उत्तर प्रदेश: एक फरवरी से प्रभावी होंगी, श्रमिकों के लिए प्रस्तावित 3 कल्याणकारी योजनाएं

उत्तर प्रदेश: एक फरवरी से प्रभावी होंगी, श्रमिकों के लिए प्रस्तावित 3 कल्याणकारी योजनाएं

उत्तर प्रदेश: एक फरवरी से प्रभावी होंगी, श्रमिकों के लिए प्रस्तावित 3 कल्याणकारी योजनाएं

प्रयागराजः उत्तर प्रदेश की श्रम कल्याण परिषद के अध्यक्ष सुनील भराला ने आज जानकारी देते हुए कहा है कि प्रदेश में श्रमिकों के लिए तीन कल्याणकारी योजनाएं एक फरवरी, 2021 से क्रियान्वयन में आ जाएंगी. प्रदेश के सर्किट हाउस में संवाददाताओं से बातचीत में भराला ने बताया है कि इनमें श्रमिक परिवारों के बच्चों के लिए चेतन चौहान खेल प्रोत्साहन कल्याण योजना के तहत धनराशि प्रदान की जाएगी.

जनपद में खेलने वाले खिलाड़ी को 25,000 रुपये, राज्य स्तर पर खिलाड़ियों को 50,000 रुपये, राष्ट्रीय स्तर पर खेलने वाले खिलाड़ियों को 75,000 रुपये और विश्व स्तर पर खेलने वाले खिलाड़ियों को एक लाख रुपये प्रोत्साहन राशि दी जाएगी. उन्होंने बताया है कि दूसरी योजना धार्मिक और पर्यटन यात्रा के लिए है. इसके तहत, श्रमिक के परिवारों को धार्मिक यात्रा के लिए सीधे श्रमिक के खाते में 12,500 रुपये डाले जाएंगे जिससे श्रमिक अपने परिवार के साथ तीर्थयात्रा कर सकें.

भराला ने बताया है कि तीसरी योजना श्रमिक के बच्चों को निःशुल्क पुस्तकें देने की है. इसके अलावा, श्रमिकों का वेतन 15,000 रुपये से बढ़ाकर 24,000 रुपये करने का प्रस्ताव श्रम कल्याण परिषद ने किया है. वर्तमान में प्रतिमाह 15,000 रुपये तक का वेतन पाने वाले श्रमिक इन योजनाओं का लाभ उठाने के पात्र हैं. उन्होंने कहा कि प्रदेश में बाल श्रमिकों से काम कराने पर रोक के लिए प्रदेश सरकार एक अभियान चलाएगी. श्रम कल्याण परिषद को प्रदेश में जगह- जगह पर बाल श्रमिकों से काम लिए जाने की शिकायतें मिली हैं. (सोर्स-भाषा)

 

और पढ़ें