मुंबई सेंसेक्स 762 अंक की छलांग के साथ 62,273 अंक के रिकॉर्ड स्तर पर, निफ्टी भी 217 अंक मजबूत

सेंसेक्स 762 अंक की छलांग के साथ 62,273 अंक के रिकॉर्ड स्तर पर, निफ्टी भी 217 अंक मजबूत

 सेंसेक्स 762 अंक की छलांग के साथ 62,273 अंक के रिकॉर्ड स्तर पर, निफ्टी भी 217 अंक मजबूत

मुंबई: स्थानीय शेयर बाजारों में बृहस्पतिवार को लगातार तीसरे कारोबारी सत्र में तेजी का सिलसिला जारी रहा और बीएसई का 30 शेयरों वाला सेंसेक्स 62,272.68 अंक के सर्वकालिक उच्चस्तर पर पहुंच गया.अमेरिकी केंद्रीय बैंक फेडरल रिजर्व की बैठक के ब्यौरे में ब्याज दरों में वृद्धि के नरम रुख से निवेशकों की धारणा को समर्थन मिला जिससे वैश्विक और स्थानीय बाजार में तेजी आई.

बीएसई का 30 शेयरों वाला सेंसेक्स 762.10 अंक यानी 1.24 प्रतिशत उछलकर 62,272.68 अंक के रिकॉर्ड उच्चस्तर पर बंद हुआ. कारोबार के दौरान एक समय यह 62,412.33 अंक के अपने सर्वकालिक उच्चस्तर पर पहुंच गया था. नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी भी 216.85 अंक यानी 1.19 प्रतिशत की बढ़त के साथ 18,484.10 अंक पर बंद हुआ. कारोबार में दौरान यह अपने 52 सप्ताह के उच्चस्तर 18,529.70 तक गया था.

जियोजीत फाइनेंशियल सर्विसेज के मुख्य निवेश रणनीतिकार वी के विजयकुमार ने कहा कि दो चीजों से सेंसेक्स रिकॉर्ड स्तर पर पहुंच गया. अमेरिका बाजार में तेजी, बॉन्ड पर प्रतिफल घटने और डॉलर की विनियम दर में गिरावट से बाजार की धारणा को बल मिला. उन्होंने कहा कि दूसरा, भारत में वृहत आर्थिक ऋण वृद्धि और पूंजीगत व्यय में लगातार वृद्धि के मजबूत आर्थिक संकेतों से भी बाजार को मजबूती मिली. कच्चे तेल की कीमतों में गिरावट से भी बाजार को समर्थन मिला.

सेंसेक्स के शेयरों में एचसीएल टेक्नोलॉजीज, इन्फोसिस, विप्रो, पावर ग्रिड, टेक महिंद्रा, टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज, हिंदुस्तान यूनिलीवर, एचडीएफसी, एचडीएफसी बैंक और महिंद्रा एंड महिंद्रा लाभ में रहे.दूसरी तरफ बजाज फिनसर्व, टाटा स्टील, बजाज फाइनेंस और कोटक महिंद्रा बैंक के शेयर गिरावट में रहे. एशिया के अन्य बाजारों में दक्षिण कोरिया का कॉस्पी, जापान का निक्की और हांगकांग का हैंगसेंग लाभ में रहा जबकि चीन के शंघाई कम्पोजिट में नुकसान रहा.

यूरोप के बाजारों में दोपहर के कारोबार में तेजी थी. अमेरिकी बाजार वॉल स्ट्रीट में बुधवार को तेजी दर्ज की गई.इस बीच, अंतरराष्ट्रीय तेल मानक ब्रेंट क्रूड 0.46 प्रतिशत की गिरावट लेकर 85.02 डॉलर प्रति बैरल पर आ गया. शेयर बाजार के आंकड़ों के अनुसार, विदेशी संस्थागत निवेशकों (एफआईआई) ने बुधवार को 789.86 करोड़ रुपये मूल्य के शेयर बेचे. (भाषा) 

और पढ़ें