2019/09/18 12:01
चंबल नदी का रौद्र रूप शांत होने के बाद अब पानी से हुई भारी तबाही सामने आ रही है. हनुमानगढ़ी इलाके में करीब 70 मकान पूर्णतया बह गए और 40 मकान बहुत अधिक क्षतिग्रस्त हो गए. इसके अलावा बापूनगर,सकतपुरा,दोस्तपुरा,गांवडी,खेडली फाटक में भी काफी नुकसान हुआ है.
2019/09/17 09:34
लगातार कोटा बैराज से छोड़े जा रहे पानी ने अपना कहर बरपा दिया है. धौलपुर जिले के कई गांवों में चम्बल नदी का पानी आने से बाढ़ के हालात बन गए है. चम्बल नदी से सटे गांव मेहंदपुरा,भूड़ा,पुरैनी,समेत कई गांवों में आमजन जीवन अस्तव्यस्त हो रहा है.
2019/09/16 03:22
आज लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला हाड़ौती दौरे पर पहुंचे. कोटा पहुंचते ही  लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला सीधे बाढ़ प्रभावित इलाकों में पहुंचे और इलाकों का दौरा करके अधिकारियों को आवश्यक दिशा निर्देश दिए.
2019/09/15 12:46
कोटा बैराज से लगातार छोड़े जा रहे पानी की आवक से धौलपुर जिले से गुजरने वाली चंबल नदी इस समय रौद्र रूप में दिख रही है. चम्बल नदी का जलस्तर बढ़कर इस समय 140.30 मीटर पर पहुंच गया है, जो कि खतरे के निशान से 10.51 मीटर ऊपर है.
2019/09/14 11:25
कोटा बैराज से लगातार छोड़े जा रहे पानी की आवक के चलते धौलपुर जिले से गुजरने वाली चंबल नदी इस समय रौद्र लेती जा रही है. चम्बल नदी का जलस्तर बढ़कर इस समय 137.60  मीटर पर पहुंच गया है जो कि खतरे के निशान से 7.81 मीटर ऊपर है.
2019/09/12 02:59
मध्यप्रदेश में भारी बारिश के कारण आज भी राजस्थान में हालात सामान्य नही हो सके. बरसाती पानी की आवक से कारण गांधी सागर बांध का वाटर लेवल 1311.44 फीट पर चल रहा है जिसको देखते हुए मध्यप्रदेश द्वारा लगातार 2 लाख क्यूसेक से अधिक पानी की निकासी की जा रही है.
2019/09/11 02:07
मध्यप्रदेश में हो रही झमाझम बारिश के कारण चंबल के सबसे बड़े बांधों में लगातार पानी की आवक को देखते हुए जलसंसाधन विभाग को कोटा बैराज के 12 गेट खोलने पड़े. 12 गेटो को कुल 180 फीट खोलकर दो लाख 4 हजार क्यूसेक पानी की निकासी चंबल नदी की डाउन स्ट्रीम में की गई. 
2019/08/30 03:25
घना पक्षी अभ्यारण्य के बाद अब शिक्षा नगरी कोटा देशी-विदेशी परिंदो की शरण स्थली के रूप में विकसित होता जा रहा है. चाहे वह साइबेरियन पक्षी हो या हिमालय की ब्लैक काइट या फिर सारस पक्षियों का जोडा.
2019/08/29 11:12
कोटा बैराज से हो रही पानी की लगातार निकासी के चलते अब धौलपुर से गुजरने वाली चम्बल नदी में लगातार पानी की आवक बढ़ने लगी है. फिलहाल चम्बल नदी का जलस्तर 130.90 मीटर है जो कि खतरे के निशान से 1 मीटर 11 सेंटीमीटर अधिक है.
2019/08/29 09:34
चंबल नदी पर बने बांधों में पानी की आवक को देखते हुए कोटा बैराज से आज भी भारी मात्रा में पानी की निकासी जारी रही है. 12 गेटों को खोल कर 1लाख 35 हज़ार क्यूसेक पानी चंबल नदी की डाउनस्ट्रीम में छोड़ा गया.
2019/08/28 09:41
प्रदेश के हाड़ौती अंचल में भारी बारिश के चलते चंबल के सबसे बड़े बांध गांधीसागर के मंगलवार को पांच गेट खोले गए है. वहीं कोटा बैराज के भी बीती रात कुल 19 गेट खोले गए है. पानी के दबाव को देखते हुए आज बैराज से पानी की निकासी तीन लाख क्यूसेक के तक करने की तैयारी जल संसाधन विभाग ने की है.
2019/08/27 12:50
आखिरकार पानी की अच्छी आवक के चलते लबालब हुए गांधीसागर बांध के गेट खोल दिए गए है. 2006 के बाद पहली बार गांधीसागर बांध के गेट खुले है. कैचमेंट एरिया में बारिश और पानी की आवक को देखते हुए फर्स्ट इंडिया ने इसके पहले ही संकेत दे दिए थे.

-------Advertisement--------



-------Advertisement--------