प्रदेश के पर्यटन में प्राण फूंक पंख लगाने में जुटे मंत्री विश्वेंद्र सिंह

FirstIndia Correspondent Published Date 2019/01/31 07:04

जयपुर। प्रदेश के पर्यटन को एक बार पंख लगने वाले हैं। पर्यटन और धार्मिक नगरी से चुनाव जीतकर विधानसभा में प्रवेश करने वाले पर्यटन मंत्री विश्वेंद्र सिंह ने पर्यटन विभाग और पर्यटन निगम के उद्वार का बीड़ा उठाया है। विश्वेंद्र सिंह का डायनामिक अंदाज और हर काम को तेजी से लेकिन पूरी कुशलता से करने का माद्दा इन दिनों ट्यूरिज्म इंडस्ट्री में चर्चा में है। विश्वेंद्र सिंह ने 6 सदस्यीय कमेटी की रिपोर्ट पर पर्यटन निगम को संवारने की योजना पर काम शुरू कर दिया है।

पर्यटन मंत्री बनते ही विश्वेंद्र सिंह ने विभाग के अधिकारियों और यूनियन प्रतिनिधियों की एक छह सदस्यीय कमेटी बनाई थी, जिसने अपनी रिपोर्ट दे दी है। इस रिपोर्ट में पर्यटन निगम की बीमार इकाइयों को नीलामी के जरिए बेचने, कुछ इकाइयों को निजी क्षेत्र को लीज पर देने और इकाई बेचने से मिली राशि से अन्य इकाइयों के अपग्रेडेशन का काम होगा। आनंद भवन, खासा कोठी और टाइगर डेन जैसी इकाइयां अपग्रेड होंगी। धौलपुर को रिलीजियस कम वाइल्ड लाइफ सर्किट में शामिल किया जाएगा। वन विहार में दर्जनभर भालू हैं, उसे बियर सेंचूरी घोषित करवाने के प्रयास होंगे।

इसके साथ ही घड़ियाल सफारी, तालाबशाही, मचकुंड, दरगाह और रात्रि को लग्ज़री टेंट्स में रुकने की सुविधा विकसित की जाएगी। पर्यटन मंत्री विश्वेंद्र सिंह ने बताया कि पैलेस ऑन व्हील्स के लिए भी एक फर्म ने दो वर्ष के लिए 60 फीसदी बुकिंग एडवांस देने का प्रस्ताव दिया है। बदले में कंपनी खुद का लोगो शाही ट्रेन पर लगाएगी। इसके लिए भी कंपनी से जल्द बातचीत की जाएगी। मेले उत्सवों को और ज्यादा अच्छी तरह से मार्केटिंग के जरिए पर्यटकों तक पहुंचाया जाएगा, ताकि ज्यादा से ज्यादा पर्यटक आ सकें।

भरतपुर क्षेत्र में भी एक सर्किट की संभावना है। यहां बारेठा झील में बोटिंग शुरू करने की योजना पर भी पर्यटन विभाग ने काम शुरू कर दिया है। बयाना में चार हजार साल पुराने बाणासुर के किले, घना पक्षी विहार, डीग के महल, फतेहपुर सीकरी, गोवर्धन और मथुरा, वृंदावन को मिलाकर सर्किट विकसित किया जा सकता है। सांभर लेक प्रोजेक्ट पर भी तेजी से काम चल रहा है। पर्यटन मंत्री विश्वेंद्र सिंह ने बताया कि रणथंभौर में पनप रहे ट्यूरिस्ट माफिया को वे जल्द ही खत्म कर देंगे। यहां बरसों से फैवरेटिज्म चल रहा है जो अब नहीं चल सकेगा।

पर्यटन मंत्री ने नाहरगढ़ के पड़ाव रेस्टारेंट के प्रभारी की शानदार परफॉरमेंस का हवाला देते हुए कहा कि अब परफॉर्मर ही फील्ड में रहेंगे, नॉन परफॉर्मर्स को फील्ड से हटाया जाएगा। दूसरी और पर्यटन निगम कर्मचारी यूनियन के अध्यक्ष तेजसिंह ने बताया कि पर्यटन मंत्री विश्वेंद्र सिंह के आने के बाद विभाग की दिशा और दशा तेजी से बदल रही है। लोगो बदल दिया गया है और और राजस्व में भी वृद्धि हो रही है।

बहरहाल, कुल मिलाकर कहा जा सकता है कि विश्वेंद्र सिंह की कार्यशैली ने पर्यटन में प्राण फूंक दिए हैं। कर्मचरियों में उत्साह है और बेजा खर्च पर लगता लगाकर और राजस्व में वृद्धि कर न केवल ट्रेवल ट्रेड को नए आयाम दिए जाएंगे, वरन पर्यटन निगम भी बीमारू निगमों की श्रेणी से निकल अर्थव्यवस्था की पटरी पर तेजी से दौड़ेगा।

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in