2019/09/11 02:07
मध्यप्रदेश में हो रही झमाझम बारिश के कारण चंबल के सबसे बड़े बांधों में लगातार पानी की आवक को देखते हुए जलसंसाधन विभाग को कोटा बैराज के 12 गेट खोलने पड़े. 12 गेटो को कुल 180 फीट खोलकर दो लाख 4 हजार क्यूसेक पानी की निकासी चंबल नदी की डाउन स्ट्रीम में की गई. 
2019/08/29 11:12
कोटा बैराज से हो रही पानी की लगातार निकासी के चलते अब धौलपुर से गुजरने वाली चम्बल नदी में लगातार पानी की आवक बढ़ने लगी है. फिलहाल चम्बल नदी का जलस्तर 130.90 मीटर है जो कि खतरे के निशान से 1 मीटर 11 सेंटीमीटर अधिक है.
2019/08/29 09:34
चंबल नदी पर बने बांधों में पानी की आवक को देखते हुए कोटा बैराज से आज भी भारी मात्रा में पानी की निकासी जारी रही है. 12 गेटों को खोल कर 1लाख 35 हज़ार क्यूसेक पानी चंबल नदी की डाउनस्ट्रीम में छोड़ा गया.
2019/08/27 12:50
आखिरकार पानी की अच्छी आवक के चलते लबालब हुए गांधीसागर बांध के गेट खोल दिए गए है. 2006 के बाद पहली बार गांधीसागर बांध के गेट खुले है. कैचमेंट एरिया में बारिश और पानी की आवक को देखते हुए फर्स्ट इंडिया ने इसके पहले ही संकेत दे दिए थे.
2019/08/26 01:56
कोटा बैराज से एक बार फिर पानी की निकासी शुरू हो गई है. आज चार गेटो के माध्यम से 9 हजार 916 क्यूसेक पानी को चंबल नदी की डाउन स्ट्रीम में छोड़ा गया.
2019/08/17 03:51
कोटा बैराज से छोड़े गए पानी की आवक से चम्बल नदी उफान पर है.   धौलपुर जिले के कई इलाकों में पानी भी पहुंच गया है तो लगभग डेढ़ दर्जन गाँव का संपर्क सड़क से टूट चुका है.
2019/08/17 10:01
कोटा बैराज से लगातार छोड़े जा रहे पानी की आवक से धौलपुर जिले से गुजरने वाली चंबल नदी इस समय रौद्र रूप में दिख रही है. चम्बल नदी का जलस्तर बढ़कर इस समय 139.80 पर पहुंच गया है जो कि खतरे के निशान से 10 मीटर ऊपर है.
2019/08/17 09:43
चंबल नदी में भारी उफान के कारण मंडरायल करणपुर क्षेत्र में हालात बिगड़ गए है. करीब एक दर्जन गांव पानी से घिरे हैं और उनका संपर्क कट गया है. वहीं प्रशासन ग्रामीणों को रेस्क्यू कर सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाने में मदद कर रहा है.
2019/08/16 12:53
प्रदेश में हो रही बारिश और कोटा बैराज से लगातार पानी छोड़े जाने के बाद धौलपुर जिले से गुजर रही चम्बल नदी का भी जल स्तर बढ़ने लगा है. जिले से होकर गुजर रही चम्बल नदी में पानी की लगातार आवक होने की वजह से नदी इस समय 133 मीटर के आसपास बह रही है.

-------Advertisement--------



-------Advertisement--------