गुर्जरों से वार्ता के लिए धरनास्थल पर पहुंचे मंत्री विश्वेन्द्र सिंह और नीरज के पवन

FirstIndia Correspondent Published Date 2019/02/09 05:28

मलारना डूंगर सवाईमाधोपुर। राजस्थान में आरक्षण की मांग को लेकर एक बार फिर से आंदोलन के ट्रैक पर उतरे गुर्जर समाज के धरना—प्रदर्शन के चलते रेलवे के बाद अब कई सड़क मार्गों को भी जाम हो गए हैं। ऐसे में आंदोलन के चलते आमजन को परेशानियों से बचाने के लिए सरकार ने पहल की है और अब वार्ता का समय तय किए जाने के बाद अब सरकार के प्रतिनिधि वार्ता के लिए पहुंच चुके हैं। सरकार की ओर से गठित की गई कमेटी में शामिल मंत्री विश्वेन्द्र सिंह और आईएएस नीरज के पवन धरनास्थल पर वार्ता के लिए पहुंचे हैं। अब यहीं ट्रैक पर ही वार्ता होगी और आरक्षण के मुद्दे का हल निकाला जाएगा।

गौरतलब है कि गुर्जर आंदोलन के मसले का कोई हल ढूढंने के प्रयास सरकार ने कल शाम से ही शुरू कर दिए हैं और इसके तहत सरकार ने एक विशेष कमेटी भी बनाई है, जो गुर्जरों के साथ वार्ता के लिए पहुंच चुकी है। सरकार और गुर्जरों के बीच वार्ता के लिए पर्यटन मंत्री विश्वेन्द्र सिंह और IAS नीरज के. पवन धरनास्थल पर पहुंचे हैं। अब धरनास्थल पर ही वार्ता होगी और आरक्षण के मामले पर बातचीत की जाएगी। धरनास्थल पर पहुंचे विश्वेन्द्र सिंह ने कहा कि सरकार आप लोगों की बात समझती है और आपके साथ है।

गुर्जर आरक्षण आंदोलन को लेकर मलारना डूंगर में धरनास्थल पर पहुंचे मंत्री विश्वेंद्र सिंह ने कहा कि मैं पहले भी आपके आंदोलन में आया हूं। रात को मुख्यमंत्री जी से मेरी बात हुई है, गुर्जरों के लिए सरकार पूरी समर्पित है। सरकार आपकी पूरी तरह से मदद करने के लिए तैयार है। आपकी तीनों मांगों को लेकर बैठक कर चर्चा करेंगे। आपकी समस्या सुनने के लिए ही हम बैठे हैं, आप हमारा विश्वास कीजिए आपकी मांगों को लेकर सरकार आपके साथ है। चूंकि इतनी भीड़ में वार्ता संभव नहीं है, इसलिए आपको वार्ता के लिए सरकार की ओर से न्यौता दे रहा हूं।

इसके साथ ही आंदोलन की अगुवाई कर रहे गुर्जर नेता कर्नल किरोड़ी सिंह बैंसला ने कहा कि आप हमारे बीच में आए, इसके लिए आपका धन्यवाद। लेकिन जिस आरक्षण के लिए हम ट्रैक पर आए हैं, अब उसे लेकर ही यहां से हटेंगे। सरकार को यदि वार्ता करनी है, तो यहीं पर आकर वार्ता करें। हम वार्ता के लिए यहां से उठने वाले नहीं हैं। हमारी ओर से कोई डेलीगेशन नहीं होगा, जो भी वार्ता होगी, यहीं पर होगी।

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in