Live News »

उत्तर प्रदेश के मदरसों में जल्द ही लागू होगा ड्रेस कोड, नहीं चलेगा कुर्ता पायजामा

उत्तर प्रदेश के मदरसों में जल्द ही लागू होगा ड्रेस कोड, नहीं चलेगा कुर्ता पायजामा

कानपुर। उत्तर प्रदेश के सभी मदरसों में आने वाले समय में कुर्ता और पायजामा पहनने पर मनाही हो सकती है। दरअसल प्रदेश की सरकार मदरसों के लिए विशेष ड्रेस कोड लागू करने का मन बना चुकी है। इस बारे में अल्पसंख्यक मामलों के मंत्री मोहसिन रज़ा ने बताया है कि यूपी के मदरसों में पढ़ने वाले बच्चों के लिए जल्द ही ड्रेस कोड लागू किया जाएगा।

गौरतलब है कि इस नए ड्रेस कोड के मुताबिक यहां बच्चों को कुर्ता पायजामा की जगह आम सरकारी और प्राइवेट स्कूल के छात्रों की तरह ख़ास ड्रेस पहनना अनिवार्य हो जाएगा। हालांकि अभी तक इस बात का फैसला सरकार ने नहीं किया है कि मदरसों में छात्र कुर्ता-पायजामे की जगह क्या पहन कर आएंगे।

रज़ा के मुताबिक फिलहाल अभी ये फैसला नहीं लिया गया है कि नया ड्रेस कोड क्या होगा, लेकिन सरकार नए परिवर्तनों में भी लोगों के धार्मिक मान्यताओं का ख्याल रखेगी। रजा ने बताया है कि हम नया पहनावा बच्चों के कम्पफर्ट और लोगों की धार्मिक मान्यताओं के मुताबिक ही लाएंगे। 

और पढ़ें

Most Related Stories

कानपुर: कमिश्नर आवास के पास बंगले में युवती से गैंगरेप, आरोपी फरार

कानपुर: कमिश्नर आवास के पास बंगले में युवती से गैंगरेप, आरोपी फरार

कानपुर: जिले के ग्वालटोली थाना इलाके में कमिश्नर आवास के पास एक बंगले में असम की युवती के साथ चार युवकों द्वारा सामूहिक दुष्कर्म का मामला सामने आया है. किसी तरह दरिदों के चंगुल से छुटकर युवती ने राहगीरों की मदद से पुलिस को सूचना दी है. उसके बाद पुलिस के मौके पर पहुंचने पर आरोपी मौके से फरार होने में कामयाब हो गए. 

सुप्रीम कोर्ट पहुंचा MP का सियासी मामला, बहुमत परीक्षण पर BJP ने दी याचिका 

युवती शोर मचाते हुए बंगले से बाहर आई:
पुलिस ने दुष्कर्म के आरोपियों की कार कब्जे में ली है. वहीं युवकी को महिला थाने में भेजा गया. जानकारी के अनुसार कमिश्नर आवास के पास रात करीब पौने ग्यारह बजे सड़क पर एक युवती शोर मचाते हुए बंगले से बाहर आई. उसके कपड़े अस्त-व्यस्थ थे. यह देख स्थानीय लोगों ने उनसे बात करने का प्रयास किया. इस पर जानकारी मिली की युवती असम की रहने वाली है और वह हिंदी में बात नहीं कर पा रही. इस पर लोगों ने पुलिस को सूचना दी. इस पर मौके पर पहुंची पुलिस ने युवती को महिला थाने भेजा. 

VIDEO: वेणुगोपाल के खिलाफ कोई मामला लंबित नहीं- अविनाश पांडे 

पुलिस आरोपियों की जानकारी जुटा रही:  
वहीं पुलिस जब्त कार के नंबर के आधार पर आरोपियों की जानकारी जुटा रही है. युवती की तहरीर के आधार पर आगे की कार्रवाई की जाएगी. लेकिन इस मामले में सबसे बड़ी हैरानी वाली बात तो यह है कि थानेदार ने आलाधिकारियों तक इस घटना के बारे में जानकारी नहीं दी. 

डबल मर्डर: बिस्तर पर देवर के साथ पत्नी को देख पति ने काट डाला दोनों को

डबल मर्डर: बिस्तर पर देवर के साथ पत्नी को देख पति ने काट डाला दोनों को

उत्तर प्रदेश के कानपुर जनपद के नर्वल थाना क्षेत्र में शुक्रवार सुबह डबल मर्डर का सनसनीखेज मामला सामने आया है.कानपुर के नर्वल थाना क्षेत्र के नरौरा गांव में शुक्रवार तड़के पति ने अवैध संबंधों में पत्नी और उसके प्रेमी की गला रेतकर हत्या कर दी. वारदात के बाद हत्यारोपित पति ने खुद ही पुलिस को सूचना दी। पुलिस ने आरोपी पति को गिरफ्तार कर लिया है. घटना की जानकारी पर एसएसपी भी मौके पर पहुंचे.नरौरा गांव निवासी राजेश कुमार कुरील मजदूरी करता है. उसके तीन बच्चे हैं। पुलिस के अनुसार राजेश के घर रिश्तेदार (फूफा का बेटा) फतेहपुर निवासी मनीष का आना जाना था. 

पत्नी सुनीता के अवैध संबंध थे.गुरुवार देर शाम मनीष राजेश के घर पहुंचा था. राजेश ने मनीष और सुनीता को एक साथ देखा तो अपना आपा खो दिया और धारदार हथियार से दोनों की गला रेतकर हत्या कर दी..राजेश की सूचना पर पुलिस फोर्स पहुंची औऱ उसे गिरफ्तार कर लिया.इसके साथ ही दोनों मृतकों के शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा.गांव में सूचना फैलने पर सनसनी फैल गयी. ग्रामीणों की घटना स्थल पर भीड़ जमा हो गयी.घटना की जानकारी पाकर शुक्रवार सुबह एसएसपी अनंत देव भी मौके पर पहुंचे.एसएसपी ने बताया कि अवैध संबंधों के चलते पति ने हत्या की है. 

क्या थी पूरी घटना

नर्वल थाना इलाके में स्थित नरौरा ग्राम में निवासी राजेश कुरील (40) परिवार के साथ रहते हैं.इनकी पत्नी सुनीता (35) के प्रेम संबंध दूर के रिश्तेदार फतेहपुर जनपद के ओंग थाना के ग्राम कौडिया गलाथा निवासी मनीष (25) पुत्र कल्लू से थे. कई बार पति-पत्नी के बीच कहासुनी हुई, लेकिन पत्नी सुनीता ने प्रेमी मनीष से मिलना जुलना बंद नहीं किया और प्रेम सम्बंध अवैध संबंध तक जा पहुंचे. इसको लेकर पति पत्नी के बीच काफी समय से विवाद चला आ रहा था. इस बात को लेकर गुरुवार की देर रात पति राजेश और पत्नी सुनीता के बीच झगड़ा हुआ.इसकी पत्नी सुनीता ने फोन कर अपने आशिक को घर बुला लिया. जानकारी के मुताबिक यहां पहुंचने पर आशिक मनीष सुनीता से चुपचाप मिला. इस बीच पति को भनक लग गई और उसने घर के अंदर जाकर देखा तो दोनों आपत्तिजनक हालत में थे। यह देख आग बबूला पति ने दोनों पर चाकू से हमला कर गले पर कई वार कर दोनों को मौत के घाट उतार दिया

आरोपी को गिरफ्तार कर कार्रवाई की जा रही है.डबल मर्डर की सूचना पर वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक अंनत देव, पुलिस अधीक्षक ग्रामीण प्रदुमन सिंह कई थानों के पुलिस फोर्स मौके पर पहुंचे. पुलिस ने आरोपी पति को वारदात में प्रयुक्त चाकू बरामद करते हुए गिरफ्तार कर लिया.पुलिस ने शवों को कब्जे में लेकर पंचनामा भरते हुए पोस्टमार्टम के लिये भेज दिया.

 

आतंकी हमले की आशंका, जैश ए मोहम्मद से मिली धमकी, धार्मिक स्थल, प्रमुख बाजार पर धमाका करने की तैयारी में जैश

आतंकी हमले की आशंका, जैश ए मोहम्मद से मिली धमकी, धार्मिक स्थल, प्रमुख बाजार पर धमाका करने की तैयारी में जैश

कानपूर :देश के तीस बड़े शहरों में जैश ए मोहम्मद से मिली धमकी के बाद हाई अलर्ट घोषित कर दिया गया है .कानपुर में आतंकी हमले की आशंका की खुफिया रिपोर्ट जारी होने के बाद शहर में हाई अलर्ट जारी कर दिया गया है आतंकियों के निशाने पर चकेरी एयरपोर्ट और धार्मिक स्थल हैं ऐसे में बुधवार को एयरपोर्ट पर सिविल पुलिस समेत सीआईएसएफ के जवानों ने चेकिंग शुरू की

सैन्य इंटेलीजेंस, एटीएस समेत अन्य सुरक्षा व जांच एजेंसियां भी सक्रिय हो गई हैं एलआईयू भी शहर से इनपुट जुटाने में लगी है खुफिया विभाग के इनपुट के मुताबिक आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद देश में बड़े हमले की फिराक में है

वह अलग-अलग राज्यों के तीस शहरों के एयरपोर्ट, धार्मिक स्थल, प्रमुख बाजार समेत अन्य जगहों पर धमाका करने की तैयारी में हैं इसमें कानपुर भी शामिल है
गृह मंत्रालय से इनपुट आने के बाद शहर पुलिस समेत अन्य एजेंसियां सक्रिय हो गई हैं  एसपी पूर्वी राजकुमार अग्रवाल ने बताया कि एयरपोर्ट समेत शहर भर में चेकिंग कराई जा रही है 

इनपुट के मुताबिक हमलावर कोई पुरुष या महिला होने के साथ-साथ बच्चा भी हो सकता है। इसलिए किसी को भी नजरअंदाज न करने के हिदायत दी गई है फिदायीन हमला भी हो सकता है। इसलिए सेना भी ऑरेंज लेवल पर अलर्ट है

पुलिस की अनदेखी के चलते दबंगों ने दो सगी बहनों को बनाया हवस का शिकार

पुलिस की अनदेखी के चलते दबंगों ने दो सगी बहनों को बनाया हवस का शिकार

कानपूर देहात। दिल दहला देने वाली दहशत की दास्तान कानपुर देहात से आई है, जहां दबंगों ने कक्षा 7 में पढ़ने वाली नाबालिग छात्रा को अपनी हवस का शिकार बनाया। जब पीड़ित परिवार शिकायत लेकर थाने पहुंचा तो पुलिस ने थाने से बैरंग लौटा दिया। लिहाजा दबंगों के हौसले बुलंद हो गए और उन्होंने रेप पीड़िता की बड़ी बहन की पहले अस्मत लूटी, फिर उसे जमकर मारा पीटा। दरिंदे यहीं नहीं रुके, दबंगों ने रेप पीड़िता को अपना पेशाब पिलाया। 

रेप पीड़िता अस्पताल में ज़िन्दगी और मौत के बीच जंग लड़ रही है और कानपुर देहात पुलिस कार्यवाही करने की बजाए तमाशाबीन बनी हुई है। दरअसल मामला कानपुर देहात के अमरौधा ब्लाक के ट्यूंगा गांव का है। गांव के वहशी युवक दीपू ने अपने परिवार के दो सदस्यों के साथ मिलकर इस घिनौनी हरकत को अंजाम दिया। पीड़िता का बाप नहीं है, घर में दो बहने रहती थी। रेप के बाद पीड़िता बदहवास हालत में थाने पहुंची और अपने साथ हुई दरिन्दगी की दास्तान सट्टी थाने के इंस्पेक्टर दिग्विजय सिंह को बताई। इंस्पेक्टर दिग्विजय सिंह ने दोनों बहनों के साथ हुई दरिंदगी के बाद भी उनकी एक नहीं सुनी और थाने से बैरंग लौटा दिया। पीड़ित की हालत बिगड़ती देख उसके परिजनों ने उसे जिला अस्पताल में भर्ती कराया जहा उसकी हालत नाज़ुक बनी हुयो है। 

मामला जब मीडिया के संज्ञान में आया तो इंस्पेक्टर सट्टी दिग्विजय सिंह आफ द रिकार्ड सफाई देने में जुट गए और खुद को बेदाग बता डाला और महज़ मामूली विवाद बता कर पल्ला झाड़ लिया। दिखाने लगे की देखो मैंने दोनों की एफआईआर दर्ज कर दी है और मेडिकल के लिए भी भेज दिया है, लेकिन ये नहीं बताया कि ये सब कार्यवाही 5 दिन बाद की है, जब मीडिया के संज्ञान मामला आया है। 

मामला सत्तारूढ़ पार्टी का था, लिहाज़ा विपक्ष का सवाल उठाना लाज़मी था। कांग्रेस ज़िला अध्यक्ष फौरन बोले ये प्रशासन की नाकामी है। क़ानून व्यवस्था नाम की कोई चीज सूबे में नहीं रह गई है। सूबे में जंगल राज कायम है, तभी दो सगी बहनों के साथ रेप होता है और पुलिस तमाशबीन बनकर बैठी है। इस घटना ने कानपुर देहात पुलिस प्रशासन पर सवालिया निशान लगा दिया है। सवाल ये उठता है कि आखिर पुलिस ने रेप पीड़िता के परिवार की फ़रियाद क्यों नहीं सुनी? आखिर पुलिस ने पीड़ित परिवार की तहरीर पर मुकदमा दर्ज कर मेडिकल क्यों नहीं कराया? अगर मेडिकल रिपोर्ट में रेप की पुष्टि हो जाती तो पुलिस मुकदमा दर्ज करती, वरना पुलिस मुकदमा स्पंज कर सकती थी जो पुलिस ने नहीं किया। 

... कानपूर देहात से संवाददाता विवेक कुमार त्रिवेदी की रिपोर्ट 

कुंभ में सरकारी विभागों ने किया मां गंगा के साथ छल

कुंभ में सरकारी विभागों ने किया मां गंगा के साथ छल

कानपुर। केंद्र और राज्य सरकार ने गंगा को निर्मल बनाने के लिए बड़े बड़े दावे किए लेकिन जांच में सामने आ रहा है कि पवित्र कुंभ स्नान में सरकारी विभागों के द्वारा मां गंगा के साथ छल किया गया है। साथ ही सरकार को गुमराह करने का काम भी किया गया है, जिन अफसरों पर सरकार भरोसा जताती है वही अफसर माँ गंगा के साथ गुनाह करने में कमी नही छोड़ी। ऐसे में गंगा को प्रदुषण मुक्त बताने वाले अफसरों की एक झटके में पोल खुल गई है। 

जल कल विभाग में हुई गंगा की जांच रिपोर्ट में बैक्टीरिया की जांच रिपोर्ट में चौंकाने वाले तथ्य मिले है।  प्रति 100 मिली लीटर गंगा जल में करीब 24 लाख कोलीफार्म बैक्टीरिया पाए गए है । इतना ही नही पानी मे हानिकारक रसायन नाइट्राइट 0.2.0.3.मिलीग्राम प्रतिलीटर मिला है । ऐसे में शासन को भेजी जा रही रिपोर्ट और हकीकत रिपोर्ट में काफी अंतर नजर आ रहा है। जब इस विषय में क्षेत्रीय प्रबंधक उप नियंत्रण बोर्ड के कुलदीप मिश्रा से जानकारी ली गई तो उन्होंने कहा कि गंगा की लगातार देख रेख की जा रही है। नियमित रिपोर्ट भी शासन को भेजी जा रही प्रदूषण फैलाने वाले औधोगिक इकाइयां पर विभाग द्वारा कड़ी नजर रखी जा रही है।

वहीं प्रदूषण नियंत्रण को लेकर आरके अग्रवाल महाप्रबंधक गंगा प्रदूषण इकाई जल निगम ने भी कमी नही छोड़ी । उनका कहना है कि 16 नालो में से पांच नाले बायो रेमेडीएसन में ट्रीट हो रही है शेष नाले टेप है । गंगा एक्सन पल 4 फर्स्ट और सेकंड फेस में ट्रीटमेंट के बाद क्लोरीनेशन का प्रावधान नही है । इस वजह से बैक्टीरिया की कुल मात्रा मिल सकती है। इसके चलते अगले चरण में कार्य योजना बनाकर इसका निस्तारण किया जाएगा । 

Open Covid-19