Live News »

गांव से कस्बे की दूरी तय करने के लिए लेना पड़ता है रेलवे ट्रैक का सहारा

गांव से कस्बे की दूरी तय करने के लिए लेना पड़ता है रेलवे ट्रैक का सहारा

बसेड़ी(धौलपुर)। अधिकांश गांवो में ग्रामीणों के आवागमन के लिए सड़क से लेकर पगडण्डी तक कोई न कोई मार्ग बना हुआ है, लेकिन बसेड़ी उपखण्ड में एक गांव ऐसा भी है जहां उपखण्ड प्रशासन सहित जिला प्रशासन की अनदेखी की वजह से आज भी अपनी बदहाली पर आंसू बहा रहा है। जी हाँ, हम बात कर रहे है बसेड़ी क्षेत्र के नकटेपुरा गांव की, क्यूँ कि इस गांव में जाने के लिए  न तो सड़क है और न ही पगडंडी। यहां के स्थानीय ग्रामीण सहित बुजुर्ग और नन्हें-मुन्ने बच्चे गांव में जाने के लिए और बसेड़ी मुख्यालय की दूरी तय करने के लिए रेलवे ओवरब्रिज के ट्रैक का सहारा लेते है, जी हाँ यह दृश्य कुछ ऐसा ही है जिसे देखने से किसी की भी रूह कांप जाए। 

फर्स्ट इंडिया न्यूज आपको बता रहा है कुछ ऐसी ही तस्वीरें, जहां हर पल खतरा रहता है। तस्वीरों में नैरोगेज ट्रेन के इस ओवरब्रिज पुल के ट्रैक पर से लोग आवागमन कर रहे है, तो वहीं कुछ लोग मजबूरन जान-जोखिम में डालकर अपने वाहनों को भी इसी मार्ग से ही ले जाते है। तस्वीर में एक लड़के द्वारा बिना भय के इस रेलवे पुल की रैलिंग पर खड़े होकर सेल्फी तक ले रहा है। तो वहीं एक महिला अपनी गोद मे बच्चे को लेकर इस ट्रैक पर से ही सफर करना पड़ रहा है। 

यहां तक कि स्कूली बच्चे भी इसी मार्ग से अपनी शिक्षा को ग्रहण करने जाते है और इसी मार्ग से वापस घर को आते है। बच्चों को भी डर सताता रहता है कहीं कोई बड़ा हादसा न हो जाए जिससे उनका भविष्य ही खतरे में पड़ जाए। एक तस्वीर में आप देख सकते है कि इस ट्रैक से सब्जी वाला भी अपने सिर पर सब्जियाँ रखकर बसेड़ी के सब्जी मंडी में बेचने जा रहा है। जहाँ रेलवे ट्रैक पर ट्रैन के पहिये दौड़ते है वहां मजबूरन लोगों को बाइक, साइकिल भी चलानी पड़ रही है। गांव के अंदर भी ट्रैक बिछा हुआ है जिसके दोनों ओर घर बसे हुए है तो वही गांव में स्थित प्राथमिक विद्यालय के लिए भी कोई मूल रास्ता नही है और विद्यालय भी रेलवे ट्रैक के नजदीक बना हुए है।

गांव में नही पहुंचती 108, बसेड़ी हॉस्पिटल में खटिया पर लाते है मरीजो को-
फर्स्ट इंडिया ने वहाँ के स्थानीय नागरिकों से वहाँ के हालात जानना चाहा तो बताया गया कि हर वक्त जान को खतरा तो रहता ही है, लेकिन सबसे ज्यादा समस्या तब आती है जब गांव में कोई बीमार हो जाए या गर्भवती महिला की डिलीवरी हो, क्यों कि मार्ग नही होने से हालात ऐसे हो जाते है कि गांव तक 108 एम्बुलेंस नही पहुंच पाती तो खुद ही ग्रामीण खटिया पर मरीजो को लिटाकर बसेड़ी अस्पताल तक लाते है।

अब तक हो चुकी दो मौते, कई घायल-
बसेड़ी क्षेत्र के नकटेपुरा जाने वाले इस रेलवे ओवरब्रिज पर आवागमन में दो मौत हो चुकी है, जिनमे से अभी करीब चार महीने पहले एक सरकारी कर्मचारी की भी मौत हुई थी। तो वही इस मार्ग से सफर करने वाले कई लोग घायल भी हो चुके हैं।

फर्स्ट इंडिया से स्कूल छात्रा ने सड़क बनवाने का किया निवेदन-
फर्स्ट इंडिया द्वारा जब एक स्कूल छात्रा अनुष्का से हालात जाने तब अनुष्का ने इस मार्ग से आने-जाने में डर बताया, तो वही गांव में हुई मौत के बारे में भी दर्द बयां किया। और फर्स्ट इंडिया से निवेदन करते हुए कहा कि इस गांव के लिए कोई सड़क बनवा दो।

...... अंकित गर्ग, फर्स्ट इंडिया न्यूज, बसेड़ी

और पढ़ें

Most Related Stories

धौलपुर: नाबालिग से गैंगरेप के बाद पीड़िता द्वारा आत्महत्या करने के मामले में नामजद दोनों आरोपी चान दिन के रिमांड पर

धौलपुर: नाबालिग से गैंगरेप के बाद पीड़िता द्वारा आत्महत्या करने के मामले में नामजद दोनों आरोपी चान दिन के रिमांड पर

धौलपुर: बसेड़ी थाना क्षेत्र के लेबड़ापुरा चौकी समीप एक गांव में नाबालिग से गैंगरेप व नाबालिग द्वारा शर्मसार होकर आत्महत्या के प्रकरण में पुलिस ने नामजद दो आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है. पुलिस उपाधीक्षक प्रवेंद्र सिंह ने बताया कि घटना को लेकर पुलिस ने तत्परता दिखाते हुए घटना के दिन ही दोनों नामजद आरोपी बंटी उर्फ मनोज गुर्जर व हरिकेश गुर्जर दोनों निवासी खटीआनेकापुरा, कुनकुटा को गिरफ्तार कर लिया. जिन्हें आज न्यायालय में पेश किया गया. जहां से दोनों आरोपियों को 4 दिन की पीसी रिमांड पर सौंप दिया. 

पुलिस आरोपियों से गहन पूछताछ में जुटी हुई:
घटना को लेकर पुलिस आरोपियों से गहन पूछताछ में जुटी हुई है. आपको बता दें कि एक नाबालिग बालिका के साथ दो युवकों ने घर में घुस कर कट्टे की नौक पर आरोपियों ने बारी-बारी से नाबालिग से दुष्कर्म किया था. घटना के बाद शर्मिंदगी झेलते हुए नाबालिग ने कमरे में जाकर आत्महत्या कर ली थी. 

{related}

बाल आयोग ने मांगी तथ्यात्मक रिपोर्ट:
इस मामले में बाल अधिकार सरंक्षण आयोग ने प्रसंज्ञान लिया है. आयोग अध्यक्ष द्वारा मामले की गम्भीरता को देखते हुए अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक जयपुर, पुलिस महानिरीक्षक भरतपुर रेंज, भरतपुर एवं धौलपुर जिला पुलिस अधीक्षक को मामले में त्वरित सम्पूर्ण कार्रवाई कर तथ्यात्मक रिपोर्ट से आयोग को अवगत कराने को कहा तो वहीं अध्यक्ष बाल कल्याण समिति धौलपुर को घटनास्थल का मौका मुआयना करते हुए मामले की सम्पूर्ण जांच कर तथ्यात्मक जांच प्रतिवेदन से आयोग को अवगत कराने के लिए कहा गया है. 

कट्टे में बंधा मिला नाबालिग बालक का शव, क्षेत्र में फैली सनसनी

कट्टे में बंधा मिला नाबालिग बालक का शव, क्षेत्र में फैली सनसनी

बसेड़ी(धौलपुर): बसेड़ी कस्बे में मंगलवार को दो दिन से लापता 11 वर्षीय नाबालिग बालक का शव क्रय विक्रय के समीप कट्टे में बंधा मिला. जिससे क्षेत्र में सनसनी फैल गई. घटना की सूचना मिलते ही क्षेत्रीय लोग अस्पताल में एकत्रित हो गए. पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर बसेड़ी सीएचसी की मोर्चरी में रखवाया. जहां शव का पोस्टमार्टम कर शव परिजनों को सुपुर्द कर दिया. शव के घर पहुंचने के बाद क्षेत्रीय लोग आक्रोशित हो गए तथा भीड़ शव को ढकेल पर रखकर पुलिस थाने की ओर कूच करने लगी.

फांसी की सजा दिलाये जाने की मांग को लेकर नारेबाजी: 
इस दौरान गुस्साई भीड़ ने सभी आरोपियों की गिरफ्तारी व आरोपियों को फांसी की सजा दिलाये जाने की मांग को लेकर नारेबाजी की. इसके बाद अग्रवाल धर्मशाला के समीप भीड़ का सामना पुलिस से हो गया तथा दोनों पक्षो में आपसी कहासुनी हुई. इसके बाद मृतक बालक के चाचा व सीओ सरमथुरा ने समझाइस की. जिसके बाद मामला शांत हुआ. घटना को लेकर मृतक बालक के पिता ब्रजकिशोर पुत्र रामजीलाल जैसवाल निवासी नायावास ने बसेड़ी पुलिस में मामला दर्ज कराया है. जिसमे बताया है कि 17 नवम्बर को दोपहर 1 बजे उसका पुत्र लव जैसवाल घर से खेलने की कहकर गया था. लेकिन शाम तक वापिस नही आया. इस दौरान शाम करीब साढ़े 5 बजे बालक लव की दादी गीता देवी के मोबाइल नम्बर 8949379496 से फोन आया. इस दौरान अज्ञात ने 3 करोड़ की मांग की एवज में बच्चे को छोड़ने की बात कही तथा पुलिस को बताने पर जान से मारने की धमकी दी. लेकिन आज सुबह लव जैसवाल का शव नाले में कट्टे में बंधा हुआ मिला. 

मृतक बालक का चाचा है पत्थर व्यवसायी: 
मृतक नाबालिग लव जैसवाल गैंगसा व्यवसायी संजय का भतीजा है तथा काफी वर्षों से वह इस व्यवसाय से जुड़ा हुआ है. आरोपियों को पीड़ित परिवार के व्यवसाय की पूरी जानकारी थी. इसके अलावा एक आरोपी बालक को ट्यूशन पढ़ाने घर भी जाता था.  

पुलिस के आला अधिकारी पहुंचे मौके पर: 
घटना की सूचना मिलते ही आईजी भरतपुर लक्ष्मण गौड़, जिला पुलिस अधीक्षक मृदुल कच्छवा, सीओ सरमथुरा हरीराम मीणा, बसेड़ी थाना प्रभारी लल्लूराम मीणा, एसडीएम प्यारेलाल सौन्थवाल, नायब तहसीलदार हरीओम गर्ग, सहित नादनपुर, सरमथुरा थानों की पुलिस के अलावा अतिरिक्त जाप्ता बसेड़ी अस्पताल पहुंचा.

हत्या के विरोध में बसेड़ी बाजार रहा बंद:  
नाबालिग बालक की हत्या की सूचना मिलते है अस्पताल में लोगो का हुजूम उमड़ पड़ा. इस दौरान आक्रोशित व्यापारियों ने अपने अपने प्रतिष्ठान पूरे दिन बंद रखे. इस दौरान मेडिकल स्टोर भी बन्द रहे. ग्रामीण क्षेत्र के लोग जरूरी चीजों की खरीददारी के लिए परेशान होते देखे गए. 

जिस दिन अपहरण उसी दिन हत्या: 
जानकारी के मुताबिक सोमवार को बालक का अपरहण हुआ था. उसके कुछ घण्टों बाद ही हत्यारों ने बालक की हत्या कर दी. जिसमें बालक के मुंह व सिर के पीछे चोट के निशान है. इसके बाद आरोपियों ने क्रय विक्रय के समीप नाले में शव को कट्टे में बांधकर डाल दिया तथा शव करीब 36 घण्टे तक नाले में पड़ा रहा. 

आरोपी ट्यूशन टीचर करता रहा पुलिस को गुमराह: 
शक के आधार पर सोमवार को बसेड़ी पुलिस ने एक आरोपी को हिरासत में ले लिया तथा उससे कढ़ाई से पूछताछ की. जिसमे वह पुलिस को गुमराह करता रहा. इस दौरान आरोपी ने पुलिस को बताया कि बालक को उसने धौलपुर में देखा है. इसके बाद पुलिस आरोपी को लेकर धौलपुर गई तथा अभय सेंटर में लगे सीसीटीवी कैमरों में बालक की फुटेज देखी गई लेकिन कुछ पता नही चल सका. इसके बाद आरोपी ने बालक के अन्य इलाकों में देखे जाने की बात कही. जिस पर पुलिस उसे वहां लेकर गई. लेकिन इस बीच आरोपी पुलिस को गुमराह करता रहा. आज मंगलवार सुबह पुलिस ने जब कढ़ाई से आरोपी से पूछताछ की तो उसने सच उगल दिया तथा बालक को मारने व शव के नाले में मिलने की बात कही. इस पूरे घटनाक्रम में अभी तक पुलिस द्वारा करीब आधा दर्जन आरोपियों को हिरासत में लिया है तथा पूछताछ में जुटी है. 

...फर्स्ट इंडिया के लिए बसेड़ी से अंकित गर्ग की रिपोर्ट

कट्टे में बंधा मिला नाबालिग बालक का शव, क्षेत्र में फैली सनसनी

कट्टे में बंधा मिला नाबालिग बालक का शव, क्षेत्र में फैली सनसनी

बसेड़ी(धौलपुर): बसेड़ी कस्बे में मंगलवार को दो दिन से लापता 11 वर्षीय नाबालिग बालक का शव क्रय विक्रय के समीप कट्टे में बंधा मिला. जिससे क्षेत्र में सनसनी फैल गई. घटना की सूचना मिलते ही क्षेत्रीय लोग अस्पताल में एकत्रित हो गए. पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर बसेड़ी सीएचसी की मोर्चरी में रखवाया. जहां शव का पोस्टमार्टम कर शव परिजनों को सुपुर्द कर दिया. शव के घर पहुंचने के बाद क्षेत्रीय लोग आक्रोशित हो गए तथा भीड़ शव को ढकेल पर रखकर पुलिस थाने की ओर कूच करने लगी.

फांसी की सजा दिलाये जाने की मांग को लेकर नारेबाजी: 
इस दौरान गुस्साई भीड़ ने सभी आरोपियों की गिरफ्तारी व आरोपियों को फांसी की सजा दिलाये जाने की मांग को लेकर नारेबाजी की. इसके बाद अग्रवाल धर्मशाला के समीप भीड़ का सामना पुलिस से हो गया तथा दोनों पक्षो में आपसी कहासुनी हुई. इसके बाद मृतक बालक के चाचा व सीओ सरमथुरा ने समझाइस की. जिसके बाद मामला शांत हुआ. घटना को लेकर मृतक बालक के पिता ब्रजकिशोर पुत्र रामजीलाल जैसवाल निवासी नायावास ने बसेड़ी पुलिस में मामला दर्ज कराया है. जिसमे बताया है कि 17 नवम्बर को दोपहर 1 बजे उसका पुत्र लव जैसवाल घर से खेलने की कहकर गया था. लेकिन शाम तक वापिस नही आया. इस दौरान शाम करीब साढ़े 5 बजे बालक लव की दादी गीता देवी के मोबाइल नम्बर 8949379496 से फोन आया. इस दौरान अज्ञात ने 3 करोड़ की मांग की एवज में बच्चे को छोड़ने की बात कही तथा पुलिस को बताने पर जान से मारने की धमकी दी. लेकिन आज सुबह लव जैसवाल का शव नाले में कट्टे में बंधा हुआ मिला. 

मृतक बालक का चाचा है पत्थर व्यवसायी: 
मृतक नाबालिग लव जैसवाल गैंगसा व्यवसायी संजय का भतीजा है तथा काफी वर्षों से वह इस व्यवसाय से जुड़ा हुआ है. आरोपियों को पीड़ित परिवार के व्यवसाय की पूरी जानकारी थी. इसके अलावा एक आरोपी बालक को ट्यूशन पढ़ाने घर भी जाता था.  

पुलिस के आला अधिकारी पहुंचे मौके पर: 
घटना की सूचना मिलते ही आईजी भरतपुर लक्ष्मण गौड़, जिला पुलिस अधीक्षक मृदुल कच्छवा, सीओ सरमथुरा हरीराम मीणा, बसेड़ी थाना प्रभारी लल्लूराम मीणा, एसडीएम प्यारेलाल सौन्थवाल, नायब तहसीलदार हरीओम गर्ग, सहित नादनपुर, सरमथुरा थानों की पुलिस के अलावा अतिरिक्त जाप्ता बसेड़ी अस्पताल पहुंचा.

हत्या के विरोध में बसेड़ी बाजार रहा बंद:  
नाबालिग बालक की हत्या की सूचना मिलते है अस्पताल में लोगो का हुजूम उमड़ पड़ा. इस दौरान आक्रोशित व्यापारियों ने अपने अपने प्रतिष्ठान पूरे दिन बंद रखे. इस दौरान मेडिकल स्टोर भी बन्द रहे. ग्रामीण क्षेत्र के लोग जरूरी चीजों की खरीददारी के लिए परेशान होते देखे गए. 

जिस दिन अपहरण उसी दिन हत्या: 
जानकारी के मुताबिक सोमवार को बालक का अपरहण हुआ था. उसके कुछ घण्टों बाद ही हत्यारों ने बालक की हत्या कर दी. जिसमें बालक के मुंह व सिर के पीछे चोट के निशान है. इसके बाद आरोपियों ने क्रय विक्रय के समीप नाले में शव को कट्टे में बांधकर डाल दिया तथा शव करीब 36 घण्टे तक नाले में पड़ा रहा. 

आरोपी ट्यूशन टीचर करता रहा पुलिस को गुमराह: 
शक के आधार पर सोमवार को बसेड़ी पुलिस ने एक आरोपी को हिरासत में ले लिया तथा उससे कढ़ाई से पूछताछ की. जिसमे वह पुलिस को गुमराह करता रहा. इस दौरान आरोपी ने पुलिस को बताया कि बालक को उसने धौलपुर में देखा है. इसके बाद पुलिस आरोपी को लेकर धौलपुर गई तथा अभय सेंटर में लगे सीसीटीवी कैमरों में बालक की फुटेज देखी गई लेकिन कुछ पता नही चल सका. इसके बाद आरोपी ने बालक के अन्य इलाकों में देखे जाने की बात कही. जिस पर पुलिस उसे वहां लेकर गई. लेकिन इस बीच आरोपी पुलिस को गुमराह करता रहा. आज मंगलवार सुबह पुलिस ने जब कढ़ाई से आरोपी से पूछताछ की तो उसने सच उगल दिया तथा बालक को मारने व शव के नाले में मिलने की बात कही. इस पूरे घटनाक्रम में अभी तक पुलिस द्वारा करीब आधा दर्जन आरोपियों को हिरासत में लिया है तथा पूछताछ में जुटी है. 

...फर्स्ट इंडिया के लिए बसेड़ी से अंकित गर्ग की रिपोर्ट

आर्मी में नौकरी के नाम पर ठगी करने वाले गिरोह का पर्दाफाश, तीन गिरफ्तार

आर्मी में नौकरी के नाम पर ठगी करने वाले गिरोह का पर्दाफाश, तीन गिरफ्तार

बसेड़ी(धौलपुर): बसेड़ी की नादनपुर थाना पुलिस ने एक बड़ी कार्रवाई को अंजाम देकर आर्मी में नौकरी के नाम पर ठगी करने वाले तीन लोगों को धर-दबोचा. मामला कुछ यूं है कि नादनपुर थाना पुलिस गश्त कर रही थी इसी दौरान कुछ लोगों द्वारा आर्मी में नौकरी दिलाने के नाम पर क्षेत्र में ठगी करने की सूचना किसी मुखबिर द्वारा मिली. मुखबिर ने बताया था कि ठगी करने वाला गिरोह बसेड़ी की ओर जा रहे है. इस पर थाना प्रभारी लाखन सिंह के नेतृत्व में पुलिस टीम ने बसेड़ी की ओर जा रही एक कार को जोरिया तिराहे के पास रोका, लेकिन कार में बैठे आरोपियों ने कार नहीं रोकी तो पुलिस ने पीछा कर बाबरीपुरा गांव के पास धर-दबोचा. 

कार में सवार एक व्यक्ति ने कर्नल की वर्दी भी पहन रखी थी: 
कार में सवार एक व्यक्ति ने कर्नल की वर्दी भी पहन रखी थी, जिसकी पहचान संतोष शर्मा पुत्र रमाशंकर निवासी जाजपुर थाना फतेहाबाद आगरा के रूप में हुई तो वहीं दूसरा व्यक्ति संजय पुत्र टीकम शर्मा निवासी घडीपाल थाना फतेहाबाद, तीसरा कल्याण उर्फ कालीचरण पुत्र मेघसिंह निवासी विलयपुरा मजरा चरमोली थाना निगोर आगरा था. गाड़ी के अंदर ड्राइविंग लाइसेंस, आरोपियों के आर्मी के पहचान पत्र, सिम कार्ड, न्यू आर्मी अकेडमी के पम्फलेट, सेना के फोटोग्राफ्स, बुकलेट सहित बिना नम्बर की कार मौके से जब्त की गई. आरोपियों से पूछताछ करने पर तीनों आरोपियों का फर्जी होना पाया गया, पुलिस मामले की तह तक जांच में जुट गई है. 

ठगी करने का यह है आरोपियों का तरीका:
सेना की उच्चाधिकारियों की वर्दी पहनकर सुदूर ग्रामीण क्षेत्रों में भोले भाले लोगों से मोटी रकम लेकर एकेडमी में ट्रेनिग देने के लिए ले जाते है. भर्ती कराने के एवज में तीन-तीन लाख रुपए लेकर एडमिशन कार्ड व जोइनिंग लेटर देते है तो वहीं लोगों पर प्रभाव जमाने के लिए सेना के उच्चाधिकारियों की वर्दी में फोटोग्राफ, आईकार्ड फर्जी व अन्य सामान अपने साथ रखते है. 

...बसेड़ी से फर्स्ट इंडिया के लिए अंकित गर्ग की रिपोर्ट

बसेड़ी में देर रात अज्ञात बदमाशों के गिरोह ने फायरिंग कर फैलाई दहशत

बसेड़ी में देर रात अज्ञात बदमाशों के गिरोह ने फायरिंग कर फैलाई दहशत

बसेड़ी(धौलपुर): थाना क्षेत्र के दो गांव कटेलपुरा और महासुखपुरा में देर रात अज्ञात बदमाशों के गिरोह ने फायरिंग कर दहशत फैला दी. बताया रहा है कि फायरिंग करने वाले बदमाशों की संख्या करीब 15-20 थी, जो हथियारों से लैस होकर गांव में लूटपाट के इरादे से घुस आए और गांव में आते ही फायरिंग करना शुरू कर दिया था. 

महिला के चिल्लाने की आवाज सुनकर दौड़े लोग: 
ग्रामीणों का कहना है कि शायद अज्ञात बदमाशों का गिरोह गांव के पास पहले से ही मंडरा रहा था. मामला कुछ यूं बताया जा रहा है कि गांव कटेलपुरा में एक महिला शौच के लिए गई हुई थी. बदमाशों की गैंग ने महिला के साथ बदतमीजी की तो महिला के चिल्लाने की आवाज सुनकर गांव के लोग दौड़ पड़े. इस दौरान गांव के लोगों की भीड़ को देख बदमाशों ने ग्रामीणों पर फायरिंग करना शुरू कर दिया. गांव के लोगों में अफरा-तफरी मच गई फिर ग्रामीणों ने भी मोर्चा संभालते जबावी फायरिंग कर बदमाशों को गांव से खदेड़ दिया जिसके बाद बदमाशो की गैंग पास के गांव महासुखपुरा में जा पहुंची, गांव में जाकर बदमाशों ने फायरिंग करना शुरू कर दिया और फायरिंग की आवाज सुनकर मासुकापुरा के ग्रामीण भी सक्रिय हो गए और घरों में रखे डंडे, लाठी, फरसा जैसे हथियारों से बदमाशों का पीछा करना शुरू कर दिया. ग्रामीणों को आते देख  बदमाशो के गैंग के सदस्य इधर उधर भाग गए. 

सूचना मिलने पर पुलिस भी मौके पर पहुंची: 
घटना की सूचना मिलने पर बसेड़ी पुलिस भी रात को गांव में मौके पर पहुंची और पूरी घटनाक्रम का जायजा भी लिया. उधर पास के गांव खिडोरा व भजन आंकड़ा के ग्रामीण वारदात स्थल गांव महासुखपुरा पहुंच गए. आस-पास खेतों में सर्च करने के बाद भी बदमाश नही मिले लेकिन ग्रामीणों ने रात जागकर ही गुजारी. इस घटना के बाद से ग्रामीण सहमे हुए है. हालांकि पुलिस भी इस घटना को लेकर एक्टिव हो गई है और बदमाशों की तलाश करना शुरू कर दिया है.