VIDEO: विधानसभा अध्यक्ष सीपी जोशी की एक टिप्पणी से हैरत में पड़ा पूरा सदन, सीएम के दखल से कायम हुई शांति

VIDEO: विधानसभा अध्यक्ष सीपी जोशी की एक टिप्पणी से हैरत में पड़ा पूरा सदन, सीएम के दखल से कायम हुई शांति

जयपुर: विधानसभा में आज शून्यकाल में विधानसभा अध्यक्ष सीपी जोशी की एक टिप्पणी से पूरा सदन हैरत में पड़ गया. उन्होंने आसन पर खड़े होकर सदन को यह कह दिया कि इस कुर्सी पर बैठकर आज मैं खुद को प्रताड़ित महसूस कर रहा हूं. इस अप्रत्याशित टिप्पणी के बाद मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के हस्तक्षेप से सदन में शांति कायम हो सकी. 

राजस्थान विधानसभा में उठे किसानों, युवाओं व उद्योग जगत से जुड़े मामले 

अध्यक्ष सीपी जोशी की नाराजगी झेलनी पड़ी:
विधानसभा में शून्यकाल में विधायकों को विधानसभा अध्यक्ष सीपी जोशी की नाराजगी झेलनी पड़ी. विधानसभा में बीजेपी विधायक मदन दिलावर ने कोटा में नवजात बच्चों की मौतों का जब मामला उठाया तो चिकित्सा मंत्री डॉ रघु शर्मा ने सदन में जवाब देते हुए सदन में पिछले 5 साल में अस्पतालों में नवजातों की मौत के आंकड़े पढ़े. जिससे बीजेपी ही सदन में घिरती नज़र आने लगी. चिकित्सा मंत्री सदन में तैयारी के साथ आये थे, सरकार की ओर से कांग्रेस के सभी विधायकों को अखबार की एक कटिंग भी पहले ही दे दी गयी थी. जिसमें पिछली बीजेपी सरकार के समय चिकित्सा मंत्री रहते राजेन्द्र राठौड़ ने एक अस्पताल के निरीक्षण के बाद कहा था मैं शर्मिंदा हूँ. जब चिकित्सा मंत्री डॉ रघु शर्मा आंकड़े पढ़ रहे थे और पिछली बीजेपी सरकार पर आरोप लग रहे थे, तो बीजेपी विधायक इसका ज़ोरदार विरोध करते हुए नारेबाजी करने लगे. तभी संसदीय कार्यमंत्री शांति धारीवाल ने भी सदन में उपनेता प्रतिपक्ष राजेन्द्र राठौड़ को कहा आपने अपने कार्यकाल में कहा था मैं शर्मिंदा हूँ तो बीजेपी विधायकों ने वेल में आकर ज़ोरदार नारेबाजी कर दी.  

VIDEO: विधानसभा में कोटा के जेके लोन अस्पताल में बच्चों की मौत के मामले में हुआ हंगामा, चिकित्सा मंत्री ने दिया जवाब 

देवनानी ने अखबार की कटिंग का कागज़ फाड़ दिया:
नीमका थाना से कांग्रेस विधायक सुरेश मोदी अपना स्थान छोड़कर अखबार की उस कटिंग के साथ वेल के दूसरी ओर विपक्ष की ओर उपनेता प्रतिपक्ष राजेन्द्र राठौड़ और वासुदेव देवनानी की ओर चले आये. उन्होंने अखबार की कटिंग राजेन्द्र राठौड़ को दिखा दी. तभी वासुदेव देवनानी ने वह अखबार की कटिंग का कागज़ फाड़ दिया. देवनानी और अशोक लाहोटी ने हंगामा किया और फटे कागज़ के टुकड़े सत्तापक्ष की ओर फेंक दिये जो कि शांति धारीवाल के सामने जाकर गिरे. तब विधानसभा सदन में हंगामा और बढ़ गया. पक्ष-विपक्ष में फिर नोंक-झोंक नजर आई. नेता प्रतिपक्ष गुलाब चन्द कटारिया ने कहा किसी को सदन में एक-दूसरे तक जाने की अनुमति नहीं मिलनी चाहिये. नीमका थाना विधायक सुरेश मोदी अपना स्थान छोड़कर वेल के दूसरी ओर आ गए थे. इस पर संसदीय कार्यमंत्री शांति धारीवाल ने कहा यह भी नहीं होना चाहिए कि जो कागज दिया उसे फाड़ दें. फटे हुए कागज के टुकड़े अब भी पड़े हैं. इस पर आसन से अध्यक्ष डॉ. सीपी जोशी ने कहा सदन में आज जो कुछ हुआ उससे इस कुर्सी पर बैठकर मैं खुद को प्रताड़ित महसूस कर रहा हूं. हम सब की ज़िम्मेदारी बनती है कि सदन की गरिमा सभी मिल जुलकर बनाये रखें. सदन में जिस तरह नीमका थाना के विधायक आये वह वांछनीय नहीं है.  

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने दिया दखल:
इसके बाद मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने भी दखल दिया. उन्होंने कहा, यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि सदन में अध्यक्ष प्रताड़ित महसूस करे. हमें सदन की गरिमा का ध्यान रखना चाहिए. विपक्ष की असहमति का हम सम्मान करें, लेकिन केवल राजनीति के लिए कोई मुद्दा नहीं आए. दोनों पक्ष सदन की गरिमा का ध्यान रखें. 

Delhi Elections: विधायक दल के नेता चुने गए केजरीवाल, रविवार को लेंगे शपथ 

नियमों के अन्तर्गत ही प्रश्नकाल होगा:
आसन से अध्यक्ष डॉ. सीपी जोशी ने कहा प्रश्न की एक लिमिटेशन है. प्रश्न उठाने के कुछ तरीके हैं. चैम्बर में आकर इस पर बात करें. उन्होंने कहा नियमों के अन्तर्गत ही  प्रश्नकाल होगा. जनरल डिबेट की तरह इस पर चर्चा नहीं हो सकती. आप जिन मुद्दों पर सरकार का ध्यान आकर्षित करना चाहते हैं. उन पर बैठकर चर्चा कर सकते हैं.  पक्ष-विपक्ष पर समान रूप से नियम लागू होते हैं. 

...योगेश शर्मा नरेश शर्मा ऐश्वर्य प्रदान के साथ ऋतुराज शर्मा फर्स्ट इंडिया न्यूज़ जयपुर

और पढ़ें