Live News »

कश्मीर पर एक बार फिर भारत का अमेरिका को भारत का दो टूक जवाब, कहा- तीसरे पक्ष की कोई जरूरत नहीं

कश्मीर पर एक बार फिर भारत का अमेरिका को भारत का दो टूक जवाब, कहा- तीसरे पक्ष की कोई जरूरत नहीं

नई दिल्ली: पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान और अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की हाल में हुई मुलाकात के दौरान कश्मीर का मामला उठा. इस दौरान ट्रंप ने एक बार फिर पाकिस्तान को कश्मीर मुद्दे पर कहा कि अगर हम मदद कर सकते हैं तो निश्चित रूप से ऐसा करेंगे. इसे लेकर अब एक बार फिर भारत ने अपना रुख साफ करते हुए अमेरिका को दो टूक जवाब दिया है. 

कश्मीर मुद्दे पर तीसरे पक्ष की कोई भूमिका नहीं: 
विदेश मंत्रालय की तरफ से आज कहा गया कि कश्मीर मुद्दे पर तीसरे पक्ष की कोई भूमिका नहीं है. विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने प्रेस कॉन्फ्रेंस करते हुए कहा कि कश्मीर मुद्दे व उसकी मध्यस्थता को लेकर हमारा स्टैंड पूरी तरह से स्पष्ट है. मैं एक बार फिर दोहराता हूं कि इस मामले में किसी भी तीसरे पक्ष की कोई भूमिका की जरूरत नहीं है.

पाकिस्तान को आतंक, शत्रुता और हिंसा से मुक्त माहौल पैदा करना होगा:
उन्होंने कहा कि यदि भारत और पाकिस्तान में कोई द्विपक्षीय मुद्दा है, जिस पर चर्चा करने की जरूरत है तो इसे शिमला समझौते के तहत दो देशों के बीच किया जाना चाहिए, लेकिन इसके लिए पाकिस्तान को आतंक, शत्रुता और हिंसा से मुक्त माहौल पैदा करना होगा. 

ट्रंप पहले भी कर चुके मध्यस्थता की पेशकश:
बता दें कि इससे पहले भी ट्रंप ने कश्मीर पर अपनी राय रखते हुए मदद की पेशकश की थी. पिछले साल अगस्त में डोनाल्ड ट्रंप ने कहा था कि अगर भारत चाहेगा तो वे कश्मीर मामले में मध्यस्थता करने के लिए तैयार हैं, लेकिन बाद में उन्होंने कहा कि इस मामले को भारत और पाकिस्तान को द्विपक्षीय स्तर पर सुलझाना चाहिए. लेकिन एक दिन पहले दावोस में ट्रंप ने इमरान खान से मुलाकात के दौरान इस बात को हवा दे दी. 

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें
और पढ़ें

Stories You May be Interested in