नशे की लत के कारण 15 वर्षीय लड़की का ड्रग्स के बदले यौन शोषण

नशे की लत के कारण 15 वर्षीय लड़की का ड्रग्स के बदले यौन शोषण

नशे की लत के कारण 15 वर्षीय लड़की का ड्रग्स के बदले यौन शोषण

इंदौर (मध्यप्रदेश): ड्रग्स और शराब की लत कितनी बुरी हो सकती है इस बात का अंदाजा आप इस बात से लगा सकते हैं कि इनकी जरुरत पूरी करने के लिए एक नाबालिग को अपनी असमत देकर इस लत की कीमत चुकानी पड़ी. कुछ ऐसा ही मामला सामने आया है मध्यप्रदेश में. यहां ड्रग्स के बदले एक नाबालिग का यौन शोषण किया गया. पुलिस ने मामले में दो आरोपियों सहित चार लोगों को भी गिरफ्तार किया है.

नाबालिग का नशामुक्ति केंद्र में चल रही काउंसलिंगः
जानकारी के अनुसार ड्रग्स के बदले यहां 15 वर्षीय लड़की के यौन शोषण का खुलासा करते हुए दो मुख्य आरोपियों समेत चार लोगों को गिरफ्तार किया गया है. पुलिस के एक अधिकारी ने शुक्रवार को यह जानकारी दी. अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक (एएसपी) राजेश रघुवंशी ने संवाददाताओं को बताया कि आरोपियों की पहचान अमन वर्मा और आकाश उर्फ गजनी के रूप में हुई है. उन्होंने बताया कि पीड़ित लड़की फिलहाल शहर के एक नशामुक्ति केंद्र में है और ड्रग्स के बदले उसका कथित यौन शोषण करने वाले दोनों आरोपी उसके परिचित हैं.

ड्रग्स की जरूरत और शर्म के कारण नहीं खोल पाई अपना मुंहः
एएसपी राजेश रघुवंशी ने बताया कि दोनों आरोपियों ने नाबालिग लड़की को करीब छह महीने पहले ब्राउन शुगर तथा शराब का नशा कराया और उसके साथ कथित तौर पर दुष्कर्म किया. एएसपी ने बताया कि किशोरी को ड्रग्स की लत लगाने के बाद अमन और गजनी ने पिछले छह महीने के दौरान शहर के एक होटल में भी उसका कथित तौर पर यौन शोषण किया. लेकिन ड्रग्स की जरूरत और शर्म के कारण वह परिजनों को आपबीती सुनाने की हिम्मत नहीं जुटा सकी. उन्होंने बताया कि नशामुक्ति केंद्र में पुलिस की काउंसलिंग के दौरान लड़की ने ड्रग्स के बदले अपने यौन शोषण की बात बताई

ड्रग्स उपलब्ध कराने वाले भी गिरफ्तारः
एएसपी राजेश रघुवंशी ने बताया कि दोनों आरोपियों के खिलाफ लैंगिक अपराधों से बच्चों का संरक्षण अधिनियम (पॉक्सो एक्ट) के साथ ही भारतीय दंड विधान के संबद्ध प्रावधानों के तहत मामला दर्ज किया गया है. उन्होंने बताया कि अमन और गजनी को ड्रग्स उपलब्ध कराने वाले एक व्यक्ति और एक महिला को भी गिरफ्तार किया गया है. आरोपियों से पूछताछ के साथ ही मामले की विस्तृत जांच जारी है.
सोर्स भाषा

और पढ़ें