सीकर VIDEO: रतन लाल को शहीद का दर्जा देने की मांग को लेकर ग्रामीणों ने किया हाईवे जाम, पार्थिव शरीर रखकर बैठे धरने पर

VIDEO: रतन लाल को शहीद का दर्जा देने की मांग को लेकर ग्रामीणों ने किया हाईवे जाम, पार्थिव शरीर रखकर बैठे धरने पर

सीकर: दिल्ली हिंसा में मारे गए हेड कांस्टेबल रतन लाल का पार्थिव देह को सड़क पर गाड़ी में रखकर लोग प्रदर्शन कर रहे हैं. रतन लाल के परिवार वाले और उनके गांव सीकर के तिहावली के ग्रामीण, गांव के पास मुख्य सड़क पर कार में पार्थिव शरीर रखकर धरने पर बैठे है. इनका कहना है कि सरकार जब तक रतन लाल को शहीद का दर्जा नहीं दे देती तबतक अंतिम संस्कार नहीं किया जायेगा. इसी बीच झुंझुनूं सांसद नरेंद्र खीचड़ भी धरना स्थल पर पहुंचे हैं. सांसद ग्रामीणों को समझाइश कर रहे हैं और जल्दही रतनलाल को शहीद का दर्जा देने की मांग पूरी होने की बात कह रहे हैं. लेकिन वहीं ग्रामीण अपनी मांगों पर अड़े हुए है. 

Donald Trump India Visit: सीएए पर बोले डोनाल्ड ट्रंप, भारत धार्मिक आजादी पर कर रहा हैं सही काम

इस मार्ग पर वाहनों की आवाजाही प्रभावित: 
जानकारी के अनुसार बड़ी संख्या में ग्रामीण सदिनसर गांव में एकजुट हुए और रतनलाल को शहीद का दर्ज़ा देने की मांग की. हाईवे जाम होने के बाद इस मार्ग पर वाहनों की आवाजाही प्रभावित है. पुलिस ने मौके पर पहुंचकर ग्रामीणों से समझाईश शुरू की है. फतेहपुर विधायक हाकम अली ने रतनलाल पर प्रतिक्रिया करते हुए कहा कि मुख्यमंत्री से बात कर शहीद का दर्जा देने की मांग की है. 

Donald Trump India Visit: पीएम मोदी बोले, भारत और अमेरिका के संबंध 21वीं सदी की सबसे महत्वपूर्ण साझेदारी

रतन लाल की मौत पत्थर लगने से नहीं बल्कि गोली लगने से हुई:
वहीं हेड कॉन्स्टेबल रतन लाल की मौत पत्थर लगने से नहीं बल्कि गोली लगने से हुई थी. पोस्टमार्टम रिपोर्ट के अनुसार रतनलाल एसीपी गोकुलपुरी दफ्तर पर तैनात थे. यहां नागरिकता संशोधन कानून का विरोध कर रहे और कानून के समर्थकों के बीच झड़प हुई. हिंसक लोगों की भीड़ को तितर-बितर करने पहुंचे पुलिसकर्मियों पर लोगों ने ईंट-पत्थर बरसाए. इस हमले में हेड कॉन्स्टेबल रतनलाल पूरी तरह जख्मी हुए और उनकी मौत हो गई. घटनास्थल पर मौजूद प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक, हवलदार रतनलाल भीड़ के बीच फंस गए. बुरी तरह से घायल कॉन्स्टेबल रतन लाल को तुरंत अस्पताल ले जाया गया. जहां इलाज के दौरान उनकी मौत हो गई.

और पढ़ें