UP सरकार ने स्टूडेंट्स को दी राहत, UG फर्स्ट और सेकेंड ईयर के 30 लाख छात्रों को करेगी प्रमोट

UP सरकार ने स्टूडेंट्स को दी राहत, UG फर्स्ट और सेकेंड ईयर के 30 लाख छात्रों को करेगी प्रमोट

लखनऊ: उत्तर प्रदेश में ग्रेजुएशन (UG) और पोस्ट ग्रेजुएशन (PG Post Graduation) कर रहे करीब 30 लाख स्टूडेंट्स के लिए राहत की खबर है. इस बार भी राज्य सरकार UG में फर्स्ट और सेकेंड ईयर वालों के साथ PG फर्स्ट ईयर के स्टूडेंट्स को बगैर परीक्षा के प्रमोट करने की तैयारी में है. UG फाइनल ईयर (Final Years) के स्टूडेंट्स को परीक्षाएं देनी होंगी, जो जून-जुलाई में हो सकती हैं. इसमें BA, BSC, B.COM जैसे कोर्स शामिल हैं.
 
कमेटी की रिर्पोट के बाद हो सकता है ऐलान:
सूत्रों के मुताबिक, जिन स्टूडेंट्स की पढ़ाई सेमेस्टर प्रक्रिया के तहत होती है, उनके भी 1 से 5वें सेमेस्टर तक के एग्जाम नहीं कराने की तैयारी है. फाइनल सेमेस्टर (Final Semester) के एग्जाम भी जून या जुलाई में हो सकते हैं. इनमें बीटेक, फार्मेसी, मैनेजमेंट जैसे कोर्स शामिल हैं. सरकार इसका मूड बना चुकी है. फिलहाल, 3 कुलपतियों की कमेटी बनाकर इस बारे में रिपोर्ट मांगी है. इसके बाद सरकार इसका ऐलान कर सकती है.

3 कुलपतियों की कमेटी बनी:
परीक्षाओं को लेकर सरकार की तरफ से अभी अंतिम फैसला होना बाकी है. प्रदेश सरकार ने इसके लिए 3 कुलपतियों की कमेटी बनाई है. इस कमेटी को 7 दिन के अंदर परीक्षाओं को लेकर अपनी रिपोर्ट सरकार को देनी होगी. इस कमेटी में लखनऊ यूनिवर्सिटी (Lucknow University) के कुलपति प्रो. आलोक राय, कानपुर यूनिवर्सिटी (Kanpur University) के कुलपति प्रो. विनय कुमार पाठक और रुहेलखंड यूनिवर्सिटी बरेली (Ruhelkhand University Bareilly) के कुलपति प्रो. कृष्ण पाल सिंह शामिल हैं.

जल्द ही होगी कमेटी की पहली बैठक:
प्रो. विनय कुमार पाठक ने बताया कि जल्द ही कमेटी की पहली बैठक होगी. इसमें मौजूदा हालात और स्टूडेंट्स के करियर (Career) को ध्यान में रखते हुए उचित फैसला लिया जाएगा. 
 

और पढ़ें