Live News »

नवजात मौत मामला : परिजनों ने किया हंगामा, कहा-वक्त पर मिलता इलाज तो नहीं जाती जान 

नवजात मौत मामला : परिजनों ने किया हंगामा, कहा-वक्त पर मिलता इलाज तो नहीं जाती जान 

डेगाना(नागौर): डेगाना के हरसौर कस्बे के राजकीय चिकित्सालय में शुक्रवार सुबह एक प्रसव के बाद हुई नवजात शिशु की मौत से हंगामा खड़ा हो गया. आक्रोशित ग्रामीणों ने अस्पताल में चिकित्साकर्मियों पर लापरवाही का आरोप लगाते हुए जमकर आक्रोश जताया. ग्रामीणों ने मृत शिशु के शव को अस्पताल के ओपीडी कक्ष के बाहर रखकर प्रदर्शन किया. मामले की गंभीरता को देखते हुए बीसीएमएचओ ने जानकारी लेते हुए मौजिज लोगों की सहायता से मामला शांत कराया. 

कोरोना वायरस की वजह से शेयर बाजार को लगा झटका, निवेशकों को हुआ भारी नुकसान

गंभीर हालत में किया रैफर:
जानकारी के मुताबिक हरसौर निवासी मदीना बानो पत्नी रफीक मोहम्मद को शुक्रवार प्रातः 4 बजे प्रसव पीड़ा हुई तो परिजन उसे हरसौर के राजकीय चिकित्सालय लेकर पहुंचे. सुबह साढ़े आठ बजे प्रसव हुआ तो नवजात शिशु की स्थिति गंभीर होने पर उसे अजमेर के लिए रैफर कर दिया गया. परिजनों ने चिकित्सकों से शिशु के साथ नर्सिंग स्टाफ को भेजने की मांग रखी. जिस पर चिकित्सकों ने उन्हें मना कर दिया. करीब पौने घंटे की देरी से बिना नर्सिंग स्टाफ पहुंची 108 एम्बुलेंस में परिजन शिशु को लेकर अजमेर के लिए रवाना हुए. रास्ते में शिशु की मौत हो गई एवं अजमेर के जेएलएन चिकित्सालय में डॉक्टरों ने शिशु को मृत घोषित कर दिया था. 

108 एंबुलेंस सेवा शुरू कराने की मांग उठाई:
नवजात शिशु की मौत के समाचार मिलते ही परिजन बड़ी संख्या में अस्पताल पहुंच गए और नाराजगी जाहिर की. ग्रामीणों ने आरोप लगाया कि समय रहते यदि नवजात को इलाज मिलता तो शायद उसकी जान बच सकती थी. आक्रोशित हुए ग्रामीणों ने डेगाना विधायक विजयपाल मिर्धा को दूरभाष पर पूरे मामले की जानकारी देते हुए अस्पताल में 108 एंबुलेंस सेवा उपलब्ध कराने एवं अस्पताल प्रशासन पर कार्रवाई की मांग की.

ख्वाजा गरीब नवाज के सालाना उर्स में शिरकत के लिए पहुंचा 211 पाक जायरीन जत्था

विधायक ने इस मामले पर सीएमएचओ से बात कर एक्शन लेने का आश्वासन दिया. कार्रवाई के लिए उच्चाधिकारियों को अवगत कराया डेगाना बीसीएमओ डॉ. रामकिशोर सारण ने बताया कि राजकीय चिकित्सालय में नवजात की मौत के प्रकरण में चिकित्सकों से रिपोर्ट मांगी गई है. उच्चाधिकारियों को मामले में उचित कार्रवाई करने के लिए अवगत करा दिया गया है. अस्पताल में 108 एंबुलेंस सेवा शुरू करने के लिए सरकार को प्रस्ताव भी भेजा गया है.

और पढ़ें

Most Related Stories

70 वर्षीय बुजुर्ग पिता ने बेटे को संतान प्राप्ति के लिए मांगी मन्नत, अब 190 किमी दे रहा दंडवत यात्रा

70 वर्षीय बुजुर्ग पिता ने बेटे को संतान प्राप्ति के लिए मांगी मन्नत, अब 190 किमी दे रहा दंडवत यात्रा

डेगाना(नागौर): डेगाना के चारणवास गांव में 70 वर्ष की आयु में जब बेटे की शादी के 12 साल बाद भी संतान की प्राप्ति नहीं हुई तो चारणवास गांव के बुजुर्ग सवाईदान चारण ने बुढ़ापे में भी अपने बेटे के लिए संतान की प्राप्ती के लिए तकरीबन 190 किलोमीटर की दूरी को दण्डवत कर देशनोक जाने की मन्नत मांग ली. जी हां,  चारणवास के सवाईसिंह चारण ने बताया कि उनके बेटे महावीर की शादी को 12 साल बीत गए लेकिन महावीर के संतान की प्राप्ति नहीं होने से मैं चिंतित हो गया. 

मेरी मन्नत पूरी हुई वैसे सभी की हो: 
तकरीबन 1 साल पहले मैंने देशनोक करणी माता से ये मन्नत मांग ली की अगर करणीमाता मेरे बेटे महावीर को संतान प्राप्ति का सुख देती है तो मैं तकरीबन 190 किलोमीटर की यात्रा दण्डवत करने देशनोक करणीमाता के दर्शन के लिए जाऊंगा और अब बेटे महावीर को संतान की प्राप्ति होने पर मैंने अपने सहायक शिवदान चारण, नरपतदान चारण और सुखराम प्रजापत के साथ दंडवत यात्रा 27 दिसम्बर को प्रारंभ कर दी और मेरी करणी माता से प्रार्थना है जैसे मेरी मन्नत पूरी हुई वैसे सभी जो भी मन्नत मांगे उनकी मन्नत पूरी हो. जब फर्स्ट इंडिया संवाददाता ने बुढ़ापे के साथ ही सर्दी में दण्डवत यात्रा के बारे में सवाईसिंह चारण से सवाल किया तो उन्होंने कहा कि सर्दी सहने की शक्ति करणी माता देती है. 

महिला सफाईकर्मी ने लगाया प्रिंसिपल पर छेड़छाड़ का आरोप

महिला सफाईकर्मी ने लगाया प्रिंसिपल पर छेड़छाड़ का आरोप

डेगाना(नागौर): कस्बे के राजकीय स्वामी विवेकानंद मोडल विद्यालय में काम करने वाली एक सफाई कर्मचारी ने स्कूल के ही प्रिंसिपल देवेंद्र कुमार चौधरी पर छेड़छाड़ का आरोप लगाया और डेगाना थाने में छेड़छाड़ का मुकदमा दर्ज कराया है. जानकारी के अनुसार पीड़िता ने स्थानीय निवासियों को उसके साथ हुई छेड़छाड़ के बारे में बताया तो ग्रामीण विद्यालय पहुंच कर हंगामा करने लगे. उसके बाद सूचना पर पहुंची पुलिस ने दोनों पक्षों से मामले की पूरी जानकारी लेकर स्थानीय लोगों को उचित जांच का आश्वासन दिया. 

पिछले काफी दिनों से छेड़छाड़ करने का आरोप: 
थाने में दर्ज रिपोर्ट के अनुसार प्रिंसिपल ने आपत्तिजनक वार्तालाप, झूंठे झांसे, दुर्व्यवहार और बच्चों के पालन पोषण जैसे प्रस्ताव रखे, जिसके मना करने पर पीड़िता को चोरी का झूठा आरोप लगाकर विद्यालय से निकाल दिया. पीड़िता ने फर्स्ट इंडिया न्यूज से बात करते हुए बताया कि पिछले काफी दिनों से स्कूल प्रिंसिपल छेड़छाड़ कर रहा था, साथ ही बाहर ले जाने और पैसे देने जैसी बाते करता था. साथ ही उसने अपने फोन में कॉल रिकॉर्डिंग होने की भी बात कही. वहीं प्रिंसिपल इन आरोपो को निराधार बता रहे है. ऐसे में जांच होने के बाद ही पूरे मामले का खुलासा हो पाएगा. 

Open Covid-19