जोधपुर Jodhpur: भोपालगढ़ में किसान फील्ड डे का आयोजन, कृषि और पशुपालन से संबंधित किसानों को दी गई जानकारियां

Jodhpur: भोपालगढ़ में किसान फील्ड डे का आयोजन, कृषि और पशुपालन से संबंधित किसानों को दी गई जानकारियां

Jodhpur: भोपालगढ़ में किसान फील्ड डे का आयोजन, कृषि और पशुपालन से  संबंधित किसानों को दी गई जानकारियां

जोधपुर: केन्द्रीय शुष्क अनुसंधान केन्द्र काजरी के कृषि विज्ञान केन्द्र की ओर से ग्राम लवारी पंचायत समिति भोपालगढ़ (Bhopalgarh) में  किसान फील्ड डे आयोजन कर कृषि-उद्यानिकी और पशुपालन सम्बंधित उपयोगी जानकारी दी. इस दौरान बड़ी संख्या में किसानों ने इस आयोजन में भाग लेकर कृषि संबंधित काफी कुछ जानकारियां हासिल की जो कि आने वाले समय में उनके लिए काफी उपयोगी साबित होगी. 

इस आयोजन में मौके पर प्रगतिशील किसान सहित करीब 150 महिला और पुरूष किसानों ने मौजूद रहकर जानकारियां हासिल की.काजरी के शस्य विज्ञान विशेषज्ञ और क्षेत्र आयोजक डॉ आर आर मेघवाल के निर्देशन में जोधपुर (Jodhpur) के भोपालगढ़ पंचायत समिति ग्राम लवारी में किसान प्रशिक्षण आयोजन में बाजरा किस्म एचएचबी 299 का कुल 10 हेक्टर में प्रदर्शन किसानों के खेतों में आयोजित किया. इस किस्म का उत्पादन 35-37 दाना क्विंटल प्रति हेक्टर मिलता है. इस किस्म का सुखा चारा भी 80-90 क्विंटल तक प्राप्त होता है. 

किसान अच्छी उन्नत किस्म के बीजों के प्रयोग से उत्पादन भी अच्छा प्राप्त होता है. फसल बुवाई से लेकर कटाई तक की किसानों को समय-समय कृषि उन्नत तकनीकी ज्ञान को साझा किया. इस किस्म के बीज प्रर्दशन 10 हेक्टर क्षेत्र में 25 किसानों के यहां किया. अब फसल कटाई की ओर है. मौके पर आसपास क्षेत्र के किसानों को बाजरा फसल क्षेत्र का निरीक्षण करवा कर उन्नत तकनीकी विधियां अपनाने का आव्हान किया. मेघवाल ने बताया कि ग्राम लवारी में आयोजित किसान प्रशिक्षण मे कृषि उद्यानिकी, शिक्षा विभाग, पशुपालन विभाग से देय विभिन्न योजनाओं की विस्तृत जानकारी विशेषज्ञों के द्धारा दी गई. 

कृषि विज्ञान केन्द्र काजरी के अध्यक्ष डॉ भगवतसिंह राठौड़ ने कहा कि इस प्रशिक्षण का उदेश्य किसानों को समय-समय पर कृषि उद्यानिकी के नवाचार की जानकारी मिले और फसल और बागवनी का वांछित उत्पादन का लाभ हो. किसानों ने बाजरा प्रदर्शन खेत को पसंद किया. ऐसे ही खेती की ओर बढ़ने का संकल्प लिया.फिल्ड डे पर उपस्थित किसानों को उन्नत बीज, बीजोपचार, भूमि उपचार, निराईगुड़ाई, क्रान्तिक अवस्थाओं पर सिचांई, पौधसंरक्षण के उपाय, जैविक खेती, कीटनाशक छिड़काव में सावधानियां, पावर चलित कृषि यंत्रों के उपयोग में सावधानियों पर विस्तृत रूप से जानकारी दी गई.

किसानों से योजनाओं की जानकारी की साझा:

जिसमें विशेषकर काजरी जोधपुर कृषि विज्ञान केंद्र के अध्यक्ष डॉ भगवतसिंह राठौड़, डॉ पुनम, डॉ सुभाष कच्छावाहा, डॉ आर.पी. सिंह, इफको के क्षेत्रीय प्रबंधक जितेन्द्र कुमार भाकर, ब्लॉक शिक्षा अधिकारी अलफुराम, सहायक कृषि अधिकारी उद्यान रफीक अहमद कुरैशी इत्यादि ने अपने-अपने विभाग से सम्बंधित जैसे कृषि-उद्यानिकी से लेकर पशुपालन, शिक्षा विभाग और इफको उत्पाद तक की जानकारी उपस्थित अधिकारियों और किसानों से योजनाओं की जानकारी साझा की.

और पढ़ें