पीएम मोदी बोले, खिलाड़ियों ने हमारा दिल ही नहीं जीता, युवा पीढी को प्रेरित भी किया है

पीएम मोदी बोले, खिलाड़ियों ने हमारा दिल ही नहीं जीता, युवा पीढी को प्रेरित भी किया है

पीएम मोदी बोले, खिलाड़ियों ने हमारा दिल ही नहीं जीता, युवा पीढी को प्रेरित भी किया है

नई दिल्ली: ओलंपिक में अब तक का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने वाले भारतीय खिलाड़ियों की तारीफ करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि उन्होंने हमारा दिल ही नहीं जीता बल्कि आने वाली पीढियों को प्रेरित करने का बहुत बड़ा काम किया है. भारत ने हाल ही में संपन्न तोक्यो ओलंपिक में अब तक का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करते हुए एक स्वर्ण सहित सात पदक जीते हैं.

प्रधानमंत्री मोदी ने स्वतंत्रता दिवस पर अपने भाषण में कहा कि ओलंपिक में भारत का नाम रोशन करने वाली युवा पीढी, ऐसे हमारे एथलीट , हमारे खिलाड़ी आज इस आयोजन में हमारे बीच में हैं. कुछ यहां है और कुछ सामने बैठे हैं. उन्होंने कहा कि मैं आज देशवासियों को , जो यहां मौजूद हैं उनको भी और हिंदुस्तान के कोने कोने में जो इस समारोह में मौजूद हैं ,उन सभी को मैं कहता हूं कि हमारे खिलाड़ियों के लिये आइये कुछ पल तालियां बजाकर उनका सम्मान करें .

प्रधानमंत्री ने कहा कि भारत के खेलों का सम्मान , भारत की युवा पीढी का सम्मान, भारत को गौरव दिलाने वाले युवाओं का सम्मान. देश , करोड़ो देशवासी आज तालियों की गड़गड़ाहट के साथ हमारे इन जवानों का देश की युवा पीढी का गौरव कर रहे हैं , सम्मान कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि खिलाड़ियों ने भारत की युवा पीढी को प्रेरित करने का बहुत बड़ा काम किया है.

उन्होंने कहा कि एथलीटों पर विशेष तौर पर हम ये गर्व कर सकते हैं कि उन्होंने हमारा दिल ही नहीं जीता है लेकिन उन्होंने आने वाली पीढियों को , भारत की युवा पीढी को प्रेरित करने का बहुत बड़ा काम किया है. तोक्यो ओलंपिक में नीरज चोपड़ा ने इतिहास रचते हुए भालाफेंक में स्वर्ण पदक जीतकर एथलेटिक्स में भारत को पहला पदक दिलाया. इसके अलावा भारतीय पुरूष हॉकी टीम ने मॉस्को ओलंपिक 1980 के बाद ओलंपिक में पहला पदक जीता और कांसे की हकदार रही. भारोत्तोलक मीराबाई चानू और पहलवान रवि दहिया ने रजत पदक जीते जबकि बैडमिंटन खिलाड़ी पी वी सिंधू , कुश्ती में बजरंग पूनिया और मुक्केबाजी में लवलीना बोरगोहेन को कांस्य पदक मिले.

और पढ़ें