'ऑटोमेशन के चलते भारत के 69% और चीन के 77% लोगों नौकरी ख़तरे में'

FirstIndia Correspondent Published Date 2016/10/06 13:18

वर्ल्ड बैंक की हालिया रिसर्च में कहा गया है कि भारत के 69 फीसदी और चीन के 77 फीसदी लोगों की नौकरी ऑटोमेशन के चलते खतरे में हैं। ऑटोमेशन का मतलब आर्टिफिशिएल  इंटेलीजेंस होता है, जहां इंसानों की जरूरत न पड़े। वर्ल्ड बैंक की इस रिसर्च में बताया गया है कि विकासशील देशों में तकनीक मौलिक रुप से अर्थव्यवस्था के पारंपरिक पैटर्न को बाधित या बदल सकती है। वल्र्ड बैंक के अध्यक्ष जिम किम ने बताया कि ऐसे में जब हम ग्रोथ को बढ़ाने के लिए बुनियादी ढांचे में अधिक निवेश को प्रोत्साहित करना जारी रखे हुए हैं।

 

हमें उन बुनियादी ढांचों पर भी गौर करना होगा, जिसकी भविष्य की अर्थव्यवस्था को जरूरत है। हम जानते हैं कि तकनीक मूल रूप से दुनिया को बदल देगी। ब्रूङ्क्षकग इंस्टीट्यूट में चर्चा के दौरान गरीबी के संबंध में पूछे गए सवाल का जवाब देते हुए किम ने कहा कि कृषि की उत्पादकता बढ़ाने एवं मैन्युफैक्चभरग को कम कर देने और फिर बड़े स्तर पर औद्योगीकरण का पारंपरिक आॢथक तरीका हर विकासशील देश के लिए संभव नहीं है।

 

उन्होंने कहा कि अफ्रीका के एक बड़े हिस्से में तकनीक इस पैटर्न (तरीके) को बदल सकती है। वल्र्ड बैंक के डेटा की मदद से किए गए अध्ययन के मुताबिक ऑटोमेशन के कारण भारत में 69 फीसदी नौकरियों पर खतरा मंडरा रहा है। चीन में यह आंकड़ा 77 फीसदी और इथियोपिया में 85 फीसदी तक है।

 


Automation, World bank, India, China, Tandem threat, Research, Employed

  
First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in