Rajasthan By Election: धरियावद और वल्लभनगर उप चुनाव में बगावत से जूझ रहे दोनों दल, दोनों ही सीटों पर त्रिकोणीय मुकाबले के आसार

Rajasthan By Election: धरियावद और वल्लभनगर उप चुनाव में बगावत से जूझ रहे दोनों दल, दोनों ही सीटों पर त्रिकोणीय मुकाबले के आसार

जयपुर: धरियावद और वल्लभनगर उप चुनाव की रणनीतिक चौसर बिछ चुकी है. कांग्रेस और भाजपा ने अपने-अपने उम्मीदवार घोषित कर दिए. दोनों ही पार्टियों में बगावत भी नजर आ रही है, विरोधी दलों के साथ ही उम्मीदवारों का अपनों से भी सामना होगा. ऐसे में दोनों ही सीटों पर त्रिकोणीय मुकाबले के आसार है. चुनावी घमासान चरम पर दिखेगा. उधर प्रदेश कांग्रेस अपनी चुनावी रैलियों से एकता का संदेश देगी, अरसे बाद सीएम अशोक गहलोत और सचिन पायलट एक साथ चुनावी हुंकार भरेंगे. वल्लभनगर से दिवंगत विधायक गजेंद्र सिंह शक्तावत को पायलट समर्थक माना जाता था. वल्लभनगर सीट पर कांग्रेस और बीजेपी के टिकटों की घोषणा के साथ ही बगावत की बयार भी बह गई. 

पहले बात करते है वल्लभनगर विधानसभा उप चुनाव की. वल्लभनगर से कांग्रेस ने प्रीति कंवर शक्तावत और बीजेपी ने हिम्मत सिंह झाला को टिकट दिए है. कांग्रेस ने इमोशनल कार्ड खेलते हुए दिवंगत विधायक गजेंद्र सिंह शक्तावत की पत्नी प्रीति को टिकट दे दिया जैसा पहले से लग ही रहा था, टिकट घोषित होते ही शक्तावत परिवार के बीच की कलह सामने आ गई. दिवंगत विधायक के भाई देवेंद्र सिंह शक्तावत ने निर्दलीय ताल ठोकने का ऐलान कर दिया है. उन्हे कांग्रेस के अन्य विद्रोही नेताओं का साथ भी मिल सकता है. 

रणधीर सिंह भिंडर ने अपने दम पर ताल ठोक दी:
सहाड़ा फार्मूले के तहत उन्हें मानने की कोशिश हो रही है. तो वहीं बीजेपी विचाराधारा के रणधीर सिंह भिंडर ने अपने दम पर ताल ठोक दी, बीजेपी ने भिंडर परिवार पर भरोसा नहीं जता कर हिम्मत सिंह झाला को टिकट थमा दिया. हुआ वही जो नेता प्रतिपक्ष गुलाब चंद कटारिया ने चाहा नहीं लेने दिया रणधीर सिंह भिंडर और उनकी पत्नी दीपेंद्र सिंह भिंडर को टिकट. यहां कटारिया समर्थक उदय लाल डांगी भी टिकट नहीं मिलने से नाराज है. 

धरियावद में कांग्रेस ने पूर्व विधायक नगराज मीणा पर भरोसा जताया:
धरियावद विधानसभा उप चुनाव में कांग्रेस ने पूर्व विधायक नगराज मीणा पर भरोसा जताया. दूसरी ओर बीजेपी ने टिकट दिया है गुलाब चंद कटारिया समर्थक खेत सिंह मीणा को. जबकि साफ लग रहा था कि दिवंगत विधायक गौतम लाल मीणा के बेटे कन्हैया लाल मीणा को टिकट मिलेगा, ऐसा नहीं हुआ, इससे बगावत पनप गई है. उधर कांग्रेस में भी नगराज मीणा के टिकट के बाद अंदुरूनी कलह पनप गई है, प्रतापगढ़ विधायक रामलाल मीणा का कैंप नगराज मीणा के खिलाफ था. बहरहाल टिकट वितरण के बाद पीसीसी चीफ गोविंद सिंह डोटासरा और बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनिया डैमेज कंट्रोल में जुट गए है. 

कांग्रेस अपने चुनाव प्रचार के आगाज में एकजुटता को प्रदर्शित करेगी:
डैमेज कंट्रोल की पहली कवायद में कांग्रेस अपने चुनाव प्रचार के आगाज में एकजुटता को प्रदर्शित करेगी. सीएम गहलोत और सचिन पायलट चुनावी मंच पर एक साथ होंगे. मतदान से पहले जो पार्टी बगावत को थाम लेगी वो जीत की दहलीज पर नजर आएगी. 

...फर्स्ट इंडिया के लिए योगेश शर्मा की रिपोर्ट

और पढ़ें