जयपुर जल जीवन मिशन में राजस्थान 30वें नंबर पर, अधिकारियों की सुस्ती से चाल धीमी

जल जीवन मिशन में राजस्थान 30वें नंबर पर, अधिकारियों की सुस्ती से चाल धीमी

जयपुर: हर घर नल से जल पहुंचानें के अभियान जल जीवन मिशन में राजस्थान लाख कोशिशों के बावजूद रैंकिंग ज्यादा नहीं सुधार पा रहा है. देश के राज्यों व केंद्र शासित प्रदेशों में राजस्थान अभी भी 30वें नंबर पर है. जलदाय मंत्री महेश जोशी हालांकि लगातार मॉनिटरिंग कर रहे हैं, लेकिन निचले स्तर पर अधिकारियों की सुस्ती ने अभियान की गति धीमी कर रखी है. 

जल जीवन मिशन के तहत देश के 50.07% ग्रामीण परिवारों को नल कनेक्शन मिल गया है. तीन साल से भी कम समय में हर घर जल का आंकड़ा 3.23 करोड़ से 9.57 करोड़ पर पहुंच गया. अब देश के 50 प्रतिशत से अधिक ग्रामीण परिवारों के पास नल कनेक्शन है. हालाकि, राजस्थान में जल जीवन मिशन की गति बेहद धीमी है. राज्य में 29.12% ग्रामीण परिवारों तक ही नल से जल पहुंचाया जा सका है. मिशन की शुरुआत के दौरान 11.11% ग्रामीण आवास नल कनेक्शन से जुड़े थे. हालांकि इस बीच प्रदेश में जेजेएम के तहत वृहद एवं लघु पेयजल परियोजनाओं (ओटीएमपी) ने गति पकड़ी है. जलदाय विभाग ने हाल ही में 167 गांवों के लिए 521.03 करोड़ रूपए की 62 ओटीएमपी की मंजूरी दी है. इन योजनाओं के माध्यम से प्रदेश में 62 हजार 930 हर घर जल कनेक्शन दिए जाएंगे.

जल जीवन मिशन की मौजदूा स्थिति:- 
- देश के 50.07% ग्रामीण परिवारों को नल कनेक्शन मिला
- हर घर जल का आंकड़ा 3.23 करोड़ से 9.57 करोड़ पर पहुंचा
- राजस्थान में 29.12% ग्रामीण परिवारों तक ही नल से जल पहुंच सका
- जलदाय विभाग ने दी है वृहद एवं लघु पेयजल परियोजनाओं को मंजूरी
- 167 गांवों के लिए 521.03 करोड़ रुपए की 62 ओटीएमपी की मंजूरी

विभाग ने जो स्वीकृतियां जारी की है, उनमें से सर्वाधिक 142.26 करोड़ रुपए की 19 ओटीएमपी डूंगरपुर जिले के लिए स्वीकृत की गई हैं. इन लघु योजनाओं के माध्यम से डूंगरपुर जिले के 19 गांवों में 16 हजार 10 जल कनेक्शन दिए जाएंगे. दूसरे नम्बर पर उदयपुर जिला है जहां 137.30 करोड़ रुपए की 15 ओटीएमपी स्वीकृत की गई हैं. इन लघु योजनाओं के माध्यम से उदयपुर जिले के 62 गांवों में 18 हजार 820 जल कनेक्शन दिए जाएंगे. इसी प्रकार धौलपुर जिले में 77.30 करोड़ रूपए की 3 ओटीएमपी के माध्यम से 31 गांवों में 5 हजार 217 जल कनेक्शन दिए जाएंगे. 

सिरोही जिले में 31.29 करोड़ की 5 ओटीएमपी स्कीम के माध्यम से 18 गांवों में 4 हजार 257 जल कनेक्शन, सीकर जिले में 49.81 करोड़ की 8 ओटीएमपी स्कीम से 8 गांवों में 7 हजार 900 जल कनेक्शन, प्रतापगढ़ में 25.56 करोड़ की 4 ओटीएमपी स्कीम से 4 गांवों में 3 हजार 394 जल कनेक्शन, श्रीगंगानगर जिले में 21.01 करोड़ की 2 ओटीएमपी स्कीम से 17 गांवों में 1095 जल कनेक्शन, अलवर में 12.60 करोड़ की 2 ओटीएमपी स्कीम से 2 गांवों में 2 हजार 62 जल कनेक्शन, सवाई माधोपुर में 7.78 करोड़ रूपए की एक ओटीएमपी स्कीम से 2 गांवों में 1982 जल कनेक्शन एवं चितौड़गढ़ जिले में 5.27 करोड़ रूपए की एक ओटीएमपी स्कीम से 2 गांवों में 690 जल कनेक्शन दिए जाएंगे.

जल जीवन मिशन में गति पकड़ने की कोशिश:- 
- विभाग ने 521 करोड़ रुपए की स्वीकृतियां जारी की
- सबसे ज्यादा 142.26 करोड़ रूपए की 19 ओटीएमपी डूंगरपुर जिले की
- डूंगरपुर जिले के 19 गांवों में 16 हजार 10 जल कनेक्शन दिए जाएंगे
- उदयपुर में 137.30 करोड़ रूपए की 15 ओटीएमपी स्वीकृत
- सीकर जिले में 49.81 करोड़ की 8 ओटीएमपी स्कीम मंजूर
- 8 गांवों में 7 हजार 900 जल कनेक्शन मिलेंगे सीकर जिले में

प्रदेश में अभी तक 30 लाख 80 हजार ग्रामीण घरों में जल कनेक्शन दिए जा चुके हैं. सर्वाधिक जल कनेक्शन नागौर, राजसमंद एवं हनुमानगढ़ में हुए हैं. विभाग द्वारा कुल स्वीकृत 134 वृहद परियोजनाओं में से 86 परियोजनाओं के तहत 9234 गांवों में 22.21 लाख जल संबंधों के लिए 10 हजार 835 करोड रुपए के कार्यादेश जारी हो चुके हैं. अन्य योजनाओं में 14,793 गांवों में 35.26 लाख जल संबंधों के लिए निविदाएं आमंत्रित कर ली गई हैं. इनमें से 27.08 लाख जल कनेक्शन के लिए कार्यादेश भी जारी कर दिए गए हैं.

और पढ़ें