अंधविश्वास की भेंट चढ़ा मासूम, दादा ने कर डाली पोते की ही नरबलि

FirstIndia Correspondent Published Date 2018/06/29 06:59

वैर (भरतपुर)। भरतपुर के वैर में अंधविश्वास के चलते एक मासूम बालक की हत्या कर परिजनों ने रात में ही उसका अंतिम संस्कार कर दिया। इस घटना के बारे में स्थानीय वाशिदों को सुबह खेत में मिली राख से पता चला । इस पूरे मामले में पुलिस ने परिवार के ही तीन सदस्यों को गिरफ्तार कर लिया हैं, जिनसे पूछताछ की जा रही हैं।

गौरतलब है कि खोहरी गांव में सुबह एक खेत में मिली राख से ग्रामीणों को किसी अनहोनी की आशंका ने घेर लिया जिसके चलते उन्होंने वैर पुलिस को इसकी सूचना दी। इस घटना की जानकारी मिलते ही मौके पर ग्रामीणों की भीड़ जमा हो गई, वहीं वैर पुलिस ने मौका मुआयना किया, साथ ही ग्रामीणों से पूछताछ में अंधविश्वास के चलते इस घटना को अंजाम देना बताया जा रहा हैं।

ग्रामीणों के अनुसार मृतक गब्बर उर्फ राजवीर पुत्र इंद्रजीत की हत्या अंधविश्वास को लेकर हुई हैं। मृतक का दादा बाबा भूरी सिंह तांत्रिक विद्या करता है और इसी के चलते इंद्रजीत ने किसी साधना या खजाने को पाने के लिए अपने छोटे नाती राजवीर की बलि दे दी और चुपचाप रात में स्वयं के ही खेत में उसका अंतिम संस्कार कर दिया। डेढ़ वर्ष पूर्व भूरी सिंह ने अपने बड़े नाती भूरा के साथ भी ऐसी ही घटना को अंजाम देने का प्रयास किया, लेकिन उसकी किस्मत अच्छी थी जो बच गया, जिसके बाद से वह रात को अपने घर पर नहीं ठहरता, बल्कि गांव में जाकर रुकता हैं।"

ग्रामीणों के मुताबिक, जानकारी के बाद पुलिस भूरी सिंह के घर पहुंची, जहां एक कमरे में उन्हे पूजन की सामग्री अगरबत्ती, अनाज और दीवार पर खून के छींटे भी मिले। इसके आधार पर पुलिस ने राजवीर के बड़े भाई बलवंत, पिता इंद्रजीत और दादा बाबा भूरी सिंह को गिरफ्तार कर लिया है और उनसे पूछताछ की जा रही है।

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

संबंधित ख़बरे

Most Related Stories

Stories You May be Interested in