अहमदाबाद CM अरविंद केजरीवाल बोले- जांच एजेंसियों का इस्तेमाल जबरन वसूली के लिए किया जा रहा है

CM अरविंद केजरीवाल बोले- जांच एजेंसियों का इस्तेमाल जबरन वसूली के लिए किया जा रहा है

CM अरविंद केजरीवाल बोले- जांच एजेंसियों का इस्तेमाल जबरन वसूली के लिए किया जा रहा है

अहमदाबाद: दिल्ली के मुख्यमंत्री और आम आदमी पार्टी (AAP) के नेता अरविंद केजरीवाल ने सोमवार को केंद्र पर निशाना साधते हुए आरोप लगाया कि जांच एजेंसियों का इस्तेमाल जबरन वसूली के लिए किया जा रहा है, न कि भ्रष्टाचार को खत्म करने के लिए. रविवार को अहमदाबाद में आप के कार्यालय में "तीन पुलिसकर्मियों" द्वारा की गई कथित छापेमारी के बारे में केजरीवाल ने दावा किया कि पुलिसकर्मी पैसे के बारे में बात कर रहे थे.

उन्होंने कहा कि हम एक गरीब पार्टी हैं, जिसके पास पैसे नहीं हैं. पुलिसकर्मियों ने दो घंटे तक हमारे कार्यालय की तलाशी ली और चले गए. वे हमारे लोगों से पैसे के बारे में पूछ रहे थे. जब हमने कहा कि पैसा नहीं है तो वे चले गए. आज, अहमदाबाद पुलिस ने कहा कि कोई छापेमारी नहीं हुई. यह आश्चर्यजनक है. गुजरात के अहमदाबाद में एक कार्यक्रम में उन्होंने सवाल किया, "इस देश में क्या चल रहा है? क्या पुलिसिया सरकार ऐसे काम करती है? पुलिस किसी भी घर या कार्यालय में बिना वैध कागजात के प्रवेश कर रही है. अहमदाबाद पुलिस ने आप के इस दावे का खंडन किया है कि रविवार को उसके कार्यालय पर छापा मारा गया था. केजरीवाल ने कहा कि जब तक कारोबारी छापेमारी के डर से मुक्त नहीं होंगे, तब तक देश तरक्की नहीं कर सकता. उन्होंने राज्य में व्यावसायिक क्षेत्र से इस साल दिसंबर में होने वाले विधानसभा चुनाव में आप का समर्थन करने का आग्रह किया. उन्होंने कहा कि उनकी पार्टी की जीत का मतलब होगा कि आप के तीन मुख्यमंत्री (दिल्ली, गुजरात और पंजाब) होंगे, जिससे वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) के सरलीकरण के लिए उनके द्वारा उठाई जाने वाली आवाज केंद्र द्वारा सुनी जाएगी.

केजरीवाल ने कहा कि वे एजेंसियों के माध्यम से लोगों को भ्रष्टाचार खत्म करने के लिए नहीं, बल्कि जबरन वसूली के लिए डरा रहे हैं. सभी एजेंसियों का इस्तेमाल जबरन वसूली के लिए किया जा रहा है. जब तक देश के व्यापारी डर से मुक्त नहीं होंगे और स्वतंत्र रूप से व्यापार नहीं कर पाएंगे, तब तक देश प्रगति नहीं करेगा." आप नेता ने दावा किया कि आप सरकार भ्रष्टाचार मुक्त होगी और यह सुनिश्चित करेगी कि लोग छापे के डर के बिना स्वतंत्र रूप से व्यापार कर सकें और साथ ही राज्य तथा केंद्र स्तर पर जीएसटी प्रक्रिया को सरल बनाने की दिशा में काम किया जा सके. उन्होंने कहा कि अगर उनकी पार्टी गुजरात में जीतती है, तो उसके तीन राज्यों में मुख्यमंत्री होंगे और "जब तीन मुख्यमंत्री केंद्र के सामने अपनी आवाज उठाएंगे, तो हमें और अधिक सुना जाएगा". सोर्स- भाषा

और पढ़ें