राजस्थान विधानसभा में हंगामे के बीच सदन की कार्यवाही अनिश्चितकाल के लिए स्थगित

राजस्थान विधानसभा में हंगामे के बीच सदन की कार्यवाही अनिश्चितकाल के लिए स्थगित

राजस्थान विधानसभा में हंगामे के बीच सदन की कार्यवाही अनिश्चितकाल के लिए स्थगित

जयपुर: राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) नेता निंबाराम के विरूद्ध पुलिस कार्यवाही को लेकर बुधवार को राजस्थान विघानसभा में शून्यकाल के दौरान हंगामा हुआ और शोरगुल के बीच सभापति ने सदन की कार्यवाही अनिश्चित काल के लिए स्थगति कर दी. रतनगढ़ से भाजपा विधायक अभीनेश महर्षि ने स्थगन प्रस्ताव के जरिये मामला उठाते हुए कहा कि कांग्रेस सरकार आरएसएस नेता निंबाराम के लिये मुश्किलें उत्पन्न कर रही है और इसलिये उन्हें घर छोडना पड़ा.

आरएसएस नेता निंबाराम के खिलाफ एसीबी द्वारा मामला पंजीबद्ध है
सत्तारूढ़ कांग्रेस पार्टी के विधायकों ने उनकी टिप्पणी पर आपत्ति जताते हुए कहा कि आरएसएस नेता निंबाराम के खिलाफ भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो (एसीबी) द्वारा एक मामला पंजीबद्ध है और उन्हें अपना पक्ष उसके सामने रखना चाहिए. भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो ने जयपुर ग्रेटर नगर निगम की निलंबित महापौर सौम्या गुर्जर के पति राजाराम और कचरा संग्रहण कंपनी के एक अधिकारी के बीच कंपनी के बकाया के भुगतान की एवज में कथित तौर पर 20 करोड रूपये के कमीशन लेने के बारे में बातचीत का एक वीडियो सामने आने के बाद प्राथमिकी दर्ज की थी.

निंबाराम को एसीबी के पास जाना चाहिए
उनके बीच चल रही बातचीत के दौरान आरएसएस नेता निंबाराम भी वीडियो में बैठे हुए दिखाई दे रहे हैं इसलिये भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो ने प्राथमिकी में उनका (निंबाराम) नाम भी शामिल किया है. शिक्षामंत्री और कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा ने कहा कि निंबाराम के खिलाफ प्राथिमिकी दर्ज है और उन्हें एसीबी के पास जाना चाहिए. उन्होंने सवाल किया कि महर्षि विधानसभा में निंबाराम की वकालात क्यों कर रहे हैं. सोर्स- भाषा

और पढ़ें