भरतपुर में भोर तक चला कवियों का जादू, श्रोताओं से लगवाए ठहाके