जयपुर देश में भयंकर महंगाई व बेरोजगारी का दौर- CM गहलोत

देश में भयंकर महंगाई व बेरोजगारी का दौर- CM गहलोत

देश में भयंकर महंगाई व बेरोजगारी का दौर- CM गहलोत

जयपुर: राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने बृहस्पतिवार को कहा कि देश में भयंकर महंगाई का दौर है जिसने लोगों की कमर तोड़ दी है. उन्होंने कहा कि बेरोजगारी के कारण लोगों को नौकरी नहीं मिल रही. गहलोत सरदारशहर (चुरू) में विधानसभा उपचुनाव में कांग्रेस प्रत्याशी अनिल शर्मा के समर्थन में आयोजित चुनावी सभा को संबोधित कर रहे थे. बेरोजगारी व महंगाई को लेकर केंद्र सरकार पर निशाना साधते हुए मुख्यमंत्री ने कहा, 'भयंकर महंगाई का दौर है. देश में महंगाई ने कमर तोड़ दी परिवारों की. 

बेरोजगारी इतनी भयंकर है कि नौकरी नहीं लग रही लोगों की. वहीं राजस्थान सरकार ने 1.35 लाख नौकरियां दी हैं, 1.25 लाख नौकरियां प्रक्रियाधीन हैं तो एक लाख की मैंने और घोषणा कर रखी है.' उन्होंने कहा कि हम इतनी नौकरियां दे रहे हैं जो शायद कोई राज्य ही नहीं दे रहा.' गहलोत ने कहा, 'ये भाजपा वाले क्या समझे इन बातों को. इनका आजादी की जंग में कोई योगदान नहीं रहा. ना त्याग, न बलिदान, न कुर्बानी दी कभी. न कभी जेलों में बंद रहे. और महात्मा गांधी के जमाने से ही जो जेलों में बंद रहे... जवाहरलाल नेहरू, सरदार पटेल, मौलाना आजाद, अंबेडकर साहब ने बनाया संविधान उनको भुलाने का प्रयास हो रहा देश में. गहलोत ने कहा,' संविधान की धज्जियां उड़ रही हैं और लोकतंत्र खतरे में है. कांग्रेस उम्मीदवार शर्मा को जिताने की अपील करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि उनकी सरकार ने काम की कमी न तो पहले रखी है न अब रखेंगे. 

राज्य सरकार की योजनाओं का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा,'राजस्थान में एक करोड़ लोगों को पेंशन दे रहे हैं. आठ लाख किसानों के बिजली के बिल शून्य हो गए हैं. चार साल में 211 कॉलेज खोल दिए जिनमें से 90 कॉलेज लड़कियों के लिए हैं. उल्लेखनीय है कि भाजपा ने इस सीट पर अशोक पींचा को उम्मीदवार बनाया है. इस पर कटाक्ष करते हुए उन्होंने कहा कि भाजपा ने चार बार चुनाव हारे व्यक्ति को उम्मीदवार बना दिया क्योंकि उन्हें पता है कि वह नहीं जीतेंगे . इस अवसर पर गहलोत के साथ कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा व कई अन्य नेता तथा विधायक भी थे. वहीं कांग्रेस ने इस उपचुनाव के लिये स्टार प्रचारकों की सूची जारी की है जिसमें मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के साथ-साथ अजय माकन, गोविंद सिंह डोटासरा एवं सचिन पायलट का भी नाम है. सोर्स- भाषा

और पढ़ें