इंदौर सचिन तेंदुलकर ने किया नेक काम, पहली बार स्टेडियम में मैच देखने इंदौर पहुंचे 55 आदिवासी बच्चे

सचिन तेंदुलकर ने किया नेक काम, पहली बार स्टेडियम में मैच देखने इंदौर पहुंचे 55 आदिवासी बच्चे

सचिन तेंदुलकर ने किया नेक काम, पहली बार स्टेडियम में मैच देखने इंदौर पहुंचे 55 आदिवासी बच्चे

इंदौर: महान बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर ने मध्यप्रदेश के सीहोर जिले के 55 आदिवासी बच्चों को सोमवार को इंदौर के होलकर स्टेडियम में इंडिया लीजेंड्स और न्यूजीलैंड लीजेंड्स के बीच रोड सेफ्टी वर्ल्ड सीरीज का टी-20 मैच देखने के लिए आमंत्रित किया. 

यह आमंत्रण परमार्थिक संगठन सचिन तेंदुलकर फाउंडेशन (एसटीएफ) की पहल के तहत दिया गया. स्पर्धा के आयोजकों की जारी विज्ञप्ति में यह जानकारी दी गई. विज्ञप्ति के मुताबिक 55 आदिवासी बच्चे अपने जीवन में पहली बार किसी स्टेडियम में अंतरराष्ट्रीय स्तर का क्रिकेट मैच के गवाह बनने पहुंचे थे. हालांकि, ये मैच बारिश के कारण बाधित हुआ.

आखिरी पल तक मैच बहाल होने की उम्मीद:
बाद में भीगे मैदान की स्थिति देखकर मुकाबला बिना किसी नतीजे के रद्द कर दिया गया. बारिश की शुरुआत से पहले, मुकाबले में कुछ देर बल्लेबाजी कर सके इंडिया लीजेंड्स के कप्तान सचिन तेंदुलकर ने अपने साथी खिलाड़ियों के साथ होलकर स्टेडियम का चक्कर लगाते हुए करीब 20,000 दर्शकों को धन्यवाद दिया जो आखिरी पल तक मैच बहाल होने की उम्मीद लगाए बैठे थे.

विज्ञप्ति में बताया गया कि इंडिया लीजेंड्स के कप्तान के रूप में मैच खेलने के लिए होलकर स्टेडियम के मैदान पर उतरने से पहले, तेंदुलकर ने इन बच्चों के साथ संवाद किया और उनसे जीवन में अपने कुछ सिद्धांतों के बारे में चर्चा की.

फाउंडेशन के साथ मिलकर काम कर रहे हैं:
तेंदुलकर ने बच्चों से कहा कि जीवन चुनौतियों से भरा है, लेकिन जो व्यक्ति जीवन में सभी चुनौतियों का समाधान ढूंढता है, वही असली विजेता होता है. विज्ञप्ति के मुताबिक एसटीएफ के माध्यम से तेंदुलकर मध्यप्रदेश के दूर-दराज के कुछ इलाकों में आदिवासी बच्चों की बेहतरी के लिए विनायक लोहानी के परिवार फाउंडेशन के साथ मिलकर काम कर रहे हैं. सोर्स-भाषा 

और पढ़ें