पुरी में भगवान जगन्नाथ रथयात्रा का दूसरा दिन, 53 साल बाद इस साल पुरी की रथयात्रा दो दिनों की

नई दिल्ली: पुरी में भगवान जगन्नाथ रथयात्रा का आज दूसरा दिन है. 53 साल बाद इस साल पुरी की रथयात्रा दो दिनों की है. इससे पहले 1971 में भगवान जगन्नाथ रथ यात्रा दो दिन चली थी. 

स्नान पूर्णिमा पर बीमार हुए भगवान जगन्नाथ कल सुबह ठीक हुए. इसलिए रथ यात्रा से पहले होने वाले उत्सव भी कल मनाए गए. आज सुबह फिर से रथ खींचे गए. शाम तक रथयात्रा गुंडिचा मंदिर पहुंचेंगी. 

रथयात्रा में सबसे आगे बलभद्र का रथ है. बीच में बहन सुभद्रा और आखिरी में भगवान जगन्नाथ का रथ है. आपको बता दें कि जगन्नाथ रथ यात्रा में लगभग 10 लाख भक्त शामिल हुए है. अधिकांश लोग ओडिशा और पड़ोसी राज्यों से है. 

रथयात्रा में विदेशों से भी कई लोग शामिल हुए हैं. इतना ही नहीं इस रथ यात्रा में ओडिशा के मुख्यमंत्री मोहन माझी भी शामिल होने पुरी पहुंचे और उन्होंने पुरी के शंकराचार्य स्वामी निश्चलानंद सरस्वती से मुलाकात की.

तो वहीं जगन्नाथ रथ यात्रा के दौरान प्रसासन की तरफ से सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए हैं. करीब 5 हजार सुरक्षाकर्मियों की तैनाती की गई है. सुरक्षा की दृष्टी से प्रसासन की तरफ से आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस आधारित सीसीटीवी कैमरे भी लगाए गए हैं.