कोविड-19 के बढ़ते कहर के बीच खुले गंगोत्री मंदिर के कपाट , किसी श्रद्धालु को आने की अनुमति नहीं

कोविड-19 के बढ़ते कहर के बीच खुले गंगोत्री मंदिर के कपाट , किसी श्रद्धालु को आने की अनुमति नहीं

 कोविड-19 के बढ़ते कहर के बीच खुले गंगोत्री मंदिर के कपाट , किसी श्रद्धालु को आने की अनुमति नहीं

उत्तरकाशी (उत्तराखंड): कोविड-19 के बढ़ते कहर के बीच गंगोत्री मंदिर के कपाट एक सादे समारोह में शनिवार को खोल दिए गए. इस समारोह में मंदिर के पुजारियों और प्रशासन के कुछ लोगों समेत चुनिंदा लोग शामिल हुए. गंगोत्री मंदिर के पुजारी रवींद्र सेमवाल ने बताया कि अक्षय तृतीया के अवसर पर सुबह सात बजकर 31 मिनट पर वैदिक मंत्रोच्चारण के बीच और विशेष पूजा के साथ मंदिर के द्वार खोले गए.

उन्होंने बताया कि इस दौरान कोविड-19 संबंधी सभी प्रोटोकॉल का पालन किया गया और प्रशासन एवं मंदिर समिति के चुनिंदा लोगों को इस समारोह में शामिल होने की अनुमति दी गई. उन्होंने बताया कि मंदिर के कपाट खुलने के बाद पहली पूजा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नाम से की गई.

वैश्विक महामारी के मद्देनजर इस साल गंगोत्री मंदिर समेत उत्तराखंड में चारधाम यात्रा रद्द कर दी गई है, लेकिन नियमित पूजा के लिए मंदिरों के कपाट खोल दिए गए हैं. यमुनोत्री के कपाट 14 मई को खोले गए थे. केदारनाथ के कपाट 17 मई और बद्रीनाथ के कपाट 18 मई को खोले जाएंगे.

और पढ़ें