राजस्थान में हीटवेव को लेकर जिला प्रशासन अलर्ट, जिम्मेदार विभागों को जारी किए गए निर्देश

जयपुर: राजधानी जयपुर में हीटवेव को देखते हुए जिला प्रशासन भी अलर्ट हो गया है. सभी जिम्मेदार विभागों को ताकीद किया गया है कि गर्मी को देखते हुए बचाव के सभी माकूल इंतजाम किए जाएं ताकि किसी प्रकार की शिकायत नहीं मिले. हीटवेव को देखते हुए कलक्टर ने प्रशासन के तमाम अधिकारियों को भी मुस्तैद रहने के निर्देश दिए गए हैं. 

जयपुर मौसम केंद्र के अनुसार रविवार को दिन में अधिकतम तापमान श्रीगंगानगर और अंता बारां में 46.7 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया. इसके अलावा, अधिकतम तापमान चूरू में 46.6 डिग्री, धौलपुर और जालौर में 46.5 डिग्री, कोटा में 46.2 डिग्री, पिलानी और करौली में 46.1 डिग्री, राजधानी जयपुर में 45.9 डिग्री, बाड़मेर और फलोदी में 45.8 डिग्री, जोधपुर में 45.6 डिग्री, जैसलमेर में 45.5 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया.

लू से बचाव के लिए क्या करें करें?
-कार्बोनेटेड सॉफ्ट ड्रिंक से बचें.
-सड़े-गले फल व बासी सब्जियों का सेवन बिल्कुल ना करें.
-घर के बने पेय जैसे लस्सी, नींबू का पानी, छाछ आदि का सेवन करें.
-हल्के रंग, ढीले, सूती कपड़े पहनें. 
-अगर घर से बाहर जाना हो तो अपना सिर ढककर निकलें.
-गर्मी में हमेशा पानी और पेय पदार्थो जैसे नींबू पानी, नारियल पानी, जूस आदि का प्रयोग करते रहें.

---लू लगने के लक्षण---
सिर का भारीपन व सिरदर्द.
अधिक प्यास लगाना और शरीर में भारीपन के साथ थकावट.
जी मिचलाना, सिर चकराना और शरीर का तापमान बढ़ना. 
अत्यधिक प्यास का लगना और बेहोशी जैसी हालात का होना.
उल्टी व दस्त का लग जाना.

---लू से बचने का प्राथमिक उपचार---
 लू से प्रभावित व्यक्ति के तापमान को कम करने के लिए पीड़ित के सिर पर गीले कपड़े का उपयोग करें/पानी डाले. व्यक्ति को ओआरएस या नीबू पानी समय- समय पर देते रहे. प्याज और पुदीने को दही में मिलकर अवश्य दें.