस्थान में 266 हुई पॉजिटिव मरीजों की संख्या, देशभर में 3500 से ज्यादा पहुंचा आंकड़ा

जयपुर: प्रदेश में लगातार कोरोना पॉजिटिव मरीजों की संख्या बढ़ती ही जा रही है. रविवार को एक ही दिन में रिकॉर्ड 60 मरीज सामने आए. इनमें अकेले जयपुर के रामगंज में 39 मरीज मिले. इससे भी चिंता की बात यह है कि जयपुर के एसएमएस मेडिकल कॉलेज की कैंटीन में काम करने वाला रामगंज निवासी एक युवक भी पॉजिटिव आया है. ऐसे में डॉक्टर और रेजीडेंट में भय का माहौल हो गया. प्रदेश में अब 266 रोगी हो गए हैं. 

Coronavirus Updates: दीये, मोमबत्ती और टॉर्च वाली रोशनी से जगमग हुआ देश, पीएम की अपील पर लोगों ने 9 मिनट तक मनाई 'दिवाली' 

देशभर में कोरोना संक्रमितों की संख्या 3500 से ज्यादा:
वहीं देशभर में भी लगातार कोरोना पॉजिटिव मरीजों की संख्या में तेजी से वृद्धि हो रही है. भारत में कोरोना से संक्रमित लोगों की संख्या अब तक 3500 से ज्यादा हो गई है. वहीं अब तक 83 लोगों की मौत हो चुकी है. अच्छी बात यहै है कि 274 मरीजों का इलाज सफल हो गया है.

मोदी कैबिनेट की बैठक आज:
इसी बीच पीएम मोदी आज वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए कैबिनेट की बैठक में भाग लेंगे. इस दौरान कोरोना के एक्शन प्लान पर चर्चा होगी. साथ ही प्रधानमंत्री गरीब कल्याण स्कीम की समीक्षा भी की जाएगी. देश के अलग-अलग जिलों के अलग-अलग जिलों के जिलाधिकारियों से मिले फीडबैक को भी केंद्रीय मंत्री, पीएम के सामने रखेंगे. 

खुशखबरी: शोधकर्ताओं का दावा, 48 घंटे के भीतर कोरोना वायरस को मार सकती है ये दवा

दुनियाभर में 13 लाख से अधिक लोग संक्रमित:
दुनियाभर में अब तक कोरोना संक्रमित लोगों की संख्या 13 लाख से अधिक हो गई है. इसके साथ ही मरने वालों का आंकड़ा 60 हजार के करीब पहुंच गया है. दुनिया का सबसे शक्तिशाली देश अमेरिका इस वायरस से बुरी तरह प्रभावित है. यहां स्थिति बद से बदतर होती जा रही है. अमेरिका में अब तक नौ हजार से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है. यहां संक्रमण के मामले तीन लाख से ज्यादा हो गए हैं.

खुशखबरी: शोधकर्ताओं का दावा, 48 घंटे के भीतर कोरोना वायरस को मार सकती है ये दवा

खुशखबरी: शोधकर्ताओं का दावा, 48 घंटे के भीतर कोरोना वायरस को मार सकती है ये दवा

मेलबर्न: संक्रामक महामारी कोरोना वायरस का ऑस्ट्रेलियाई शोधकर्ताओं ने इलाज ढूंढ़ निकालने का दावा किया है. शोधकर्ताओं दवा बनाने की शुरुआती तरकीब खोजने की बात कही है. इसके साथ ही उन्होंने दावा किया कि एक परजीवी रोधी दवा (एंटी पेरासिटिक्स ड्रग) 48 घंटे के भीतर कोशिकाओं में विकसित किए गए कोरोना वायरस को मार सकती है. उन्होंने बताया कि यह परजीवी रोधी दवा दुनियाभर में पहले से ही मौजदू है. 

VIDEO: कोरोना संकट के चलते राजस्थान में टूरिज्म इंडस्ट्री को 500 करोड़ रुपए से अधिक का नुकसान  

एक खुराक 48 घंटों तक सभी वायरल आरएनए को हटा सकती है:
अध्ययन के मुताबिक एंटीवायरल रिसर्च नामक पत्रिका में प्रकाशित दवा इवरमेक्टिन ने वायरस, सार्स-सीओवी-2 को 48 घंटे के भीतर सेल कल्चर में बढ़ने से रोक दिया. इसके साथ ही शोधकर्ताओं ने बताया कि यह प्रारंभिक शोध कोविड-19 के लिए एक नई नैदानिक चिकित्सा पद्धति के विकास और विस्तृत परीक्षण का पड़ाव बन सकता है. जानकारी में सामने आया कि इस दवा की एक खुराक भी निश्चित रूप से 48 घंटों तक सभी वायरल आरएनए को हटा सकती है. इतना ही नहीं इसमें 24 घंटे में ही काफी कमी आई है. 

15 अप्रैल से चलेंगी ट्रेनें! रेलवे प्रशासन ने शुरू की संचालन की तैयारी 

परिणामों से शोधकर्ताओं में उत्साह:
जानकारी के अनुसार संभावित दवा के रूप में इस्तेमाल होने वाली इवरमेक्टिन के परिणामों से शोधकर्ताओं में उत्साह है. हालांकि, शोधकर्ताओं ने कहा कि अब यह पता लगाने की जरूरत है कि क्या आप इसे मनुष्यों में इस्तेमाल कर सकते हैं या नहीं और मनुष्यों में यह कितनी प्रभावी होगी. 


 

Coronavirus Updates: देश में कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों का आंकड़ा 3 हजार के पार, दुनियाभर में 12 लाख से अधिक

Coronavirus Updates: देश में कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों का आंकड़ा 3 हजार के पार, दुनियाभर में 12 लाख से अधिक

नई दिल्ली: विश्वभर में कोरोना वायरस से संक्रमण के मामलों में लगातार वृद्धि हो रही है. इसके साथ ही भारत में भी संक्रमितों की कुल संख्या तीन हजार से ज्यादा हो गई. वहीं, मृतकों की संख्या भी 75 से ज्यादा हो गई है. केंद्रीय केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार कोरोना वायरस से अब भी 2,784 लोग संक्रमित हैं जबकि 212 लोग सही हो गए. इसके साथ ही कुल मामलों की संख्या बढ़कर 3,072 हो गई जिनमें 57 विदेशी नागरिक भी शामिल हैं. 

पीएम मोदी की अपील पर देशवासी आज रात जलाएंगे एक दीया, कोरोना के अंधकार से मिलेगा छुटकारा

महाराष्ट्र में सबसे अधिक 490 मामलों की पुष्टि: 
स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़ों के मुताबिक, महाराष्ट्र में सबसे अधिक 490 मामलों की पुष्टि हुई है जबकि दिल्ली में 445 और तमिलनाडु में 411 मामले सामने आए हैं. केरल में अब तक 295 मामले सामने आए हैं, जबकि राजस्थान में 206 और उत्तर प्रदेश में 174 मामलों की पुष्टि हुई है.

राजस्थान में संक्रमित व्यक्तियों की संख्या 206: 
राजस्थान में कोरोना पॉजिटिव मरीजों का आंकड़ा बढता जा रहा है. प्रदेश में कोरोना के संक्रमित व्यक्तियों की संख्या 206 हो गई है. इनमें 45 लोग तब्लीगी जमात में शामिल होकर आये थे. वहीं प्रदेश में अब तक कोरोना वायरस की वजह से 4 लोगों की मौत हो चुकी है. बीकानेर और झुंझुनूं जिले में नए मामले सामने आये है. यहां पर 25 वर्षीय युवक बीकानेर का तबलीगी जमाती, वहीं झुंझुनूं का केस, 40 वर्षीय नवलगढ़ निवासी पुरुष कोरोना पॉजिटिव पाया गया. शनिवार को प्रदेश में 25 नए पॉजिटिव मिले. 

कोरोना महामारी के अंधकार को मिटाने के लिए आज देश दीप जलाएगा:
देश में कोरोना महामारी के अंधकार को मिटाने के लिए आज देश दीप जलाएगा. पीएम मोदी की अपील पर संक्रमण से लड़ने के लिए एकजुटता दिखाने की मुहिम के तहत दीप जलाए जाएंगे. पीएम ने अपने वीडियो संदेश में कहा था कि हमें कोरोना वायरस के खिलाफ लड़ाई में 130 करोड़ देशवासियों के महासंकल्प को नई ऊंचाइयों पर ले जाना है, इसलिये पांच अप्रैल, रविवार को रात नौ बजे मैं आप सबके नौ मिनट चाहता हूं. आप घर की सभी लाइटें बंद करके, घर के दरवाजे पर या बालकनी में खड़े रहकर नौ मिनट के लिए मोमबत्ती, दीया, टॉर्च या मोबाइल की फ्लैशलाइट जलाएं.

राहुल गांधी ने अमेठी में भेजे सेनिटाइजर और मास्क, कांग्रेस कार्यकर्ता कर रहे है वितरित

दुनियाभर में कोरोनावायरस मरीजों की संख्या 12 लाख से अधिक:
वहीं अगर पूरे विश्व की बात करें तो कोरोनावायरस मरीजों की संख्या 12 लाख से अधिक हो गई है, जबकि 64 हजार से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है. वहीं, दो लाख 46 हजार व्यक्ति ठीक भी हुए हैं. सबसे ज्यादा प्रभावित अमेरिका में अब तक आठ हजार 400 लोग मारे जा चुके हैं. यहां संक्रमण के मामले तीन लाख से ज्यादा हो गए हैं. 

कोरोना वैक्सीन को लेकर अमेरिकी वैज्ञानिकों की तरफ से आई अच्छी खबर, पहले परीक्षण में मिली सफलता

कोरोना वैक्सीन को लेकर अमेरिकी वैज्ञानिकों की तरफ से आई अच्छी खबर, पहले परीक्षण में मिली सफलता

वॉशिंगटन: इस समय पूरी दुनिया में कोरोना वायरस के खिलाफ जंग चल रही है. अब तक 50 हजार से ज्यादा लोग इस इस बीमारी से मारे जा चुके हैं तो वहीं 10 लाख से ज्यादा लोग इससे संक्रमित हो गए हैं. दुनिया के कई देश इस विकट परिस्थिती में लॉकडाउन का सहारा ले रहे हैं. ऐसे में अमेरिकी वैज्ञानिकों की तरफ से सुखद खबर आई है. कोरोना वायरस से मुकाबले के लिए तैयार की जा रही एक संभावित वैक्सीन अपने पहले परीक्षण में चूहों पर सफल पाई है. 

 Coronavirus: 465 साल पहले हो गई थी कोरोना वायरस को लेकर भविष्यवाणी! बताया था खतरा 

वैक्सीन से कोरोनावायरस के संक्रमण को मजबूती से रोका जा सकता है:
जानकारी के अनुसार यह वैक्सीन इतनी मात्रा में प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया की उत्पत्ति करने में सफल पाई गई, जिससे इस खतरनाक वायरस को बेअसर किया जा सकता है. अमेरिका में यूनिवर्सिटी ऑफ पीट्सबर्ग के स्कूल ऑफ मेडिसिन के सह-वरिष्ठ लेखक आंद्रिया गैम्बोटो ने दावा किया है कि हमारे पास 2003 में सार्स-2 और 2014 में एमईआरएस का अनुभव है. इसी के आधार पर हमने जो खोज की है उस वैक्सीन से कोरोनावायरस के संक्रमण को मजबूती से रोका जा सकता है. 

राज्यपाल कलराज मिश्र ने की प्रदेशवासियों से अपील, सभी धर्मों के लोगों को दिखानी है एकजुटता 

परीक्षण के अगले चरण में यह वैक्सीन इंसानों पर आजमाई जाएगी:
ईबायोमेडिसिन पत्रिका में इस पर हुए अध्ययन की पूरी जानकारी प्रकाशित हुई है. शोधकर्ताओं के अनुसार यह वैक्सीन इंजेक्ट करने के दो सप्ताह में ही वायरस को बेअसर करने में सक्षम होगी. शोधकर्ताओं का कहना है कि यह वैक्सीन एनिमल टेस्ट में सफल पाई गई है. परीक्षण के अगले चरण में यह वैक्सीन इंसानों पर आजमाई जाएगी. शोधकर्ताओं ने बताया कि इस वैक्सीन को बड़े पैमाने पर बनाया जा सकता है. 


 

Coronavirus: 465 साल पहले हो गई थी कोरोना वायरस को लेकर भविष्यवाणी! बताया था खतरा

Coronavirus: 465 साल पहले हो गई थी कोरोना वायरस को लेकर भविष्यवाणी! बताया था खतरा

जयपुर: पूरी दुनियां में कोरोना वायरस का कहर अब तेजी से बढ़ता जा रहा है. पूरे विश्व में कोरोना वायरस को लेकर दहशत फैली हुई है, लेकिन आपको यह जानकर हैरानी होगी कि कोरोना के खौफ के बारे में आज से लगभग 465 साल पहले भविष्यवाणी की जा चुकी है. फ्रांसीसी भविष्यवेत्ता माइकल दि नास्त्रेदमस लगभग 465 वर्ष पहले एक भयंकर महामरी के फैलने की भविष्यवाणी वे पहले ही कर चुके थे.

Coronavirus Updates: देश में अब तक 2900 से ज्यादा लोग संक्रमित, दुनियाभर में 52 हजार लोगों की मौत  

2020 में दुनिया पर सबसे बड़ा खतरा महामारी का: 
उनकी भविष्यवाणियों के अनुसार 2020 में दुनिया पर सबसे बड़ा खतरा महामारी का है, जिससे अनगिनत लोगों के मौत के मुंह में जाने की आशंका है. ऐसे में अब यह माना जा रहा है कि भविष्यवाणी में जिस महामारी का जिक्र किया गया है, वो महामारी कोई और नहीं बल्कि कोरोना वायरस ही है. 

नास्त्रेदमस की उस भविष्यवाणी को इस बीमारी के रूप में देख रहे: 
नास्त्रेदमस ने अपनी भविष्यवाणी में रहस्मई वाक्यों का उपयोग किया था. जिसे क्वाट्रेन्स (चौपाई) कहा जाता है जानकार इसे उसी बीमारी का रूप मान रहे हैं और नास्त्रेदमस की उस भविष्यवाणी को इस बीमारी के रूप में देख रहे हैं. इस बात को इस बात से और भी बल मिलता है कि भविष्यवाणी में जिस शहर में महामारी फैलने का उल्लेख हुआ है, वो विवरण के आधार पर हुबेई प्रांत पूर्वी चीन का ही एक भू-भाग है, इसका मतलब की वो शहर वुहान ही माना जा रहा है. 

बीमारी समुद्र किनारे बसे एक शहर से फैलेगी:
उन्होंने एक चौपाई में किसी बीमारी के महामारी के रूप में फैलने की बात कही थी, उसमें ये ज़िक्र किया था कि यह बीमारी समुद्र किनारे बसे एक शहर से फैलेगी. ऐसे में अगर उनकी भविष्यवाणी पर गौर करें तो चीन का वुहान शहर समुद्र के किनारे बसा है और वहां सीफूड का बहुत बड़ा मार्केट है. कोरोना के बारे में जान कर ऐसा लगता है कि नास्त्रेदमस की भविष्यवाणी कहीं सही तो नहीं हो रही है?

Rajasthan Corona Update: राजस्थान में कोरोना पॉजिटिव का आंकड़ा पहुंचा 198, अब तक 18 जिलो में पसारे पैर 

‘द प्रॉफेसीज’ में दुनिया के बारे में ऐसी भविष्यवाणियां लिखी हुई:
माइकल डी नास्त्रेदमस का जन्म 1503 में फ्रांस में हुआ था. इनकी लिखी किताब ‘द प्रॉफेसीज’ में दुनिया के बारे में ऐसी भविष्यवाणियां लिखी हुई हैं, जिनकी अक्सर चर्चाएं होती रहती है. इसके साथ कई लोगों का मानना है कि इनकी लिखी हुई चार-चार लाइनों की कविताओं में दुनिया की सारी बड़ी घटनाओं की भविष्यवाणी छुपी हुई है. 


 

Open Covid-19