जयपुर Rajasthan Politics: जन आक्रोश यात्रा की तैयारियों को लेकर जयपुर में हुई कार्यशाला, पूनिया बोले- राहुल गांधी किसान कर्जमाफी घोषणा पूरी करके आएं राजस्थान

Rajasthan Politics: जन आक्रोश यात्रा की तैयारियों को लेकर जयपुर में हुई कार्यशाला, पूनिया बोले- राहुल गांधी किसान कर्जमाफी घोषणा पूरी करके आएं राजस्थान

Rajasthan Politics: जन आक्रोश यात्रा की तैयारियों को लेकर जयपुर में हुई कार्यशाला, पूनिया बोले- राहुल गांधी किसान कर्जमाफी घोषणा पूरी करके आएं राजस्थान

जयपुर: प्रदेश के सभी 200 विधानसभा क्षेत्रों की भाजपा जन आक्रोश यात्रा (BJP Jan Aakrosh Yatra) की तैयारियों को लेकर भाजपा प्रदेश अध्यक्ष डॉ. सतीश पूनियां, प्रदेश संगठन महामंत्री चंद्रशेखर, नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया, वरिष्ठ सांसद घनश्याम तिवारी, राष्ट्रीय प्रवक्ता राज्यवर्धन सिंह राठौड़ ने बुधवार को एक कार्यशाला को संबोधित किया. भाजपा ने आज अपने जिला व विधानसभा संयोजक व सह संयोजकों की कार्यशाला में सभी को आगामी दिनों का टास्क दे दिया. 

जन आक्रोश यात्रा कार्यशाला को संबोधित करते हुए डॉ. सतीश पूनियां ने कहा कि, प्रदेश में कांग्रेस सरकार के शासन में जनविरोधी नीतियों व वादाखिलाफी से हर वर्ग प्रताड़ित है, कोई नौजवान केवल 35 सौ रुपये कर्जे के कारण ना केवल अपनी जीवन लीला को समाप्त करता है, बल्कि पूरा परिवार अपने प्राणों को त्यागने को मजबूर होता है. 

 

जिस प्रदेश के मुखिया को किसी अबला के 35 टुकड़े किए जाने पर सामान्य घटना लगती है, महिलाओं के खिलाफ अपराधों का 1 वर्ष का आंकड़ा 6337 हो, प्रतिदिन औसत 17 बलात्कार, 7 हत्या, जिसके खाते में दर्ज हो, चार वर्षाो में सवा 8 लाख से अधिक मुकदमे राजस्थान की धरती पर पहली बार दर्ज होते हों. आपके घर नवजात पैदा होता होगा आप लोग खुशियां मनाते होंगे, लेकिन इसी कांग्रेस पार्टी के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की सरपरस्ती में जब कर्जे का आंकड़ा 5 लाख करोड़ के लगभग पहुंचता होगा तो वह बेटा-बेटी 80 हजार का कर्जा लेकर पैदा होता होगा.

राहुल गांधी को किसान कर्जमाफी का वादा पूरा करने की याद दिलाएंगे:
उन्होंने कोरोना काल का जिक्र करते हुए कहा कि भारतीय जनता पार्टी की परिवार की सेना के 685 लोग इसलिए चले गए कि उन्होंने अपनी जिंदगी की परवाह नहीं की, उन्होंने अपनी सेवा का पराक्रम करके अपने प्राण त्याग दिए. राहुल गांधी राजस्थान की धरती पर जब पहला कदम रखेंगे, मेरा पहला सवाल होगा किसान कर्जमाफी का वादा पूरा करने की याद दिलाने का. पता नहीं उस 2018 की जनसभा में किसने राहुल गांधी को पर्ची पहुंचाई और जब वो कह रहे थे कि 1 से 10 तक गिनती गिनूंगा किसानों का पूरा कर्जा माफ कर दूंगा. राजस्थान के 60 लाख किसान 1 लाख 20 हजार करोड़ के कर्जे की माफी का आज भी इंतजार करते हैं. राजस्थान की धरती पर यदि राहुल गांधी कदम रखें तो यह घोषणा पूरी करके आएं तो मानेंगे तुम्हारी बात में सच्चाई है. वरना आपके इस पाखंड को आप कितनी ही यातना कर लो राजस्थान का किसान, राजस्थान का जवान भलीभांति जानता है. 

कटारिया ने यात्रा में जनता को भी जोड़ने का सुझाव दिया:
नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया ने कहा कि यात्रा में जनता को भी जोड़ने का सुझाव दिया. जनता के मन में जिन बातों पर गुस्सा है. उन मुद्दों को भी शामिल किया जाएगा. यह आक्रोश सरकार के प्रति आप लोगों के मन में भी होना चाहिए. अभी तक आठ भर्ती परीक्षाओं के पेपर आउट हुए हैं. लेकिन सरकार ने कोई बड़ी मछली नहीं पकड़ी. बच्चों के मन में इस बात का गुस्सा है. हमारी आक्रोश रैली चले तो लगना चाहिए की जनता के मन में भी आक्रोश है. जनता और उनकी समस्याओं को जोड़ो. 

जन आक्रोश यात्रा क्रांति का एक नया अध्याय लिखेगी:
उन्होंने कहा कि आज भारतीय जनता पार्टी 52 हजार में से 48 हजार बूथों पर आप लोग सिपाही की तरह तैयार हो, युद्ध के लिए तैयार हो. कहा कि 200 विधानसभा क्षेत्रों में यह जन आक्रोश यात्रा राजस्थान में राजनीतिक बदलाव की क्रांति का एक नया अध्याय लिखेगी. प्रदेश महामंत्री भजनलाल शर्मा, प्रदेश उपाध्यक्ष सरदार अजयपाल सिंह, हेमराज मीणा, प्रदेश मुख्य प्रवक्ता रामलाल शर्मा, पूर्व मंत्री कालूलाल गुर्जर, गजेंद्र सिंह खींवसर, सुरेन्द्र पाल सिंह टीटी, प्रदेश मंत्री श्रवण सिंह बगड़ी, लक्ष्मीकांत भारद्वाज, मधु कुमावत भी उपस्थित रहे. बता दें कि आगामी दिनों में तमाम पदाधिकारी अपने-अपने क्षेत्रों में जाकर ऐसी बैठके आयोजित करके बड़ी तैयारियां करेंगे. देखना होगा कि जनता का कितना समर्थन इस यात्रा को मिलेगा.

और पढ़ें