नई दिल्ली Rajasthan Political Crisis: मल्लिकार्जुन खड़गे और अजय माकन पहुंचे दिल्ली, राजस्थान को लेकर अब सोनिया गांधी को सौंपेंगे अपनी रिपोर्ट

Rajasthan Political Crisis: मल्लिकार्जुन खड़गे और अजय माकन पहुंचे दिल्ली, राजस्थान को लेकर अब सोनिया गांधी को सौंपेंगे अपनी रिपोर्ट

Rajasthan Political Crisis: मल्लिकार्जुन खड़गे और अजय माकन पहुंचे दिल्ली, राजस्थान को लेकर अब सोनिया गांधी को सौंपेंगे अपनी रिपोर्ट

नई दिल्लीः कांग्रेस के वरिष्ठ नेता मल्लिकार्जुन खड़गे और राजस्थान कांग्रेस प्रभारी अजय माकन दिल्ली पहुंच गए हैं. राजस्थान के घटनाक्रम को लेकर एयरपोर्ट पर अजय माकन ने कहा कि सोनिया गांधी ने हमें पर्यवेक्षक बनाकर राजस्थान भेजा था. राजस्थान को लेकर अब सोनिया गांधी को अपनी रिपोर्ट सौंपेंगे. मैं और खड़गे जी 10, जनपथ जाकर मैडम को रिपोर्ट सौंपेंगे. वहीं खड़गे ने कहा कि जो घटनाएं हुई उनकी जानकारी देंगे. आलाकमान को पूरी जानकारी दी जाएगी.

इससे पहले राजस्थान में जारी सियासी घटनाक्रम के बीच प्रदेश कांग्रेस प्रभारी अजय माकन (Ajay Maken) का बयान सामने आया है. माकन ने मीडिया से वार्ता करते हुए कहा कि अभी कोई फैसला नहीं हुआ है. सोनिया गांधी (sonia gandhi) एक-एक विधायक की बात सुनेंगी. सीएम पद का कोई फैसला नहीं हुआ है. जो विधायक नहीं आए उनसे बात करेंगे. इसके साथ ही उन्होंने कहा कि सीएम के नाम पर 19 अक्टूबर के बाद ही फैसला होगा.

हम सभी विधायकों की बात सुनने आए हैं. इससे आगे बोलते हुए हुए अजय माकन ने कहा कि मंत्री शांति धारीवाल (Minister Shanti Dhariwal) के घर बुलाई गई बैठक अनुशासनहीनता है. रेजोल्यूशन  एक लाइन का होता है, शर्तों का नहीं होता. अजय माकन ने कहा, हमने कहा था कि हम सभी विधायकों से एक एक कर बात करेंगे लेकिन वो अड़े रहे कि हम ग्रुप्स में आएंगे. कांग्रेस की प्रथा रही है कि ऐसी स्थिति में सबसे अलग अलग बात की जाए. वहीं, विधायकों की मांग थी कि गहलोत के समर्थन में जो 102 विधायक हैं, उन्हीं में से सीएम बनाया जाए.

माकन ने कहा कि सचिन पायलट को सीएम न बनाया जाए. हमने विधायकों से कहा कि वे उन सभी की चिंताओं को कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के सामने रखेंगे. लेकिन विधायक अपनी शर्तों पर अड़े रहे. उन्होंने कहा कि कांग्रेस में इस तरह से शर्तों पर बात नहीं होती. हमने साफ किया था विधायकों को कि हम उनकी बात सोनिया गांधी तक पहुंचाएंगे. इसके बाद वे गहलोत से बात करेंगी और फैसला लिया जाएगा. 

और पढ़ें