जोधपुर में बेटे को डूबता देख बहन और मां बचाने डिग्गी में कूदी, तीनों की हुई मौत, मृतका दोनों बच्चों को लेकर गई थी छुट्टियां मनाने मायके

जोधपुर: जोधपुर ग्रामीण थाना क्षेत्र में शुक्रवार को एक दर्दनाक घटना हुई, जिसमे एक मां बेटे और बेटी की पानी की ओर में डूबने से मौत हो गई. अपनी आंखों के सामने बेटा-बेटी को डूबता देख मां बचाने के लिए हौद में कूद गई. हादसे में तीनों की मौत हो गई. घटना जोधपुर के पीपाड़ शहर के बाड़ा खुर्द की शुक्रवार सुबह 10 बजे की है. भाई-बहन मां के साथ 10 दिन पहले ही नाना-नानी के घर आए थे. 

ग्रामीण एसपी धर्मेंद्र सिंह यादव ने बताया कि संतोष कंवर (43) पत्नी गोविंद सिंह राजपुरोहित निवासी घेनडी पाली, उसकी बेटी दिव्या कंवर (15) और बेटे हनी सिंह (12) की मौत हो गई. संतोष का पीहर बाड़ा खुर्द में था. संतोष सुबह बेटी दिव्या और बेटे हनी सिंह को लेकर खेत में बने हौद पर कपड़े धोने गई थी. हनी हौद के पास ही खेल रहा था. तभी अचानक उसका पैर फिसला और वह हौद में गिर गया. भाई को डूबता देख उसे बचाने के लिए दिव्या भी कूद गई, लेकिन वह भी डूबने लगी.

दोनों बच्चों को डूबता देखा तो संतोष भी उन्हें बचाने के लिए हौद में कूदी और वह भी डूब गई. हादसे के बाद शवों को पीपाड़ हॉस्पिटल ले जाया गया. महिला के भाई विजेंद्र सिंह की ओर से भी थाने में डूबने से मौत का कारण बताया गया है. हादसे के बाद शवों को पीपाड़ हॉस्पिटल ले जाया गया. महिला के भाई विजेंद्र सिंह की ओर से भी थाने में डूबने से मौत का कारण बताया गया है.

जहां ये हादसा हुआ वहां से 500 मीटर की दूरी पर ही खेड़ी सालवा रेलवे स्टेशन है. हादसे के दौरान किशन सिंह नाम का युवक पास के ही खेत में काम कर रहा था. उसने तीनों को डूबता देखा तो बचाओ-बचाओ की आवाज लगाते हुए स्टेशन पहुंचा. इसके बाद वहां मौजूद लोग घटना स्थल पर पहुंचे और तीनों को बाहर निकाला. तीनों को पीपाड़ शहर के हॉस्पिटल में लाया गया, जहां मृत घोषित कर दिया गया.