यूपी की योगी सरकार, 'कसौटी' पर दो साल में 'दंगामुक्ती के दावे'

FirstIndia Correspondent Published Date 2019/01/04 07:18

नई दिल्ली। उत्तर प्रदेश में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की सरकार को दो महीने बाद दो साल की होने जा रही है, वहीं नए साल की शुरूआत में सीएम योगी ने प्रदेश के दंगामुक्त होने का दावा किया है। इसको लेकर योगी ने माइक्रो-ब्लॉगिंग साइट ट्विटर पर ट्वीट किए हैं, जो इन दिनों सोशल मीडिया में जमकर वायरल हो रहे हैं। ऐसे में चर्चाएं इस बात को लेकर भी हो रही है कि सीएम योगी के ये दावे सच्चाई के कितने करीब हैं।

दरअसल, उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने नए साल की शुरूआत में 3 जनवरी को ट्वीट करते हुए लिखा है कि, 'मैंने उत्तर प्रदेश के बारे में लोगों की धारणा बदल दी है। दो साल पहले तक, लोग यूपी को ज्यादातर भ्रष्टाचार, विधिहीनता, अराजकता और दंगों के लिए जानते थे। सिर्फ देश में ही नहीं बल्कि देश के बाहर भी लोगों के मन में यूपी को लेकर यही धारणा थी।' अगले ट्वीट में उन्होंने लिखा कि 'मार्च में मेरे शासनकाल के दो वर्ष पूरे होंगे। मेरे अब तक के शासन में, कोई दंगा नहीं हुआ है।'

एक के एक लगातार कई ट्वीट कर सीएम योगी ने प्रदेश के दंगामुक्त होने के दावे किए। उन्होंने अपने ट्वीट में लिखा कि, 'हमने संगठित किस्म के अपराध पर एक हद तक काबू पा लिया है। हमने कानून के राज को मजबूत बनाया है। पारिवारिक झगड़े या निजी दुश्मनी के कुछ मामलों को छोड़ दें तो फिर पूरे प्रदेश में अब लोग सुरक्षित हैं।' वहीं दूसरी ओर सीएम योगी के इन ट्वीट्स पर कई कमेंट्स भी हैं, जो उनके इन दावों को सच्चाई से दूर बताते हैं। इसके साथ ही विभिन्न स्रोत बताते हैं कि यूपी में हुई कुछ घटनाएं ऐसी भी हैं, जो योगी के दावों के विपरीत नजर आती है।

योगी शासन में हुई प्रमुख घटनाएं :
— यूपी में मार्च 2017 में योगी आदित्यनाथ के सीएम बनने के करीब दो महीने बाद ही मई 2017 में सहारनपुर में जातीय हिंसा हुई। इस हिंसा में एक व्यक्ति की मौत हो गई और कई लोग घायल हुए थे।
— इसके बाद साल 2018 के जनवरी महीने में कासगंज में सांप्रदायिक हिंसा हुई। इस घटना में भी एक व्यक्ति की मौत हुई थी।
— 2018 के समाप्त होते होते ही दिसंबर के महीने में बुलंदशहर में गोकशी के नाम पर हिंसा हुई, जो कि कई समय तक लगातार सुर्खियों में बनी रही। इस घटना में एक पुलिस अधिकारी समेत दो लोगों की मौत हुई।
— इसके साथ ही साल 2018 समाप्त होने के महज कुछ दिनों पूर्व ही गाजीपुर में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की रैली के बाद हिंसा हुई। इसमें घटना में एक पुलिस वाले की मौत हो गई।

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in