Live News »

इराक में फिर रात को बमबारी, US के हमले में 6 लोग मारे गए, ट्रंप बोले- युद्ध खत्म करने के लिए लिया ऐक्शन

इराक में फिर रात को बमबारी, US के हमले में 6 लोग मारे गए, ट्रंप बोले- युद्ध खत्म करने के लिए लिया ऐक्शन

बगदाद: अमेरिका ने लगातार दूसरे दिन इराक में एक बार फिर हवाई हमला किया है. इराक के संगठन हशद अल शाबी को निशाना बनाकर अमेरिका ने ये हमला किया है. जानकारी के अनुसार अबतक इस हमले में 6 लोग मारे गए हैं. हशद अल शाबी वही संगठन है जिसे ईरान का समर्थन मिला हुआ है. आज यह हमला बगदाद के उत्तर इलाके में ताजी रोड के पास हुआ है. ये सड़क उस ओर जाती है जहां पर गैर अमेरिकी सेनाओं का बेस है.

हमला रॉकेट से किया गया था: 
जानकारी के अनुसार यह हमला रॉकेट से किया गया था. रॉकेट गाड़ियों पर आकर गिरा जिसके बाद उसमें आग लग गई. आग लगने के कारण 6 लोगों की मौत हो गई. जानकारी सामने आ रही है कि हमले में पॉप्‍युलर मोबलाइजेशन फोर्सेस के एक बड़े नेता की मौत हो गई है. हालांकि, अभी इसकी पुष्टि नहीं हो पाई है. 

उत्तर में स्थित ताजी रोड के पास ये हमला हुआ: 
जानकारी के अनुसार अमेरिका ने ये हमला इराक के हशद-अल-साबी के कमांडर के काफिले को निशाना बनाकर किया था. इराक के सरकारी टीवी ने हमले की पुष्टि की और कहा कि बगदाद के उत्तर में स्थित ताजी रोड के पास ये हमला हुआ है.

दुनिया तीसरे विश्व युद्ध की आशंका जता रही:
दुनिया तीसरे विश्व युद्ध की आशंका जता रही है लेकिन अमेरिका इससे इनकार कर रहा है. अमेरिकी राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप का बड़ा बयान आया है. ट्रंप का कहना है कि हमने जो एक्शन लिया वो युद्ध शुरू करने के लिए नहीं बल्कि युद्ध खत्म करने के लिए लिया. अमेरिका के हवाई हमले में ईरान के कमांडर कासिम सुलेमानी की मौत के बाद ट्रंप का ये बयान आया है.

और पढ़ें

Most Related Stories

इतालवी तैराकी टीम की तोक्यो ओलंपिक तैयारी पर रोक, 10 और तैराक Covid-19 पॉजिटिव

 इतालवी तैराकी टीम की तोक्यो ओलंपिक तैयारी पर रोक, 10 और तैराक Covid-19 पॉजिटिव

रोम:  इटली की तैराकी टीम की तोक्यो ओलंपिक की तैयारी रोक दी गई है क्योंकि 10 और तैराक कोरोना वायरस पॉजिटिव पाए गए हैं. इतालवी तैराकी महासंघ ने कहा कि लिविग्नो में ऊंचाई पर बने ट्रेनिंग स्थल पर जो लोग कोविड-19 संक्रमित हुए हैं उनमें विश्व चैंपियन सिमोना क्वाडेरेला और गैब्रिएल देती भी शामिल हैं.

यह ट्रेनिंग शिविर 11 अक्टूबर को शुरू हुआ था और इसे पांच नवंबर तक चलना था लेकिन अब इसे निलंबित कर दिया गया है और टीम को पृथकवास में रखा गया है. तोक्यो खेलों को पहले ही महामारी के कारण एक साल के लिए स्थगित कर दिया गया और अब यह अगले साल होंगे.

आपको बता दे कि राष्ट्रीय टीम के कम से कम 13 खिलाड़ी संक्रमित पाए गए हैं. हाल ही में सिमोना और गैब्रिएल के अलावा फेडेरिको बुरदिसो, मार्टिना रिता केरामिग्नोली, मार्को डि तुलियो, स्टीफानो डि कोला, सारा गेइली, एडवर्डो जियोर्गेटी, मातियो लेमबर्टी, एलेसियो प्रोइटी कोलोना, सिमोन साबियोनी और एलिस मिजाऊ पॉजिटिव पाए गए हैं. (सोर्स-भाषा)

{related}

इस शताब्दी अमेरिका का सबसे महत्वपूर्ण भागीदार होगा भारत: रक्षा मंत्री मार्क एस्पर

 इस शताब्दी अमेरिका का सबसे महत्वपूर्ण भागीदार होगा भारत: रक्षा मंत्री मार्क एस्पर

एरी, पेन्सिलवेनिया: भारत और अमेरिका के बीच अगले महीने 2+2 मंत्री स्तरीय होने वाली बातचीत से पहले अमेरिका के रक्षा मंत्री मार्क एस्पर ने मंगलवार को कहा कि भारत इस शताब्दी में हिंद-प्रशांत क्षेत्र में अमेरिका का सबसे महत्वपूर्ण भागीदार होगा. एस्पर ने वाशिंगटन में कहा कि वह और विदेश मंत्री माइक पोम्पिओ अगले हफ्ते अपने भारतीय समकक्षों क्रमश: राजनाथ सिंह तथा एस. जयशंकर के साथ 2+2 बैठक के लिये नई दिल्ली जायेंगे.

गौरतलब है कि इस 2+2 बैठक की तारीखों की आधिकारिक घोषणा नहीं की गई है. अटलांटिक काउंसिल थिंक टैंक की ओर से आयोजित एक वेबीनार में पूछे गये सवाल के जवाब में एस्पर ने कहा कि विदेश मंत्री पोम्पिओ और मैं वहां अगले हफ्ते जायेंगे. यह भारत के साथ हमारी दूसरी जबकि दोनों देशों के बीच तीसरी 2+2 बैठक होगी. यह बेहद महत्वपूर्ण है और मेरा मानना है कि भारत निश्चित रूप से इस शताब्दी में हिंद-प्रशांत क्षेत्र में हमारे लिये एक बेहद महत्वपूर्ण सहयोगी साबित होगा. वे देश की राजनीतिक नीतियों की तारीफ करते भी नजर आए. 

अन्य एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि भारत दुनिया का सबसे बड़ा लोकतंत्र, बहुत सक्षम देश है, जहां के लोग बेहद प्रतिभावान हैं. हिमालय में वे रोज चीन की आक्रामकता का सामना कर रहे हैं, खास तौर से वास्तविक नियंत्रण रेखा पर. आगे एस्पर ने कहा कि इसलिये उस क्षेत्र के कई अन्य देशों की तरह मैंने भी उनसे  बात की है. मैंने मंगोलिया, न्यूजीलैंड, आस्ट्रेलिया, थाईलैंड और पलाउ तक की यात्रा की है. वे भी चीन जो कर रहा है उसको पहचान जाएंगे. (सोर्स-भाषा)

{related}

हथियारों से लैस भीड़ ने दो जेलों पर किया हमला, लगभग 2000 कैदी फरार

हथियारों से लैस भीड़ ने दो जेलों पर किया हमला, लगभग 2000 कैदी फरार

लागोस:  नाइजीरिया में दो जेलों पर भीड़ ने हमला कर दिया जिसके बाद करीब दो हजार कैदी फरार हो गए हैं. वहीं अधिकारियों ने पुलिस की बर्बरता के खिलाफ दो हफ्ते से चल रहे प्रदर्शनों की वजह से उपजी अशांति को दबाने के लिए लागोस में 24 घंटे के कर्फ्यू की घोषणा की है. दंगा रोधी विभाग के पुलिस महानिरीक्षक ने नाइजीरिया की जेलों के आसपास सुरक्षा को मजबूत करने का आदेश दिया है.

पुलिस ने एक बयान में कहा कि लोगों की जिंदगी और संपत्ति को और नुकसान पहुंचने से रोकने के लिए बल अब कानून की पूरी ताकत का इस्तेमाल करेगा. लागोस के राज्य के गवर्नर बाबाजीडे सानवो-ओल्यू ने ट्विटर पर कहा कि पुलिस की बर्बरता के खिलाफ यह प्रदर्शन हमारे समाज की सलामती के लिए खतरा बनते जा रहे हैं. जिसके लिए ठोस कदम उठाने की जरुरत है. 

गृह मंत्रालय के प्रवक्ता मोहम्मद मंगा ने मंगलवार को बताया कि हथियारों से लैस भीड़ ने दो जेलों पर हमला कर दिया था जिसके बाद जेल से लगभग 1993 कैदी गायब हैं. यह पता नहीं है कि हमले से पहले जेल में कुल कितने कैदी थे. फिलहाल जांच की जा रही है कि इस साजिश के पीछे किसका हाथ है. (सोर्स-भाषा)

{related}

घरेलू कलेश को निपटाने पहुंची पुलिस पर गोलीबारी, पुलिस अधिकारी की मौत, एक घायल

घरेलू कलेश को निपटाने पहुंची  पुलिस पर गोलीबारी,  पुलिस अधिकारी की मौत, एक  घायल

ह्यूस्टन: अमेरिका के ह्यूस्टन  घरेलू कलेश को निपटाने के लिए मौके पर पहुंची पुलिस पर एक व्यक्ति ने गोलियां चला दी, जिसमें ह्यूस्टन के एक अधिकारी की मौत हो गई है. वहीं घटना में एक किशोर और एक अन्य अधिकारी घायल हो गए है. पुलिस प्रमुख आर्ट एसेवेडो ने बताया कि पुलिस टीम सूचना के बाद दक्षिण पश्चिम ह्यूस्टन स्थित एक अर्पाटमेंट में सुबह आठ बजे पहुंची थी. वहां उन्हें एक महिला मिली, जिसने बताया कि वह घर छोड़ रही हैं लेकिन उसका पति उसे सामान नहीं लेने दे रहा है. 

एसेवेडो ने एक संवाददाताा सम्मेलन में बताया कि करीब डेढ़ घंटे बाद महिला के 14 वर्षीय बेटे ने दरवाजा खोला और 51 वर्षीय एलमर मानजानो ने बाहर आकर अधिकारियों पर गोलियां चला दी, जिसका अधिकारियों ने भी जवाब दिया था. उन्होंने बताया कि सर्जेंट हैरोल्ड प्रेस्टन (65) के सिर सहित शरीर में कई जगह गोलियां लगी थी और अस्पताल में उन्होंने दम तोड़ दिया है. उन्होंने बताया कि एक अन्य अधिकारी कोर्टनी वॉलर के बांह में गोली लगी है और अब उनकी हालत स्थिर है. 

उन्होंने बताया कि मानजानो और किशोर, दोनों को गोली लगी है और उनकी जान को कोई खतरा नहीं है. इस बीच एक अन्य घटनाक्रम में, फ्लोरिडा में एक व्यक्ति ने मजाक-मजाक में अपने जुड़़वा भाई को गोली मार दी है. पिनैलस काउंटी जेल के रिकॉर्ड के अनुसार 23 वर्षीय थॉमस पार्किंसन फ्रीमैन को सोमवार सुबह गिरफ्तार किया गया है. 

पुलिस की रिपोर्ट के अनुसार दो भाई और उनका एक दोस्त कार पार्किंग में लगी एक कार में बैठकर मजाक कर रहे थे, जब मैथस ने अपनी बंदूक निकाल थॉमस पर तान दी, जिसके जवाब में थॉमस ने भी अपनी बंदूक निकाल मैथस पर तानी, जो चल गई और गोली सीधा मुंह में लगी. थॉमस का कहना है कि उसका अपने भाई की हत्या करने का कोई इरादा नहीं था और उसे नहीं पता कि बंदूक कैसे चल गई. फिलहाल दोनों ही आरोपियों को  गिरफ्तार किया जा चुका है.(सोर्स-भाषा)

{related}

नवाज शरीफ की बेटी मरियम पर पाकिस्तान में सरकार विरोधी रैली के लिए मामला दर्ज

नवाज शरीफ की बेटी मरियम पर पाकिस्तान में सरकार विरोधी रैली के लिए मामला दर्ज

लाहौर: पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ की बेटी और विपक्षी पाकिस्तान मुस्लिम लीग-नवाज की उपाध्यक्ष मरियम नवाज और उनकी पार्टी के 2,000 से अधिक कार्यकर्ताओं पर लाहौर में सरकार विरोधी रैली आयोजित करने के लिए मंगलवार को मामला दर्ज किया गया. मरियम नवाज ने रैली में प्रधानमंत्री इमरान खान को कायर और कठपुतली करार दिया था तथा फौज के पीछे छिप जाने वाला बताया था.

पाकिस्तान में 11 विपक्षी दलों के गठबंधन पाकिस्तान डेमोक्रेटिक मूवमेंट (पीडीएम) ने 16 अक्टूबर को यहां रैली आयोजित की थी. इसके बाद गुजरांवाला में जनसभा हुई थी. मरियम ने रैली में प्रधानमंत्री खान को खुलेआम कायर और कठपुतली करार दिया था. उन्होंने कहा था कि इमरान खान अपनी नालायकी को छिपाने के लिए फौज के पीछे जाकर छिप जाते हैं. मरियम ने प्रधानमंत्री को चुनौती दी थी कि उन्हें गिरफ्तार कराके दिखाएं और वह जेल जाने से नहीं डरतीं.

{related}

सरकार और सरकारी संस्थाओं के खिलाफ नारेबाजी करके नागरिकों के लिए परेशानियां खड़ी करने, सड़कें अवरुद्ध करने, लाउडस्पीकर और माइक का इस्तेमाल करने तथा कोरोना वायरस संबंधी दिशानिर्देशों का उल्लंघन करने के मामले में मरियम के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की गई है. मरियम के पति कैप्टन (सेवानिवृत्त) मोहम्मद सफदर का नाम भी एफआईआर में है. उन्हें पहले कथित रूप से कायद-ए-आजम की कब्र की पवित्रता की अवहेलना करने के मामले में कराची में गिरफ्तार किया गया था। बाद में उन्हें जमानत पर छोड़ दिया गया.

प्राथमिकी के अनुसार मरियम पर खान की सरकार की घर वापसी कराने के लिए तैयार रहने को कहकर पार्टी नेताओं और कार्यकर्ताओं को उकसाने के आरोप हैं. इससे पहले लाहौर पुलिस ने शरीफ और अन्य लोगों के खिलाफ सेना तथा न्यायपालिका के विरुद्ध बोलने के मामले में देशद्रोह का मामला दर्ज किया था. (भाषा) 

कोलोन चैंपियनशिप: जॉनसन ने सिलिच को 6-2, 6-2 से हराया

 कोलोन चैंपियनशिप: जॉनसन ने सिलिच को 6-2, 6-2 से हराया

कोलोन: कोलोन चैंपियनशिप में स्टीव जॉनसन ने पूर्व अमेरिकी ओपन चैंपियन मारिन सिलिच को हराकर कोलोन टेनिस चैंपियनशिप के दूसरे दौर में जगह बनाई है. आपको बता दे कि जॉनसन ने 7-6, 6-4 से जीत दर्ज की है. दूसरे दौर में उनका मुकाबला सोमवार को दामिर जुमहुर और अलेक्सांद्रो डेविडोविच फोकिना के बीच होने वाले मैच के विजेता के रुप में होगा. 

आठवें वरीय एड्रियन मनारिनो ने एलेक्सेई पोपिरिन को 6-2, 6-2 से हराया है. अगले दौर में उनका सामना मियोमिर केसमानोविच से होगा. जापान के योशिहितो निशिओका ने ब्रिटेन के काइल एडमंड को 6-4, 6-0 से हराकर दूसरे दौर में प्रवेश किया है जहां उनका सामना सातवें वरीय यान लेनार्ड स्ट्रुफ और मार्को सेचिनातो के बीच होने वाले मैच के विजेता से होगा. सभी को बेसब्री से इंतजार है. (सोर्स-भाषा)

{related}

फिजी में हिंसक झड़प: ताइवान और चीन के बीच आरोप -प्रत्यारोप का दौर शुरु

फिजी में हिंसक झड़प: ताइवान और चीन के बीच आरोप -प्रत्यारोप का दौर शुरु

ताइपे: फिजी में हाल ही में ताइवान के राष्ट्रीय दिवस समारोह में चीनी दूतावास के अधिकारियों और ताइवान सरकार के कर्मचारियों के बीच हिंसक झड़प को लेकर दोनों देशों के बीच आरोप-प्रत्यारोप का दौर शुरू हो गया है. चीन और ताइवान दोनों ने आठ अक्टूबर की घटना की पुष्टि की है लेकिन दोनों ने संघर्ष शुरू होने को लेकर एक दूसरे के दावे को खारिज कर दिया है.  संघर्ष में ताइवान के एक कर्मचारी के सिर में चोट आई और उसे अस्पताल में भर्ती कराया गया, वहीं एक चीनी राजनयिक भी घायल हो गये. 

ताइवान के विदेश मंत्रालय की ओर से जारी बयान के अनुसार प्रतिद्वंद्वी देशों की सरकारों के कर्मियों के बीच तनाव का यह विरल उदाहरण है जो उस समय पैदा हुआ जब समारोह में एकत्रित ताइवानी लोगों ने चीन के राजनयिकों को अतिथियों की तस्वीरें लेने से रोका. मंत्रालय की प्रवक्ता जोने ओउ ने ट्वीट किया कि हम फिजी में हमारे राजदूतों के खिलाफ की गई कार्रवाई के लिए चीन की कड़ी निंदा करते हैं. मंत्रालय ने कहा कि फिजी सरकार के समक्ष ताइवान औपचारिक रूप से विरोध दर्ज कराएगा. 

वहीं फिजी में चीनी दूतावास ने सोमवार को जारी एक बयान में कहा कि ताइवान का दावा तथ्यों से मेल नहीं खाता. उसने बताया कि उसका एक कर्मचारी भी घायल हुआ है. बयान में कहा कि उसी शाम फिजी में ताइपे व्यापार कार्यालय के कर्मचारियों ने चीनी दूतावास के कर्मचारियों के खिलाफ हिंसक व्यवहार किया, जो समारोह स्थल के बाहर सार्वजनिक क्षेत्र में अपने आधिकारिक कर्तव्यों का निर्वहन कर रहे थे, जिससे एक चीनी राजनयिक को चोट आई और वह घायल हो गए.फिलहाल मामला बढ़ता जा रहा है ऐसे में कहां जाकर रुकेगा कुछ कहा नहीं जा सकता है. (सोर्स-भाषा)

{related}

अमेरिका का रुसी सैन्य अधिकारियों पर हैकिंग का बड़ा आरोप, 6 सैन्य अधिकारियों को ठहराया जिम्मेदार

अमेरिका का रुसी सैन्य अधिकारियों पर हैकिंग का बड़ा आरोप, 6 सैन्य अधिकारियों को ठहराया जिम्मेदार

वाशिंगटन: अमेरिका ने हाल ही में रुसी सैन्य अधिकारियों पर हैकिंग का आरोप लगाया है जिसके बाद हर कोई अवाक् रह गया है. बताया जा रहा है अमेरिकी न्याय विभाग ने फ्रांसीसी राष्ट्रपति चुनाव, दक्षिण कोरिया के शीतकालीन ओलंपिक और अमेरिकी व्यवसायों को निशाना बनाने वाले वैश्विक साइबर हमले के सिलसिले में रूसी खुफिया अधिकारियों के खिलाफ सोमवार को आरोपों की घोषणा की है. 

विभाग ने आरोप लगाया कि क्रेमलिन की इसी इकाई ने 2016 के अमेरिकी चुनावों में हस्तक्षेप किया था. अभियोग में छह प्रतिवादियों पर आरोप लगाए गए हैं. ये सभी जीआरयू के रूप में जाने जाने वाले रूसी सैन्य खुफिया एजेंसी के वर्तमान और पूर्व अधिकारी बताए जा रहे हैं. अभियोजन पक्ष का कहना है कि ये हैकिंग रूस के भू-राजनीतिक हितों को आगे बढ़ाने और कथित दुश्मनों को अस्थिर करने या दंडित करने के मकसद से की गई थी. 

इन हमलों की वजह से अरबों डॉलर का नुकसान हुआ है और पेंसिल्वेनिया में स्वास्थ्य देखभाल, यूक्रेन में एक पावर ग्रिड और फ्रांसीसी चुनाव समेत जन-जीवन के एक बड़े हिस्से को बाधित किया था. पेंसिल्वेनिया के पश्चिमी जिले के लिए अमेरिकी अटॉर्नी स्कॉट ब्रैडी ने कहा कि ये हमले सबसे विनाशकारी है और अब तक के सबसे भयंकर साइबर हमलों में शामिल हैं. फिलहाल ये मामला आगे क्या तूल पकड़ता है, कुछ कहा नहीं जा सकता है. (सोर्स-भाषा)

{related}